Aapni Agri
फसलेंकृषि विशेषज्ञ सलाह

wheat plant burning problem: पीली पड़ गई गेहूं तो इस तरीके से खेत को करें हरा-भरा

wheat plant burning problem
Advertisement

wheat plant burning problem:  गेहूं एक ऐसी फसल है। जिसमें बड़ी मात्रा में खर-पतवार जमा हो जाते हैं और खर-पतवार कई प्रकार के होते हैं। कुछ सैकरीन पत्तियों और कुछ चौड़ी पट्टियों वाले खरपतवार के साथ। खरपतवारों को नष्ट करने के लिए किसानों को कभी-कभी दो से तीन बार भी खरपतवार नाशक का प्रयोग करना पड़ता है। क्योंकि गेहूँ में जिद्दी खरपतवार बड़ी मात्रा में पैदा हो जाते हैं। इन खरपतवार नाशक दवाइयां के अत्यधिक उपयोग आपकी गेहूं की फसल को नुकसान पहुंचाता है। कभी-कभी तो फसल पूरी तरह नष्ट हो जाती है।

Also Read: Chanakya Niti: इन गुणों वाली पत्नी होती है सबसे अच्छी और भाग्यशाली, बदल देती है जीवन

wheat plant burning problem:  अधिक मात्रा में दवाइयों का प्रयोग न करें

गेहूं की फसल में खरपतवारनाशकों का प्रयोग अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए। गेहूं की फसल में खरपतवार नाशक से क्षतिग्रस्त गेहूं की मरम्मत के लिए आप कुछ उपाय कर सकते हैं। इन उपायों को अपनाकर आप अपनी फसल को फिर से हरा-भरा कर सकते हैं। और उससे अधिक उपज दे सकता है।

Advertisement
wheat
wheat
wheat plant burning problem:  दबाये गये गेहूँ को ठीक करने की औषधियाँ

अगर आपके गेहूं के पौधे में एक या दो पत्तियां भी हरी हैं। फिर भी आप उसके पौधे को पूरी तरह हरा-भरा बना सकते हैं. इसके लिए आपको कुछ औषधियों का प्रयोग करना होगा। लेकिन अगर आपकी फसल पूरी तरह से नष्ट हो गई है. इसलिए आपको किसी भी प्रकार की कोई भी दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि जली हुई पत्तियों को पूरी तरह से ठीक करना संभव नहीं है। इसके लिए आपकी फसल का थोड़ा हरा-भरा होना जरूरी है. यहां कुछ उपाय दिए गए हैं जो आप दबे हुए गेहूं को खरपतवार नाशक के उपयोग से ठीक करने के लिए अपना सकते हैं।

READ MORE  Wheat Production: तापमान बढ़ने से गेहूं के उत्पादन में कमी आने के बढ़े संकेत, अच्छी पैदावार के लिए तुरंत अपनाएं ये उपाय
wheat plant burning problem:  उपयोग

एटोनिक एनएसीएल (नाइट्रोफेनोलेट 0.3% एसएल) 400 मिली + चेल्टेड जिंक 120 ग्राम या ह्यूमिक एसिड 300 मिली एक दूसरे के साथ घोल बनाकर प्रति एकड़ छिड़काव करें।
सूक्ष्म पोषक तत्व जो आपको अलग-अलग कंपनियों में देखने को मिलते हैं। जैसे गोदरेज (ज़िमगोल्ड) और पीआई (बायोविटा)। आपको उपयोग करने के लिए आवश्यक मात्रा 500 मिलीलीटर प्रति एकड़ है।
इसके लिए आप ब्रोकर सॉल्यूशन का भी उपयोग कर सकते हैं। प्रति एकड़ 2.5 किलोग्राम यूरिया, 2.5 किलोग्राम डीएपी और 100 ग्राम चेल्टेड जिंक का छिड़काव करें। इस फॉर्मूले को ब्रोकर सॉल्यूशन के नाम से जाना जाता है।
नोट-इन ऊपर बताई गई तीनों विधियों के साथ आपको ग्रीन मिरेकल स्ट्रेस एलेवेटर 500 मि.ली. प्रति एकड़ अवश्य डालना चाहिए। क्योंकि इससे आपके गेहूं को तेजी से ठीक होने में मदद मिलेगी।

READ MORE  Wheat Crop: गेहूं में यह रोग बहुत घातक, जानें कैसे करें उपचार
wheat
wheat

Also Read: PM Kisan Yojana: वापिस होगी प्रधानमंत्री सम्मान निधि की किस्तें, कृषि विभाग करेगा वसूली

Advertisement
wheat plant burning problem:  गेहूं में सल्फर का प्रयोग कब करें

आप गेहूं में सल्फर का उपयोग पानी देने से पहले और पानी देने के बाद किसी भी समय कर सकते हैं।

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Farming Tips: शीतलहर व पाले से फसलों को बचाने का सबसे आसान तरीका, फसल पर नहीं होगा ठंड का असर

Rampal Manda

Scald disease in potatoes: ठंड और कोहरे के कारण आलू में झुलसा रोग, अपनाएं झारखंड के किसान का यह उपाय नहीं होगी फसल खराब

Rampal Manda

Mustard Wheat Gram: सरसों गेहू और चना सहित इन फसलो में करें ये काम, आमदन होगी दुगुनी

Rampal Manda

Leave a Comment