Aapni Agri
पशुपालन

43 Indigenous Breeds of Cow: जानें भारत में पाई जाने वाली गायों की सभी नस्लों के बारे में

43 Indigenous Breeds of Cow
Advertisement

43 Indigenous Breeds of Cow: गाय का नाम तो अक्सर सुर्खियों में रहता है लेकिन उनकी नस्ल के बारे में शायद ही कोई जानता होगा। भारत में साहीवाल, गिर, थारपारकर और रेड सिंधी सहित कई अन्य स्वदेशी नस्लें हैं जो भारतीय पशु आनुवंशिक संस्थान ब्यूरो के साथ पंजीकृत हैं।

43 Indigenous Breeds of Cow: भारतीय पशु आनुवंशिक संस्थान ब्यूरो के अनुसार हमारे देश में 43 प्रकार की देशी नस्ल की गायें हैं। आइए आपको बताते हैं इन सभी देशी नस्ल की गायों के बारे में पूरी जानकारी-

अमृतमहल (कर्नाटक)

इस प्रजाति के मवेशी कर्नाटक राज्य के मैसूर जिले में पाए जाते हैं। इस नस्ल का रंग खाकी, सिर और गर्दन काली, सिर लंबा और मुंह और नाक कम चौड़े होते हैं। इस नस्ल के बैल मध्यम कद के और फुर्तीले होते हैं। गायें कम दूध देती हैं.

Advertisement

Also Read: Azolla is the Best Green Fodder for Animals: पशुओं के लिए सर्वोत्तम हरा चारा है अजोला, जानिए इसे उगाने की पूरी विधि

43 Indigenous Breeds of Cow: बछौर (बिहार)

इस नस्ल के मवेशी बिहार प्रांत के अंतर्गत सीतामढी जिले के बछौर और कोइलपुर परगने में पाए जाते हैं। इस नस्ल के बैलों का उपयोग खेतों में किया जाता है। इनका रंग खाकी, माथा चौड़ा, आंखें बड़ी और कान लटके हुए होते हैं।

43 Indigenous Breeds of Cow: बछौर (बिहार)
43 Indigenous Breeds of Cow: बछौर (बिहार)
बरगुर (तमिलनाडु)

43 Indigenous Breeds of Cow: बरगुर नस्ल के मवेशी तमिलनाडु के बरगुर नामक पहाड़ी क्षेत्र में पाए जाते थे। इस जाति की गायों का सिर लंबा, पूँछ छोटी और माथा उभरा हुआ होता है। बैल बहुत तेज़ चलते हैं. गाय द्वारा दिये जाने वाले दूध की मात्रा कम होती है।

Advertisement
डांगी (महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश)

इस प्रजाति के मवेशी अहमद नगर, नासिक और अंगस क्षेत्र में पाए जाते हैं। गाय का रंग लाल, काला और सफेद होता है। गायें कम दूध देती हैं.

Also Read: Protect Crops from Nilgai: नीलगाय और आवारा जानवरों से फसल को बचाएंगे ये घरेलू नुस्खे

43 Indigenous Breeds of Cow: बछौर (बिहार)डांगी (महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश)
43 Indigenous Breeds of Cow: बछौर (बिहार)डांगी (महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश)
गिर (गुजरात)

43 Indigenous Breeds of Cow: गिर गाय को भारत की सबसे अधिक दूध देने वाली गाय माना जाता है। यह गाय एक दिन में 50 से 80 लीटर तक दूध देती है. इस गाय के थन बहुत बड़े होते हैं. इस गाय का मूल स्थान काठियावाड़ (गुजरात) के दक्षिण में गिर वन है, जिसके कारण इसका नाम गिर गाय पड़ा। भारत के अलावा विदेशों में भी इस गाय की काफी मांग है. ये गायें मुख्य रूप से इजराइल और ब्राजील में भी पाली जाती हैं।

Advertisement
हल्लीकर (कर्नाटक)

हल्लीकर के मवेशी सर्वाधिक मैसूर (कर्नाटक) में पाए जाते हैं। इस नस्ल की गायों की दूध देने की क्षमता बहुत अच्छी होती है।

हरियाणा (हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान)

43 Indigenous Breeds of Cow: इस नस्ल की गायें सफेद रंग की होती हैं। इनसे दूध का उत्पादन भी अच्छा होता है. इस नस्ल के बैल खेती में अच्छा काम करते हैं इसलिए हरियाणवी नस्ल की गायों को हरफनमौला कहा जाता है।

कंगायम (तमिलनाडु)

इस प्रजाति की गायें बहुत फुर्तीली होती हैं। इस जाति के मवेशी कोयंबटूर के दक्षिणी इलाकों में पाए जाते हैं। कम दूध देने के बावजूद भी यह गाय 10-12 साल तक दूध देती है।

Advertisement

Also Read: Wheat MSP Price 2024-25: 2400 रुपये प्रति क्विंटल एमएसपी पर गेहूं खरीदेगी सरकार, किसान रखें इन बातों का ध्यान

कांकरेज (गुजरात और राजस्थान)

43 Indigenous Breeds of Cow: कांकरेज गाय राजस्थान के दक्षिण-पश्चिमी भागों, मुख्यतः बाड़मेर, सिरोही और जालौर जिलों में पाई जाती है। इस नस्ल की गायें प्रतिदिन 5 से 10 लीटर दूध देती हैं। कांकरेज नस्ल के मवेशियों का मुंह छोटा और चौड़ा होता है। इस नस्ल के बैल अच्छे भार वाहक भी होते हैं। अत: इसी कारण से इस नस्ल के मवेशियों को ‘दो-उद्देश्यीय नस्ल’ कहा जाता है।

केनकथा (उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश)

43 Indigenous Breeds of Cow: केनकथा गाय का मूल स्थान उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश है। इस नस्ल को केनवरिया के नाम से भी जाना जाता है। इनके शरीर का आकार छोटा और सिर छोटा और चौड़ा, कमर सीधी और कान लटके हुए होते हैं। इस नस्ल की पूंछ की लंबाई मध्यम होती है। इस नस्ल की औसत लंबाई 103 सेमी होती है। होती है। इस नस्ल के नर का औसत वजन 350 किलोग्राम और मादा का औसत वजन 300 किलोग्राम होता है।

Advertisement
43 Indigenous Breeds of Cow: केनकथा (उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश)
43 Indigenous Breeds of Cow: केनकथा (उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश)
गौलाओ (महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश)

गाओलाओ नस्ल नागपुर, छिंदवाड़ा और वर्धा में पाई जाती है। इनका शरीर मध्यम आकार का और रंग सफेद से भूरा होता है। इसका सिर लंबा, कान मध्यम आकार के और सींग छोटे होते हैं। यह गाय प्रति ब्यांत में औसतन 470-725 लीटर दूध देती है। दूध में 4.32 प्रतिशत वसा की मात्रा होती है।

READ MORE  Pashu Kisan Credit Card: हरियाणा में पशुपालकों की बनी चांदी, ऐसे मिले 2000 करोड़ रुपये

Also Read: Private Tubewell Scheme: टयुब्वैल लगाने के लिए सरकार दे रही 80 फिसदी सब्सिडी, यहां जल्दी करें आवेदन

खीरीगढ़ (उत्तर प्रदेश)

इस प्रजाति के मवेशी खीरीगढ़ क्षेत्र में पाए जाते हैं। गाय के शरीर का रंग और मुंह सफेद होता है। इनके सींग बड़े होते हैं. इस नस्ल के बैल फुर्तीले होते हैं और मैदानी इलाकों में स्वतंत्र रूप से चरकर स्वस्थ और खुश रहते हैं। इस नस्ल की गायें कम दूध देती हैं।

Advertisement
खिलाड़ी (महाराष्ट्र और कर्नाटक)

43 Indigenous Breeds of Cow: इस नस्ल का मूल स्थान महाराष्ट्र और कर्नाटक है। यह पश्चिमी महाराष्ट्र में भी पाया जाता है। इस प्रजाति के मवेशियों का रंग खाकी, सिर बड़ा, सींग लम्बे और पूँछ छोटी होती है। इनका गलनांक काफी अधिक होता है। खिल्लारी नस्ल के बैल बहुत ताकतवर होते हैं. इस नस्ल के नर का औसत वजन 450 किलोग्राम और गाय का औसत वजन 360 किलोग्राम होता है। इसके दूध में वसा लगभग 4.2 प्रतिशत होती है। यह एक स्तनपान में औसतन 240-515 किलोग्राम दूध देती है।

कृष्णा घाटी (कर्नाटक)

कृष्णा वैली उत्तरी कर्नाटक की एक स्वदेशी नस्ल है। यह सफ़ेद रंग का होता है. इस नस्ल के सींग छोटे, शरीर छोटा, पैर छोटे और मोटे होते हैं। यह एक स्तनपान में औसतन 900 किलोग्राम दूध देती है।

मालवी (मध्य प्रदेश)

43 Indigenous Breeds of Cow: मालवी नस्ल के बैलों का उपयोग कृषि और सड़कों पर हल्के वाहन खींचने के लिए किया जाता है। इनका रंग लाल, खाकी तथा गर्दन काली है। इस नस्ल की गायें कम दूध देती हैं। यह नस्ल मध्य प्रदेश के ग्वालियर क्षेत्र में पाई जाती है।

Advertisement
मेवाती (राजस्थान, हरियाणा और उत्तर प्रदेश)

43 Indigenous Breeds of Cow: मेवाती प्रजाति के मवेशी घरेलू और कृषि उद्देश्यों के लिए उपयोगी हैं। इस नस्ल की गायें बहुत दुधारू होती हैं। इनमें गिर जाति के लक्षण पाये जाते हैं तथा इनके पैर कुछ ऊँचे होते हैं। यह नस्ल राजस्थान के भरतपुर और अलवर जिलों, हरियाणा के फरीदाबाद और गुड़गांव जिलों और उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले तक फैली हुई है। इसका रंग मुख्यतः सफेद होता है। यह नस्ल एक ब्यांत में औसतन 958 किलोग्राम दूध देती है।

Also Read: Big Change in Solar Pump Subsidy: सोलर टयुब्वैल लेने वाले किसानों को बड़ा झटका, अगर ऐसा नहीं किया तो वापिस हो सकता है सोलर पैनल!

नागोरी (राजस्थान)

इस नस्ल की गाय राजस्थान के नागौर जिले में पाई जाती है। इस नस्ल के बैल अपनी विशेष गुण धारण क्षमता के कारण बहुत प्रसिद्ध हैं।

Advertisement
43 Indigenous Breeds of Cow: नागोरी (राजस्थान)
43 Indigenous Breeds of Cow: नागोरी (राजस्थान)
निमरी (मध्य प्रदेश)

43 Indigenous Breeds of Cow: निमड़ी का मूल स्थान मध्य प्रदेश है। इसका रंग हल्का लाल, सफेद, लाल, हल्का बैंगनी होता है। इसकी त्वचा हल्की और ढीली होती है, माथा उभरा हुआ होता है, शरीर भारी होता है, सींग नुकीले होते हैं, कान चौड़े होते हैं और सिर लंबा होता है। यह नस्ल एक ब्यांत में औसतन 600-954 किलोग्राम दूध देती है तथा दूध में वसा 4.9 प्रतिशत होती है।

अंगोल (आंध्र प्रदेश)

43 Indigenous Breeds of Cow: अंगोल प्रजाति तमिलनाडु के अंगोल क्षेत्र में पाई जाती है। इस जाति के बैल भारी शरीर वाले एवं शक्तिशाली होते हैं। इनका शरीर लम्बा होता है, परन्तु गर्दन छोटी होती है। यह प्रजाति सूखा चारा खाकर भी जीवित रह सकती है। ब्राज़ील इस नस्ल पर काम कर रहा है.

READ MORE  Animal Care: गर्मियों में पशुओं की ऐसे करें देखभाल, यहाँ जानें जरूरी टिप्स
पोनवार (उत्तर प्रदेश)

इस नस्ल के मवेशी उत्तर प्रदेश के रोहिलखंड में पाए जाते हैं। इनके सींगों की लम्बाई 12 से 18 इंच तक होती है। इनकी पूँछ लम्बी होती है. इनके शरीर का रंग काला और सफेद होता है। यह गाय कम दूध देती है.

Advertisement

Also Read: Fish Farming: मछली पालन के लिए मिलेगा लोन और ट्रेनिंग, ऐसे उठाएं लाभ

पुंगनूर (आंध्र प्रदेश)

43 Indigenous Breeds of Cow: पुंगनूर का उद्गम स्थल आंध्र प्रदेश का चित्तूर जिला है। इस नस्ल के जानवर छोटे आकार के होते हैं, इनका शरीर सफेद रंग का और त्वचा हल्के भूरे रंग की होती है। इनके सींग छोटे और घुमावदार होते हैं। इस नस्ल की मादा का औसत वजन 115 किलोग्राम और नर का औसत वजन 225 किलोग्राम होता है। यह एक स्तनपान में औसतन 194-1100 किलोग्राम दूध देती है।

राठी (राजस्थान)

43 Indigenous Breeds of Cow: भारतीय राठी गाय की नस्ल अधिक दूध देने के लिए जानी जाती है। राठी नस्ल का नाम राठ जनजाति के नाम पर पड़ा है। यह गाय राजस्थान के गंगानगर, बीकानेर और जैसलमेर इलाकों में पाई जाती है। यह गाय प्रतिदिन 6-8 लीटर दूध देती है।

Advertisement
लाल कंधारी (महाराष्ट्र)

लाल कंधारी महाराष्ट्र के नांदेड़, परभणी, अहमद नगर, बीड और लातूर जिलों में पाया जाता है। इनका रंग हल्का लाल या भूरा होता है। इसके सींग टेढ़े-मेढ़े, माथा चौड़ा, कान लम्बे होते हैं। इस नस्ल के नर की औसत ऊंचाई 1138 सेमी होती है। तथा मादा की औसत लम्बाई 128 सेमी होती है। ऐसा होता है। यह नस्ल एक ब्यांत में औसतन 598 किलोग्राम दूध देती है।

43 Indigenous Breeds of Cow: लाल कंधारी (महाराष्ट्र)
43 Indigenous Breeds of Cow: लाल कंधारी (महाराष्ट्र)
लाल सिंधी किस्म: (पंजाब, हरियाणा, कर्नाटक, तमिलनाडु)

43 Indigenous Breeds of Cow: लाल रंग की यह गाय अधिक दूध उत्पादन के लिए जानी जाती है। इनके लाल रंग के कारण इन्हें लाल सिंधी गाय का नाम दिया गया। पहले यह गाय सिर्फ सिंध इलाके में पाई जाती थी। लेकिन अब यह गाय पंजाब, हरियाणा, कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल और ओडिशा में भी पाई जाती है। भारत में इनकी संख्या बहुत कम है. साहीवाल गायों की तरह लाल सिंधी गायें भी सालाना 2000 से 3000 लीटर दूध देती हैं।

Also Read: Kids Aadhaar Card: अपने बच्चे का आधार बनवाने में न बरतें लापरवाही, झेलना पड़ सकता है झंझट!

Advertisement
साहीवाल (पंजाब और राजस्थान)

साहीवाल भारत की सर्वोत्तम किस्म है। यह गाय मुख्य रूप से हरियाणा, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में पाई जाती है। ये गायें सालाना 2000 से 3000 लीटर दूध देती हैं, जिसके कारण दूध व्यापारी इन्हें बहुत पसंद करते हैं। यह गाय एक बार मां बनने के बाद करीब 10 महीने तक दूध देती है। अगर अच्छी तरह से देखभाल की जाए तो ये कहीं भी रह सकते हैं।

सिरी (सिक्किम और भूटान)

43 Indigenous Breeds of Cow:इस नस्ल के मवेशी दार्जिलिंग, सिक्किम और भूटान के पहाड़ी इलाकों में पाए जाते हैं। इनका मूल स्थान भूटान है। ये आमतौर पर काले और सफेद या लाल और सफेद होते हैं। सिरी जाति के जानवर दिखने में भारी होते हैं।

गंगातीरी (उत्तर प्रदेश और बिहार)

गंगातीरी नस्ल उत्तर प्रदेश और बिहार में पाई जाती है। यह मध्यम आकार का है. यह प्रति स्तनपान औसतन 900-1200 लीटर दूध देती है। इसके दूध में वसा की मात्रा 4.1-5.2 प्रतिशत होती है।

Advertisement
थारपारकर (राजस्थान)

43 Indigenous Breeds of Cow: यह गाय मुख्य रूप से राजस्थान के जोधपुर और जैसलमेर में पाई जाती है। थारपारकर गाय का उत्पत्ति स्थान ‘मालाणी’ (बाड़मेर) है। इस नस्ल की गायें भारत की सर्वोत्तम दुधारू गायों में गिनी जाती हैं। राजस्थान के स्थानीय भागों में इसे ‘मालानी नस्ल’ के नाम से जाना जाता है। प्राचीन भारतीय परंपरा के मिथक भी थारपारकर गौवंश से जुड़े हुए हैं।

अम्बलाचेरी (तमिलनाडु)

43 Indigenous Breeds of Cow: यह नस्ल तमिलनाडु के तिरुवरुर और नागापट्टिनम जिलों में पाई जाती है। इनका माथा चौड़ा होता है. इस नस्ल के नर की औसत ऊंचाई 135 सेमी होती है। तथा मादा की औसत लम्बाई 105 सेमी होती है। ऐसा होता है। इस नस्ल की गायें एक ब्यांत में औसतन 495 किलोग्राम दूध देती हैं, जिनमें वसा की मात्रा 4.9 प्रतिशत तक होती है।

READ MORE  drive away Nilgai: अंडे से बनाएं ये खास दवा और फसलों पर करें छिड़काव, आपके खेत में नहीं आयेगी नीलगाय
वेचूर (केरल)

43 Indigenous Breeds of Cow: वेचूर नस्ल के मवेशी बीमारियों से सबसे कम प्रभावित होते हैं। इस जाति के मवेशी कद में छोटे होते हैं। इस नस्ल की गायों के दूध में सबसे अधिक औषधीय गुण होते हैं। इस प्रजाति के मवेशियों को बकरियों की तुलना में आधी कीमत पर पाला जा सकता है।

Advertisement

Also Read: Smartphone Technology farming: जानें स्मार्टफोन तकनीक खेती में कैसे है मददगार, और किसानों को कितना फायदा

मोटू (उड़ीसा, छत्तीसगढ़ और आंध्र प्रदेश)

यह नस्ल उड़ीसा, छत्तीसगढ़ और आंध्र प्रदेश में पाई जाती है। इनका रंग भूरा, स्लेटी और सफेद होता है। इनके शरीर का आकार छोटा, सींग सीधे, पूँछ काली और खुर काले होते हैं। यह नस्ल एक ब्यांत में औसतन 100-140 किलोग्राम दूध देती है तथा दूध में वसा 4.8-5.3 प्रतिशत होती है।

घुमुसरी (उड़ीसा)

43 Indigenous Breeds of Cow: घुमुसरी का मूल स्थान उड़ीसा है। इनका रंग सफ़ेद या भूरा होता है. इनके सींग मध्यम आकार के और ऊपर तथा अंदर की ओर मुड़े हुए होते हैं। पहले ब्यांत के समय गाय की उम्र 42 महीने होनी चाहिए और उसका एक ब्यांत 13 महीने का होता है। यह एक स्तनपान में औसतन 450-650 किलोग्राम दूध का उत्पादन करती है, जिसमें वसा की मात्रा 4.8-4.9 प्रतिशत तक होती है।

Advertisement
बिंझरपुरी (उड़ीसा)

43 Indigenous Breeds of Cow: यह नस्ल उड़ीसा के भद्रक और केंद्रपाड़ा जिलों में पाई जाती है। इनका रंग सफ़ेद होता है, लेकिन ये काले, भूरे या भूरे रंग में भी पाए जाते हैं। इस नस्ल के सींग काले और मध्यम आकार के होते हैं, जो ऊपर की ओर मुड़े होते हैं। यह एक स्तनपान में लगभग 915-1350 किलोग्राम दूध देती है। इसके दूध में वसा की मात्रा 4.3-4.4 प्रतिशत होती है।

खरियार (उड़ीसा)

खरियार उड़ीसा के नुआपाड़ा जिले की एक नस्ल है। यह छोटे आकार का होता है. इसके सींग सीधे, कमर और चेहरे का कुछ भाग गहरा काला होता है। इस नस्ल की गायें एक ब्यांत में औसतन 450 किलोग्राम दूध देती हैं और दूध में वसा 4-5 प्रतिशत होती है।

Also Read: Rats ruin wheat crop: अगर चूहे बर्बाद कर रहे हैं आपकी फसल, तो इन आसान तरीकों से करें बचाव

Advertisement
43 Indigenous Breeds of Cow: खरियार (उड़ीसा)
43 Indigenous Breeds of Cow: खरियार (उड़ीसा)
कोसली (छत्तीसगढ़)

43 Indigenous Breeds of Cow: कोसली नस्ल की गायें भारत के छत्तीसगढ़ राज्य में पाई जाती हैं। इसका मुख्य निवास स्थान छत्तीसगढ़ राज्य के मैदानी जिले जैसे रायपुर, राजनांदगांव, दुर्ग और बिलासपुर हैं। इनका आकार छोटा होता है. मादा का वजन 160-200 किलोग्राम होता है। तथा नर का वजन 200-300 किलोग्राम होता है। तक होता है। कोसली नस्ल की गाय के सींग आकार में छोटे होते हैं।

बद्री (उत्तराखंड)

बद्री गाय केवल पहाड़ी जिलों में पाई जाती है और पहले इसे ‘पहाड़ी’ गाय के नाम से जाना जाता था। इनका रंग भूरा, लाल, सफेद होता है। उनके कान छोटे से मध्यम लंबाई के होते हैं और उनकी गर्दन छोटी और पतली होती है। बद्री गायों का प्रतिदिन औसत दूध उत्पादन लगभग 1.12 किलोग्राम है, लेकिन कुछ गायें 6.9 किलोग्राम तक दूध देती हैं। इनकी दुग्धपान अवधि 275 दिन है।

43 Indigenous Breeds of Cow: इन सबके अलावा, जम्मू-कश्मीर की लद्दाखी गाय, असम की लखीमी, महाराष्ट्र और गोवा की कोंकण कपिला, हरियाणा और चंडीगढ़ की बिलाही, कर्नाटक की मलनाड गिद्दा, तमिलनाडु की पुल्लिकुलम भी पंजीकृत हैं। क्या आप भारत की इन 43 गाय नस्लों के बारे में जानते हैं? क्या आपको पता है?

Advertisement

Also Read: Education: देश में 2 साल का विशेष BEd कोर्स हुआ बंद, अब सिर्फ 4 साल के कोर्स को ही मिलेगी मान्यता

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

गर्मी और सूखे का फसलों और जानवरों पर प्रभाव और उनका निपटान, विस्तार से पढ़ें

Bansilal Balan

Agriculture News: पशुओं के लिए फूल पॉवर फूल है ईंट जैसा दिखने वाला यह चारा, बढ़ जाती है दूध की मात्रा

Rampal Manda

Goat Farming: बकरियों को डाले इस पेड़ के हरे पत्ते, नहीं पड़ेगी दवाई खिलाने की जरूरत

Rampal Manda

Leave a Comment