Aapni Agri
कृषि समाचार

Time to apply last fertilizer to garlic: लहसुन में आखिर में कौन सी खाद डालें, पैदावार बढ़ाने के लिए दे सही मात्रा

Time to apply last fertilizer to garlic:
Advertisement

Time to apply last fertilizer to garlic: फिलहाल सभी किसानों की लहसुन की फसल करीब 90 से 100 दिन पुरानी है. यह लहसुन में कंद बनने का समय है। लहसुन की लगभग सभी किस्में 120 से 160 दिनों में पक जाती हैं। इन किस्मों में खाद डालते समय आप किस्म के आधार पर 5-10 दिन ऊपर-नीचे कर सकते हैं। लहसुन में अंतिम उर्वरक आपकी उपज को बढ़ाता है और साथ ही आपके लहसुन की गुणवत्ता में भी सुधार करता है। जिससे आपको बाजार में अच्छे दाम मिलते हैं। लहसुन में हमें आखिरी उर्वरक कौन सा और किस समय डालना चाहिए

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: Scheme: हरियाणा में अगले महीने से मिलेगा 1 किलो कम गेहूं, जानिए क्यों?

Garlic Farming: अक्टूबर महीने में करें लहसुन की इन पांच किस्मों की खेती,  इनकम होगी भरपूर - Cultivate these five varieties of garlic in month of  October they give more profits -
Time to apply last fertilizer to garlic: लहसुन में अंतिम उर्वरक का समय

किसान भाइयों हमें लहसुन में आखिरी खाद 90 से 95 दिन पर देनी चाहिए। यह आखिरी उर्वरक डालने का सबसे अच्छा समय है। अगर आप इसके बाद जमीन में लहसुन की खाद डालते हैं तो इससे आपको फायदे की जगह नुकसान होगा। क्योंकि यह लहसुन है इससे लहसुन की लंबाई बढ़ जाएगी।

Advertisement
Time to apply last fertilizer to garlic: कंद का वजन कम

उसके कंद का आकार बढ़ जाएगा. लेकिन कंद का वजन कम हो जाएगा. इसलिए किसानों को 90 से 95 दिन के बाद भूमि उर्वरक का प्रयोग नहीं करना चाहिए। यदि आप बाद में खाद डालना चाहते हैं। तो आप स्प्रे के माध्यम से एनपी ग्रेड उर्वरक दे सकते हैं।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: Agriculture News: दुधारू पशुओं को खिलाएं यह चीज, बढ़ जाएगी दूध की मात्रा

best Garlic Farming Farmers should know method of cultivation of garlic  dvmp | Garlic Farming: लहसुन की खेती का ये तरीका जान लें किसान, दोगुनी होगी  फसल | Hindi News, Madhya Pradesh - MP
Time to apply last fertilizer to garlic: लहसुन में डालने वाला अंतिम उर्वरक कौन सा है

किसान भाइयों, हमें अपनी लहसुन की फसल में 90 से 95 दिन पर 20 से 25 किलोग्राम प्रति एकड़ की दर से कैल्शियम नाइट्रेट डालना चाहिए। इसके साथ ही हमें इस समय यूरिया का प्रयोग नहीं करना है। क्योंकि इस समय लहसुन को भी उतनी ही नाइट्रोजन की आवश्यकता होती है जितनी पौधे को। वह कैल्शियम नाइट्रेट पौधे को मिलता है, या वह इसे जमीन से अपने आप उठा लेता है। कैल्शियम नाइट्रेट लहसुन के कंदों के आकार को बढ़ाने के साथ-साथ उनकी गुणवत्ता में भी सुधार करता है।

Advertisement
Advertisement
READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

How to Identify Fake Fertilizers: ऐसे करें असली और नकली खादों की पहचान, जान लें ये टिप्स

Rampal Manda

केंद्र सरकार ने 1.8 लाख करोड़ रूपये की उर्वरक सब्सिडी को दी मंजूरी, जानें रेटों में क्या हुआ बदलाव

Aapni Agri Desk

Nano Urea: नैनो यूरिया के इस्तेमाल से गेहूं की पैदावार में आई बम्पर कमी, पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी ने उठायें सवाल

Rampal Manda

Leave a Comment