Aapni Agri
कृषि समाचार

Wheat Crop: मौसम गेंहू की फसल केअनुकूल, कृषि एक्सपर्ट ने बताया गेहूं को केसे होगा फायदा

Wheat Crop:
Advertisement

Wheat Crop:  नए साल के आगमन के साथ ही उत्तर भारत के राज्यों में कड़ाके की ठंड पड़नी शुरू हो गई है। हरियाणा के कई हिस्सों में शीतलहर के साथ-साथ कोहरा भी पड़ रहा है। इससे किसानों में चिंता बढ़ गई है। उन्हें डर है कि कोहरे और शीतलहर के कारण उनकी रबी की फसल को नुकसान होगा. लेकिन किसानों को ठंड से चिंता करने की जरूरत नहीं है. कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि कोहरे और कड़ाके की ठंड का रबी फसल पर सकारात्मक प्रभाव पड़ने की उम्मीद है। खासकर गेहूं की फसल के लिए यह ठंड काफी फायदेमंद हो सकती है.

Also Read: Weight Loss Yoga Poses: PCOS के कारण अगर बढ़ गया हो वजन, वजन काम करने में मददगार ये 3 योगासन

wheat
wheat
Wheat Crop:  भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने अगले कुछ दिनों में हरियाणा में भारी कोहरे और शुष्क मौसम की भविष्यवाणी की है। इस बीच कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि इस समय गेहूं की फसल को विकसित होने के लिए कम तापमान की जरूरत है। इसलिए यह ठंडी गेहूं की फसल के लिए फायदेमंद है। चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय (एचएयू) के गेहूं वैज्ञानिक ओम प्रकाश बिश्नोई ने कहा कि जो किसान कुछ दिन पहले तक उच्च तापमान से चिंतित थे, उन्हें अब तापमान में गिरावट से राहत मिली है।

Advertisement
Wheat Crop:  यह प्रक्रिया धीमी हो गयी है

उन्होंने कहा कि औसत से अधिक तापमान के कारण पहले बोयी गयी गेहूं की फसल में बालियां गिरने लगी हैं. लेकिन दिन और रात के तापमान में 3-4 डिग्री सेल्सियस की गिरावट ने प्रक्रिया को धीमा कर दिया है। इससे पौधों को गेहूं के दानों को परिपक्व करने के लिए अधिक समय मिलेगा, क्योंकि बालियां जल्दी निकलने से दाने कमजोर हो सकते हैं। हालांकि, ओम प्रकाश बिश्नोई ने कहा कि पाले से सरसों की फसल को नुकसान हो सकता है।

READ MORE  Banas Dairy: अन्नदाता को ऊर्जादाता-उर्वरकदाता बनाने का प्लान, जानें कैसे होगा किसानों का फायदा
Wheat Crop:  इससे फसलों को नुकसान नहीं होगा

बिश्नोई ने कहा कि किसानों को शुष्क मौसम के प्रभाव से बचाने के लिए सरसों और गेहूं के खेतों में हल्की सिंचाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि किसानों को गेहूं की खड़ी फसल पर जिंक सल्फेट और यूरिया का संतुलित छिड़काव करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हालांकि कुछ कारणों से कुछ पौधों के पीले हो जाने की शिकायतें मिली हैं।

Wheat Crop: अभी रबी फसल में कोई बीमारी नहीं

लेकिन अभी रबी फसल में कोई बीमारी नहीं है. कुछ क्षेत्रों में जहां मिट्टी में सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी है, इसका असर गेहूं की फसल पर पड़ सकता है। लेकिन किसानों को एचएयू द्वारा जारी सलाह का पालन करना चाहिए। इससे फसलों को नुकसान नहीं होगा.

Advertisement

Also Read: KCC: क‍िसान क्रेड‍िट कार्ड को लेकर सरकार ने पाई बड़ी सफलता, क‍िसानों को म‍िलेंगे इतने करोड़ रुपये

READ MORE  poultry farmingtips: अब घर बेठे को मुर्गीपालन तकनीक सिखाएगी सरकार, जानें कैसे
wheat
wheat
Wheat Crop:  दिन में तापमान 13.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया

हरियाणा में सबसे कम तापमान भिवानी में 6.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। भिवानी में भी अधिकतम तापमान 11.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो राज्य में सबसे कम तापमान है। हिसार जिले के बालसमंद में रात का न्यूनतम तापमान 6.9 डिग्री सेल्सियस और दिन का 13.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

wheat irrigation: गेहूं में करें चार से छह सिंचाई, जानें कब-कब देना होता है पानी

Rampal Manda

हरियाणा में सोलर पंप के लिए आवेदन कल से: बिजली कनेक्शन आवेदकों को मिलेगी प्राथमिकता, नियमों में हुए कई बदलाव

Aapni Agri Desk

Agricultural Advisory: रबी फसलों की अच्छी पैदावार के लिए कृषि वैज्ञानिकों ने जारी की एडवाइजरी, किसानों को होगा मुनाफा

Rampal Manda

Leave a Comment