Aapni Agri
कृषि समाचार

Wheat PGR experiment: गेहूं में पैदावार बढ़ाने वाला PGR का प्रयोग कब करें, जानें संपूर्ण जानकारी

Wheat PGR experiment:
Advertisement

Wheat PGR experiment:  चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय की संस्तुति के अनुसार गेहूं की नई किस्मों जैसे डीबीडब्ल्यू-303, डब्ल्यूएच-1270, डीबीडब्ल्यू-187, डीबीडब्ल्यू-222, डीबीडब्ल्यू-327 आदि में पौध वृद्धि नियामक का छिड़काव किया गया है। इसके बारे में कुछ जानकारी कृषि वैज्ञानिक डॉ. ओपी बिश्नोई ने दी है. इस जानकारी में डॉ. ओपी बिश्नोई ने बताया कि गेहूं में प्लांट ग्रोथ रेगुलेटर का छिड़काव कब, क्यों और कैसे करें।

Also Read: Dairy cattle: भारी ठंड में इन बीमारियों का शिकार हो रहे दुधारू पशु, इन तरीकों से करें बचाव

गेहूँ की पैदावार बढ़ाने या लॉजिंग को रोकने के लिए पैक्लोबुट्राज़ोल का उपयोग  कैसे करें? - ज्ञान
Wheat PGR experiment:  गेहूं की उपज बढ़ाने वाला प्लांट ग्रोथ रेगुलेटर

डॉ. ओपी बिश्नोई के अनुसार प्लांट ग्रोथ रेगुलेटर का प्रयोग गेहूं की उन्हीं किस्मों में किया जाना है। ऐसी किस्में जिनकी लंबाई अधिक होती है. जैसे DBW-303, WH-1270, DBW-187, DBW-222, DBW-327 और अन्य किस्में। यदि आपने इनमें से किसी भी किस्म की बुआई अक्टूबर के आखिरी सप्ताह और नवंबर के पहले सप्ताह में की है. और आपके गेहूं की बुआई के समय डेढ़ गुना उर्वरक (यानि 80 किलो डीएपी और 3 से 4 बैग यूरिया) का उपयोग किया गया है।

Advertisement
Wheat PGR experiment: फसल का कद 9 से 10 इंच तक कम

तो आप यह स्प्रे अपनी गेहूं की फसल में कर सकते हैं। यह स्प्रे आपकी गेहूं की फसल का कद 9 से 10 इंच तक कम कर देता है। ताकि वह गिरे नहीं. अत्यधिक उर्वरक के कारण गेहूँ के पौधे नरम हो जाते हैं। और वे लंबे हो जाते हैं. इस उद्देश्य के लिए ग्रोथ कंट्रोलर का उपयोग किया जाता है।

READ MORE  Agri Tips: इन उपायों को फॉलो कर अपनी फसल से आप पा सकते है बंपर उत्पादन, यहां जानें तरीका
Wheat PGR experiment: गेहूं में प्लांट ग्रोथ रेगुलेटर का उपयोग कब करें

किसान साथी ग्रोथ रेगुलेटर आपको इन किस्मों में दो बार उपयोग करना होगा। पहला स्प्रे आपको 50 से 55 दिन की फसल पर करना है. और दूसरा स्प्रे आपको 80 से 85 दिन पर करना है. जब आप देखते हैं कि आपकी गेहूं की फसल घास जैसी दिख रही है और उसमें जमीन नहीं है। तभी आपको ग्रोथ कंट्रोलर का उपयोग करना चाहिए। अन्यथा यदि आपने इनमें से किसी भी किस्म को रेतीली मिट्टी या हल्की मिट्टी में बोया है। तो आपको इनमें से किसी भी दवा का उपयोग करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

READ MORE  Central Government: किसान आंदोलन के बीच केंद्र सरकार ने दिया बड़ा फैसला, गेहूं खरीद का पैसा 48 घंटे में होगा खाते में

गेहूं की खेती में खरपतवार प्रबंधन - Wikifarmer

Advertisement

Also Read: Education: भारत में फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची, इन विश्वविद्यालयों की डिग्री उच्च शिक्षा और नौकरियों के लिए नहीं है मान्य

Wheat PGR experiment:  गेहूँ में प्लांट ग्रोथ रेगुलेटर की गेहूं में मात्रा

डॉक्टर ओपी बिश्नोई के अनुसार आपके बीएएसएफ (लियोसिन) को 2 मिलीलीटर प्रति लीटर के साथ-साथ टेबुकोनाजोल 25.9% ई.सी. की 1 मिलीलीटर मात्रा प्रति लीटर के हिसाब से छिड़काव करने की सलाह दी गई है। यह स्प्रे आपको अपनी फसल पर दो बार करना होगा. यह स्प्रे आपके गेहूं के दाने को मजबूत बनाता है और लंबे समय तक गेहूं को गिरने से बचाता है।

Advertisement
READ MORE  poultry farmingtips: अब घर बेठे को मुर्गीपालन तकनीक सिखाएगी सरकार, जानें कैसे
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

El nino meaning: खत्‍म होने ही वाला है अल नीनो, जानें भारतीय किसानों को कैसे होगा फायदा

Rampal Manda

Advisory for Farmers: आलू टमाटर की फसल में झुलसा रोग का खतरा, जानें समाधान

Rampal Manda

PM Kisan Nidhi: अगर आपने भी नहीं किया ये काम तो इस बार भी नहीं आएगी अगली किस्त खाते में, जल्द ही करें ये काम

Aapni Agri Desk

Leave a Comment