Aapni Agri
फसलेंकृषि विशेषज्ञ सलाह

White Stem Rot Disease Mustard: सरसों की फसल में फैल रहा सफेद तना व जड़ गलन रोक, यहां देखें निवारण

White Stem Rot Disease Mustard
Advertisement

White Stem Rot Disease Mustard:  पिछले दो-तीन वर्षों से सरसों की खेती बड़ी मात्रा में हो रही है। सरसों एक तिल की फसल है। जो तेल पैदा करता है. सरसों रबी मौसम में उगाई जाती है। हाल के वर्षों में सरसों की फसल में सफेद तना सड़न रोग की समस्या अधिक देखने को मिल रही है। वास्तव में इस बीमारी का कोई प्रभावी इलाज नहीं है। लेकिन फिर भी आप बीज एवं मिट्टी उपचार द्वारा इस रोग की रोकथाम आसानी से कर सकते हैं। यह एक खतरनाक बीमारी है. जो आपकी सरसों की फसल को पूरी तरह से नष्ट कर सकता है।

White Stem Rot Disease Mustard:  सरसों में सफेद तना गलन रोग की पहचान

इस रोग में पौधे का तना गलकर सूख जाता है। सरसों में इसकी पहचान के लिए आप जमीन से थोड़ा ऊपर तने में सफेद फफूंद या उल्ली देख सकते हैं। वह स्थान जहाँ फंगस उगता है। काफी समय तक वहां रहने के बाद पौधे का तना टूट जाता है और पौधे सूख जाते हैं और धीरे-धीरे आपकी पूरी फसल नष्ट हो जाती है. इस रोग में तने पर भूरे, काले और सफेद धब्बे दिखाई देते हैं।

Mustard
Mustard

Also Read: wheat plant burning problem: खरपतवार नाशक दवाइयां के प्रयोग से दबे हुए गेहूं को निकालने का तरीका, देखे इस खास रिपोर्ट मे

Advertisement
White Stem Rot Disease Mustard:  सरसों में सफेद तना गलन रोग फैलने का उपयुक्त समय

सरसों में यह रोग दिसंबर और जनवरी माह में सबसे अधिक फैलता है। क्योंकि इस समय मौसम अधिक आर्द्र होता है। दिसंबर और जनवरी के महीने में अगर बारिश होती है और कोहरा रहता है। इससे सरसों के नीचे की पत्तियां नम रहती हैं। और फंगस पौधे के तनों पर लग जाता है। यह बीमारी इन दिनों अधिक तेजी से फैलती है।

White Stem Rot Disease Mustard:  सरसों में सफेद तना गलन रोग की रोकथाम

सरसों में सफेद तना गलन रोग की रोकथाम रोग प्रकट होने के बाद करना थोड़ा कठिन होता है। इसलिए आपको इस बीमारी के आने से पहले ही इससे बचाव के उपाय करने होंगे।

Also Read: White Stem Rot Disease Mustard: सरसों में तेजी से फ़ैलता जा रहा सफेद तना गलन रोग, जानें कैसे करें रोकथाम

Advertisement
White Stem Rot Disease Mustard: पहले रोकने के उपाय

इस रोग को खेत में आने से पहले रोकने के लिए आपको बाविस्टिन (कार्बेन्डाजिम 50% WP) 2 ग्राम प्रति लीटर की दर से छिड़काव करना होगा। ताकि इस रोग के फफूंद को आपके खेत में आने से पहले ही रोका जा सके.
रोग दिखाई देने पर आप एम-45 (मैन्कोजेब 75% डब्लू.पी.) 2 ग्राम प्रति लीटर और टैबोकेनज़ोल 1 मिली प्रति लीटर का छिड़काव कर सकते हैं।
इस रोग से बचाव के लिए आपको बुआई से पहले मृदा उपचार और बीज उपचार अवश्य करना चाहिए।

नोट-यदि यह बीमारी आपके क्षेत्र में प्रचलित है, या पिछले वर्षों में प्रचलित रही है। इसलिए आप इसे रोकने के उपाय करें। अगर यह आपके क्षेत्र में नहीं फैलता है तो आपको इसमें कुछ भी स्प्रे करने की जरूरत नहीं है।

Mustard
Mustard

Also Read: Dhan Mandi Bhav 19 December 2023: जानें आज धान के भाव में क्या रहा उतार-चढ़ाव

Advertisement
White Stem Rot Disease Mustard:  सरसों में कौन सा रोग होता है

सरसों में तना गलन, जड़ गलन, सफेद झुलसा रोग मुख्य रूप से फैलते हैं।

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Agriculture News: अब किसान बेच सकते है किसी राज्य मे अपनी फसल, इस संसोधन के तहत हुआ संभव

Rampal Manda

जानिए क्या है लाल चंदन के पेड़ की कीमत? सरकार से इसकी खेती के लिए मिलेगा अनुदान

Bansilal Balan

DSR: धान की सीधी बिजाई को बढ़ावा देने के लिए सरकार दे रही मशीन पर 40 हजार रूपये की सब्सिडी

Aapni Agri Desk

Leave a Comment