Aapni Agri
कृषि समाचार

Treatment yellowing leaves wheat: गेहूं की पत्तियों में मुड़कर पीलापन आने की समस्या से अब पाएं छुटकारा, जानें कैसे

Treatment yellowing leaves wheat:
Advertisement

Treatment yellowing leaves wheat: किसी भी फसल की बुआई से लेकर कटाई तक किसानों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कभी अत्यधिक तापमान, कभी अत्यधिक ठंड तो कभी बारिश से किसानों को नुकसान होता है। वहीं, समय-समय पर फसलों में कई तरह की बीमारियां भी लग जाती हैं। जिससे इन फसलों पर किसानों की लागत और भी अधिक बढ़ जाती है।

Also Read: Wheat Crop: मौसम गेंहू की फसल केअनुकूल, कृषि एक्सपर्ट ने बताया गेहूं को केसे होगा फायदा

Wheat
Wheat
Treatment yellowing leaves wheat: पत्तियां बीच से पीली पड़ जाती हैं

फसलों में समय पर छिड़काव और खाद पानी देने के बावजूद भी किसानों को उनका पूरा उत्पादन नहीं मिल पाता है और कुछ किसान तो अपनी फसलें भी खो देते हैं। ऐसी ही एक समस्या गेहूं में होती है, जिसमें पत्तियां बीच से पीली पड़ जाती हैं। यह एक आम समस्या है, लगभग सभी क्षेत्रों में देखी जाती है। नीचे जानें इस बीमारी के कारण और उपचार के बारे में –

Advertisement
Treatment yellowing leaves wheat: जिससे गेहूं में पत्तियां पीली हो जाती हैं

गेहूं के अंदर ऐसी समस्या लगभग सभी किसानों में देखी जाती है। गेहूं के पौधे की पत्तियां बीच में से पीली पड़ जाती हैं। ऐसे पौधे जिनमें पत्तियाँ बीच से मुड़ी हुई होती हैं और जो भाग मुड़ा हुआ होता है उसमें हल्का पीलापन दिखाई देता है। इस रोग के होने का मुख्य कारण आपकी फसल में विभिन्न शाकनाशियों का उपयोग करना है। अपने दो-तीन खरपतवारों को मिलाकर छिड़काव किया होगा। यही कारण है कि आपको अपनी गेहूं की फसल में यह समस्या देखने को मिल रही है। यह कोई खतरनाक बीमारी नहीं है. इसे आसानी से हल किया जा सकता है.

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Treatment yellowing leaves wheat: गेहूँ में पत्तियाँ पलटने से पीलापन का उपचार

किसान गेहूं में इस समस्या का इलाज आसानी से कर सकते हैं. इसके लिए किसान भाई सूक्ष्म पोषक तत्वों (जिंक, आयरन, सल्फर, मैग्नीज, बोरॉन, कॉपर) का छिड़काव करें जो किसान आमतौर पर करते हैं। इसे प्रति एकड़ 250 मिलीलीटर ह्यूमिक एसिड के साथ अवश्य मिलाएं।

Wheat
Wheat

किसानों को इस बीमारी से डरने की जरूरत नहीं है. अगर आप स्प्रे भी नहीं करते. फिर भी फसल अपने आप ठीक हो जाती है। लेकिन इसे ठीक होने में थोड़ा समय लगता है। फसल में जल्दी हरियाली लाने के लिए आपको स्प्रे करना होगा.

Advertisement

Also Read: XPoSat Mission 2024: ISRO ने दिलाई बड़ी कामयाबी, भारत ब्लैक होल के लिए सैटेलाइट भेजने वाला दूसरा देश बना

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Treatment yellowing leaves wheat: गेहूं की फसल में पोटाश कब डाला जाता है?

गेहूं में पोटाश बुआई के समय दिया जाता है। लेकिन अगर आप इसे बजाई के समय नहीं दे सके , तो आप इसे पहले पानी पर दे सकते हैं।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Agriculture News: बारिश की वजह से इन फसलों को खतरा, जानें कैसे करें बचाव

Rampal Manda

What is Mawatha: देश के अधिकांश जगहों पर बरस रहा मावठा, जिससे फसलों को हो रहा फायदा

Rampal Manda

Haryana Agriculture News: हरियाणा के किसानों के लिए कृषि एडवाइजरी, फसल को बचाने के लिए इन दवाओं का प्रयोग करना जरूरी

Rampal Manda

Leave a Comment