Aapni Agri
कृषि समाचार

Smartphone Technology farming: जानें स्मार्टफोन तकनीक खेती में कैसे है मददगार, और किसानों को कितना फायदा

Smartphone Technology farming:
Advertisement

Smartphone Technology farming: बढ़ती आबादी का पेट भरने के लिए कृषि में IoT और स्मार्ट कृषि का उपयोग आवश्यक है। इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) और स्मार्ट कृषि तकनीक का उपयोग कृषि में विभिन्न स्तरों पर बड़ा बदलाव लाने के लिए किया जा सकता है। IoT पर आधारित खेती तकनीक फसलों के उर्वरक, पानी और ऊर्जा का उचित प्रबंधन करना संभव बनाती है, जिससे बेहतर पैदावार होती है।

स्मार्ट फोन सेंसर के साथ मिट्टी और पर्यावरण मापदंडों की निगरानी करने से किसानों को सही समय पर और सही निर्णय के लिए डेटा मिलता है। इस प्रकार, स्मार्ट तकनीक ने कृषि क्षेत्र में एक नया क्षेत्र खोल दिया है, जो बुआई से लेकर कटाई तक की कई प्रक्रियाओं को बेहतर बना सकता है। स्मार्ट फोन तकनीक कृषि क्षेत्र में महत्वपूर्ण लाभ पहुंचा रही है।

Also Read: Rats ruin wheat crop: अगर चूहे बर्बाद कर रहे हैं आपकी फसल, तो इन आसान तरीकों से करें बचाव

Advertisement
किसानों के लिए बड़ी खबर! इजरायली तकनीक से करें खेती, यहां फ्री मिलेगी  ट्रेनिंग, जल्द करें आवेदन
Smartphone Technology farming: स्मार्टफोन से खेती करना आसान

स्मार्टफोन खेती के लिए भी काफी कारगर साबित हो रहे हैं। आप इसे डेटाबेस पर अपलोड कर सकते हैं. जहां एक विशेषज्ञ रंग और अन्य गुणों के आधार पर फसल की परिपक्वता का आकलन कर सकता है। स्मार्टफोन सेंसर के माध्यम से मशीन-नियंत्रित सिंचाई, उर्वरक प्रबंधन, कीटनाशक, फसल प्रजनन और आनुवंशिक अनुसंधान की सुविधा प्रदान की जा रही है।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Smartphone Technology farming: सेंसर के दो मुख्य भाग

स्मार्टफोन आधारित सेंसर के दो मुख्य भाग होते हैं, पहला स्मार्टफोन और दूसरा सेंसर। सेंसर स्मार्टफोन से आप न सिर्फ फोन कॉल कर सकते हैं और टेक्स्ट मैसेज भेज सकते हैं, बल्कि कई अन्य काम भी कर सकते हैं। जैसे आप इंटरनेट चला सकते हैं और तस्वीरें ले सकते हैं. सेंसर एक उपकरण है. सेंसर वॉल्यूम के आधार पर सिग्नल भेजते हैं और इन सिग्नलों को स्मार्टफोन द्वारा पढ़ा और उपयोग किया जा सकता है।

Smartphone Technology farming: कृषि के लिए पांच प्रकार के स्मार्टफोन सेंसर

मोशन सेंसर- मोशन सेंसर को उपयोगकर्ता की गति या गति को ट्रैक करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। कृषि में, इसका उपयोग उद्यान मशीनरी या स्मार्ट सिंचाई प्रणालियों को सक्रिय करने के लिए किया जा सकता है।

Advertisement

क्या है योगी सरकार की ई पड़ताल योजना, कैसे मिलेगा किसानों को इसका फायदा |  What is e investigation scheme how will farmers get its benefit | TV9  Bharatvarsh

इमेज सेंसर- इमेज सेंसर एक कैमरे की तरह काम करता है और आसपास की तस्वीरें खींचने में मदद करता है। कृषि में, इसका उपयोग पौधों के स्वास्थ्य, कीटनाशकों के प्रकोप या खेत में अन्य चीजों की निगरानी के लिए किया जा सकता है।

पर्यावरण सेंसर – पर्यावरण सेंसर तापमान, आर्द्रता और अन्य आवश्यक वायुमंडलीय गुणों को माप सकते हैं। खेती में, इन सेंसरों का उपयोग पर्यावरण की निगरानी के लिए किया जा सकता है, जिससे किसान सही समय पर और सही तरीके से खेत की देखभाल कर सकते हैं।

Advertisement
Smartphone Technology farming: स्थिति सेंसर

इसे जाइरोस्कोप या अन्य सेंसर के रूप में डिज़ाइन किया जा सकता है जो वस्तुओं की स्थिति या गति को माप सकता है। कृषि में इसका उपयोग कृषि मशीनरी की सही स्थिति और कार्यप्रणाली के लिए किया जा सकता है।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

कनेक्टिविटी मॉडेम- एक कनेक्टिविटी मॉडेम सेंसर इंटरनेट या अन्य नेटवर्क से जुड़ता है ताकि उपयोगकर्ता फार्म से दूर से डेटा प्राप्त कर सके और फार्म की निगरानी कर सके। ये सेंसर कृषि में तकनीकी समृद्धि को बढ़ावा देने और बेहतर उत्पादकता और प्रबंधन की सुविधा प्रदान करने में मदद कर सकते हैं।

Smartphone Technology farming: इमेज सेंसर का अधिक उपयोग

कृषि में, स्मार्टफोन-आधारित सेंसर के डेटा का उपयोग कृत्रिम बुद्धिमत्ता और मशीन लर्निंग तकनीक के माध्यम से कृषि कार्यों को हल करने के लिए एक मॉडल विकसित करने के लिए किया जाता है। जैसे जब हम स्मार्टफोन कैमरे से किसी रोगग्रस्त पौधे की तस्वीर लेते हैं। फिर ली गई तस्वीरों के डेटा में कृत्रिम बुद्धिमत्ता और मशीन लर्निंग का उपयोग करके बीमारी का पता लगाया जाता है। जब रोग का निदान हो जाता है, तो उस रोग का उचित निदान सुझाया जाता है।

Advertisement
Smartphone Technology farming: कृषि संबंधी स्मार्टफोन सेंसर आधारित ऐप

जर्मनी ने कीटों और बीमारियों का पता लगाने और उनके निदान का सुझाव देने के लिए एआई-आधारित स्मार्टफोन सेंसर-आधारित ऐप विकसित किया है। इसका नाम प्लांटिक्स है. इस ऐप के लिए आपको एक रोगग्रस्त पौधे की तस्वीर लेनी होगी। फिर इस फोटो को प्रोसेसिंग के लिए सर्वर पर भेजा जाता है और फिर यह बीमारी का पता लगाता है और इसे आपके स्मार्टफोन स्क्रीन पर लौटा देता है। यह ऐप ऑस्ट्रेलिया की एडिलेड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित किया गया है। सिंचाई प्रबंधन में स्मार्टफोन आधारित सेंसर का भी उपयोग किया जा रहा है।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: Education: देश में 2 साल का विशेष BEd कोर्स हुआ बंद, अब सिर्फ 4 साल के कोर्स को ही मिलेगी मान्यता

Gujarat Phone Scheme For Farmers,किसानों के लिए खुशखबरी: सरकार देगी  स्मार्टफोन खरीदने के पैसे, जानें कैसे कर सकते हैं इसके लिए अप्लाई! -  gujarat government will give 1500 ...
Smartphone Technology farming: IARI भी काम कर रहा है

IARI, पूसा स्मार्टफोन बेस सेंसर पर काम कर रहा है। संस्थान ने कहा कि पूसा इंस्टीट्यूट नाइट्रोजन मैनेजर बन रहा है. लीफ द्वारा यह आरजीबी फोटो स्मार्टफोन का उपयोग करके समय पर दिखाएगा कि कब और कितनी नाइट्रोजन उर्वरक की आवश्यकता है। सटीक जल और रोग प्रबंधन, मिट्टी की नमी का पता लगाने, फसल उत्पादन का आकलन, फसल की गुणवत्ता का पता लगाने के लिए स्मार्टफोन इमेजिंग सेंसर पर काम किया जा रहा है। स्मार्टफोन आधारित तकनीक छोटे और सीमांत किसानों के लिए महंगी हो सकती है और किफायती भी साबित होगी।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Biggest Enemy Mustard: सरसों की फसल के सबसे बड़े दुश्मन से निपटने के लिए अपनाएं यह तरीका

Rampal Manda

Tomato Price: टमाटर बेचकर किसान ने कमाए ₹2.8 करोड़, देखें कैसे की शुरुआत

Aapni Agri Desk

Wheat Price: बढ़ती महंगाई को रोकने के लिए भारत रूस से खरीदेगा गेहूं

Aapni Agri Desk

Leave a Comment