Aapni Agri
कृषि विशेषज्ञ सलाहफसलें

Protect Crops from Nilgai: नीलगाय और आवारा जानवरों से फसल को बचाएंगे ये घरेलू नुस्खे

Protect Crops from Nilgai
Advertisement

Protect Crops from Nilgai: अगर आप भी छुट्टा जानवरों और नीलगाय से परेशान हैं तो ये घरेलू उपाय आपके लिए उपयोगी साबित हो सकते हैं। आजकल आवारा पशुओं के कारण खेती करना बहुत कठिन हो गया है। देखते ही देखते छुटहा गाय और नीलगाय के झुंड पूरे खेत को चर जाते हैं.

नीलगाय और छुट्टा जानवरों से खेतों को बचाने के लिए कई उपाय अपनाते हैं, लेकिन कुछ बहुत महंगे होते हैं। लेकिन ये घरेलू उपाय नगण्य लागत पर फसलों को जानवरों से बचाते हैं।

Also Read: Wheat MSP Price 2024-25: 2400 रुपये प्रति क्विंटल एमएसपी पर गेहूं खरीदेगी सरकार, किसान रखें इन बातों का ध्यान

Advertisement
Protect Crops from Nilgai
Protect Crops from Nilgai

Protect Crops from Nilgai: इसके लिए 10-12 मुर्गी के अंडे और 50 ग्राम वाशिंग पाउडर को 25 लीटर पानी में मिलाकर घोल बनाएं और खड़ी फसल की मेड़ों पर इसका छिड़काव करें. इसकी गंध से जानवर बीमार पड़ जाते हैं.” और नीलगाय खेत में नहीं रुकेगी।” गर्मी और सर्दी में महीने में एक बार छिड़काव करना चाहिए और बरसात के मौसम में आवश्यकतानुसार छिड़काव किया जा सकता है।

READ MORE  Mustard cultivation: उन्नत कृषि क्रियाएं अपनाकर सरसों की पैदावार को बढ़ायें, किसानों को दी खास सलाह

Also Read: Private Tubewell Scheme: टयुब्वैल लगाने के लिए सरकार दे रही 80 फिसदी सब्सिडी, यहां जल्दी करें आवेदन

Protect Crops from Nilgai: नीम की खली भी फसल बचाएगी

इसी तरह नीम की खली से भी फसलों को बचाया जा सकता है। इसके लिए तीन किलो नीम की खली और तीन किलो ईंट भट्ठे की राख का पाउडर बनाकर प्रति बीघा छिड़काव किया जा सकता है। इससे फसल को भी फायदा होता है, नीम की खली कीट और बीमारियों की समस्या भी कम करती है. इससे नीलगाय खेत के पास भी नहीं आती है. नीम की गंध जानवरों को फसलों से दूर रखती है, इसका छिड़काव हर महीने या पंद्रह दिन में किया जा सकता है।

Advertisement
Protect Crops from Nilgai
Protect Crops from Nilgai
Protect Crops from Nilgai: नीलगाय को रोकने के लिए ऐसे बनाएं हर्बल घोल

नीलगाय को खेतों की ओर आने से रोकने के लिए आधा किलो छिला हुआ लहसुन पीसकर 4 लीटर मट्ठे में मिला लें और इसमें 500 ग्राम रेत मिला दें। पांच दिन बाद इस घोल का छिड़काव करें। इसकी गंध से करीब 20 दिनों तक नीलगाय खेतों में नहीं आयेगी. इसे 15 लीटर पानी के साथ भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

READ MORE  Wheat cultivation: अगले 15 दिन का मौसम गेहूं की पैदावार के लिए बड़ा महत्वपूर्ण, पीला रतुआ रोग से खतरा

Also Read: Big Change in Solar Pump Subsidy: सोलर टयुब्वैल लेने वाले किसानों को बड़ा झटका, अगर ऐसा नहीं किया तो वापिस हो सकता है सोलर पैनल!

Protect Crops from Nilgai: बीस लीटर गौमूत्र, 5 किलो नीम की पत्तियां, 2 किलो धतूरा, 2 किलो मदार की जड़, फल-फूल, 500 ग्राम तम्बाकू की पत्तियां, 250 ग्राम लहसुन, 150 लाल मिर्च पाउडर को एक डिब्बे में भरकर वायुरोधी बना लें। और इसे 40 दिनों तक धूप में रखें। इसे रखें। इसके बाद एक लीटर दवा को 80 लीटर पानी में घोलकर फसल पर छिड़काव करने से एक माह तक नीलगाय फसल को नुकसान नहीं पहुंचाती है. यह फसल को कीटों से भी बचाता है।

Advertisement

Protect Crops from Nilgai: खेत के चारों ओर कंटीले तारों, बांस की डंडियों या चमकीली पट्टियों से बाड़ लगाना। खेतों की मेड़ों पर आंवला, जेट्रोफा, तुलसी, खस, जिरेनियम, मेंथा, लेमन ग्रास, सिट्रोनेला, पामारोसा जैसे पेड़ लगाने से भी नीलगाय से सुरक्षा मिलेगी।

READ MORE  yellow rust wheat: गेहूं में इस कारण फैलता है पीला रतुआ रोग, जानें बचाव उपाय

Also Read: Fish Farming: मछली पालन के लिए मिलेगा लोन और ट्रेनिंग, ऐसे उठाएं लाभ

Protect Crops from Nilgai

Protect Crops from NilgaiProtect Crops from Nilgai: खेत में आदमी के आकार का पुतला खड़ा करने से रात में नीलगाय डर जाती है। नीलगाय के गोबर का घोल बनाकर मेड़ के एक मीटर के अंदर की फसलों पर छिड़काव करने से फसलों को अस्थायी तौर पर सुरक्षित किया जा सकता है। एक लीटर पानी में एक ढक्कन फिनाइल का घोल बनाकर छिड़काव करने से फसलों को बचाया जा सकता है।

Advertisement

Protect Crops from Nilgai: गधे की लीद, मुर्गी का कचरा, गोमूत्र और सड़ी सब्जियों की पत्तियों का घोल बनाकर फसलों पर छिड़कने से नीलगाय खेतों के पास नहीं आती हैं। कई जगहों पर रात के समय खेतों में मिट्टी का तेल जलाने से नीलगायों का आना रुक जाता है।

Also Read: Kids Aadhaar Card: अपने बच्चे का आधार बनवाने में न बरतें लापरवाही, झेलना पड़ सकता है झंझट!

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

कमलजीत कौर के संघर्ष की कहानी, 50 साल की उम्र में बनाया खुद का बिजनेस

Bansilal Balan

1 लाख खर्च करके 60 लाख रुपए कमा सकते है किसान, जानें कैसे

Bansilal Balan

अपने घरों में ऐसे लगाएं बादाम का पेड़, 50 सालों तक होगी मोटी कमाई

Bansilal Balan

Leave a Comment