Aapni Agri
कृषि समाचार

what is sugar recovery: कम चीनी र‍िकवरी ने बढ़ाई हर‍ियाणा सरकार की टेंशन, आख‍िर क्यों है सरकार चिंचित

what is sugar recovery:
Advertisement

what is sugar recovery: हरियाणा सरकार ने गन्ना सीजन 2023-2024 में 416 लाख क्विंटल गन्ने की पेराई का लक्ष्य रखा है. हालांकि, चीनी रिकवरी दर 10 फीसदी से नीचे रहने से सरकार की चिंताएं बढ़ गई हैं। इसलिए वह अधिकारियों पर इसे बढ़ाने का दबाव बना रही है ताकि महिलाओं पर आर्थिक बोझ न पड़े। चीनी रिकवरी का अर्थ है कुचले गए प्रत्येक क्विंटल गन्ने से उत्पादित चीनी की मात्रा।

Also Read: Land for Job Scam: कल लालू तो आज तेजस्वी, लैंड फॉर जॉब स्कैम में ED करेगी पूछताछ

what is sugar recovery:  बैठक बुलाई

यह राशि जितनी कम होगी, मिलों पर आर्थिक संकट उतना ही अधिक होगा और उतना ही कम होगा। राज्य के सहकारिता मंत्री डाॅ. बनवारी लाल ने सोमवार को चंडीगढ़ में चीनी मिलों की कार्यकुशलता की समीक्षा के लिए एक बैठक बुलाई। उन्होंने अधिकारियों को सहकारी चीनी मिलों में गन्ने की पेराई क्षमता और चीनी रिकवरी बढ़ाने के निर्देश दिये। उन्होंने यह भी सुनिश्चित करने को कहा कि गोदामों में रखी चीनी गीली न हो।

Advertisement
Sugar recovery this year was the highest in 20 years, crushed 31 lakh  quintals of sugarcane and earned an additional Rs 30 crore | 20 सालों में  सर्वाधिक रही इस साल शुगर
what is sugar recovery: 167.43 लाख क्विंटल गन्ने की पेराई

अधिकारियों ने सहकारिता मंत्री को बताया कि 23 जनवरी 2024 तक चीनी मिलों में 167.43 लाख क्विंटल गन्ने की पेराई की जा चुकी है. जबकि 14.78 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन हुआ है. चीनी की रिकवरी 9.37 फीसदी रही. जबकि पिछले साल चीनी की रिकवरी 9.12 थी। हालाँकि, 10 प्रतिशत या उससे अधिक की चीनी रिकवरी को आम तौर पर ठीक माना जाता है। राज्य सरकार ने 10 फीसदी चीनी रिकवरी का लक्ष्य रखा था.

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
what is sugar recovery:  कीमत के कारण रिकवरी बढ़ाने का दबाव

प्रदेश में चीनी मिलों की क्षमता का 86.71 प्रतिशत उपयोग हो चुका है। जींद सहकारी मिल में चीनी की रिकवरी सबसे अच्छी 9.94 प्रतिशत रही। शाहाबाद में 9.85 प्रतिशत और सोनीपत में 9.76 प्रतिशत दर्ज किया गया। हैफेड चीनी मिल फफदाना, असंद में 8.73 प्रतिशत की चीनी रिकवरी दर्ज की गई। नारायणगढ़ चीनी मिल में रिकवरी 10.43 प्रतिशत रही। मंत्री ने कहा कि रोहतक, कैथल और पानीपत जैसी चीनी मिलों की रिकवरी बढ़ाने के लिए कदम उठाए जाने चाहिए, जिनकी रिकवरी कम रही है।

राज्य में गन्ने का रेट 386 रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंच गया है, जो पंजाब के बाद सबसे ज्यादा है. इसलिए मिलों पर रिकवरी बढ़ाने का दबाव है. सीएम ने खुद एक बार कहा था कि 9.75 फीसदी चीनी रिकवरी पर गन्ने की कीमत 297 रुपये प्रति क्विंटल होगी. हरियाणा में सहकारी समिति का घाटा करीब 5300 करोड़ रुपये है.

Advertisement
what is sugar recovery: क‍ितनी है पेराई क्षमता

सहकारी चीनी मिलों की दैनिक पेराई क्षमता जींद में 1750 टन, शाहबाद में 5000 टन, सोनीपत में 2200 टन, करनाल में 3500 टन, पलवल में 1900 टन, गोहाना में 2500 टन, पानीपत में 5000 टन, कैथल में 2500 टन और रोहतक में 3500 टन है।
राज्य में 16 चीनी मिलें हैं, जिनमें से 11 सहकारी क्षेत्र की हैं और बाकी निजी हैं। देश के कुल गन्ना उत्पादन में हरियाणा की हिस्सेदारी सिर्फ 2 फीसदी है.

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: PM Kisan Yojana: 31 जनवरी है तक करवा लें eKYC, नहीं तो अटक जाएगी 16वीं किस्त,

Indian sugar industry welcomes the Budget - India TV Hindi
what is sugar recovery: किसानों को कितना पैसा मिला?

शुगरफेड ने इस सीजन में अब तक 646.46 करोड़ रुपये का 167.56 लाख क्विंटल गन्ने की खरीद की है। किसानों को अपने संसाधनों से 444.94 करोड़ रु. अप्रैल 2023 से दिसंबर 2023 तक चीनी का औसत बिक्री मूल्य 3704.40 रुपये प्रति क्विंटल रहा है. ऐसे में 10 फीसदी से ज्यादा चीनी रिकवरी पर ही मिलों को फायदा होगा.

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Heat in February: फरवरी की गर्मी से गेहूं को हो सकता है भारी नुकसान, इन उपायों से बचाएं अपनी फसल को

Rampal Manda

Nano Fertilizer: लॉन्च हुआ नैनो यूरिया और डीएपी, किसानों को ऐसे मिलेगा फायदा

Rampal Manda

Chilli Farming: अगर मिर्च की पत्तियां सिकुड़ कर गिरने लगी तो करें से उपाय, उपज होगी बम्पर

Rampal Manda

Leave a Comment