Aapni Agri
कृषि समाचार

Splitting of wheat: गेहूं के फुटाव के साथ साथ होगी बम्पर पैदावार, डाले ये चीज

Splitting of wheat
Advertisement

Splitting of wheat:  आज हम उस समस्या के बारे में बात करेंगे जिससे किसान इस समय सबसे ज्यादा परेशान है। हर कोई इस बात को लेकर चिंतित है कि अपनी फसल से अधिकतम लाभ कैसे उठाया जाए। लोग तरह-तरह की चीजें अपना रहे हैं। आज हम आपको कुछ ऐसा बताने जा रहे हैं जो आपके होश इस कदर उड़ा देगा कि पूरा गांव बस देखता रह जाएगा। यह खाद है इफको पोटैशियम नाइट्रेट 13-0-45 (IFCO पोटैशियम नाइट्रेट 13-0-45) जो आपके गेहूं की कलियों को ज्यादा तोड़ने में मदद करेगा और आपको बंपर पैदावार भी मिलेगी।

गेहूं की इन 2 नई किस्म से कम पानी में मिलेगा बंपर उत्पादन, इन राज्यों के  किसान कर सकते हैं बुवाई - Bumper production will be available in less water  than 2

Also Read: Rabi Crops: बेमौसम बारिश से गेहूं की फसल को हो रहा फायदा तो आलू की फसल को नुकसान, जानें बचाव का तरीका

Advertisement
Splitting of wheat:  इफको पोटैशियम नाइट्रेट 13-0-45 क्या है

पोटेशियम नाइट्रेट एक बहुत शक्तिशाली पानी में घुलनशील उर्वरक है। इससे फसल की पैदावार बहुत अच्छी होती है. इसमें 13% नाइट्रोजन और 45% पोटैशियम होता है। पोटेशियम नाइट्रेट पौष्टिक होता है और पौधों को उत्कृष्ट पोषण प्रदान करता है। पोटेशियम नाइट्रेट पैदावार बढ़ाता है और सब्जियों, खेतों की फसलों, फूलों और फलों की गुणवत्ता में सुधार करता है। इससे मिट्टी की उर्वरता भी बढ़ती है और अच्छे पोषक तत्व मिलते हैं।

READ MORE  Agri Tips: इन उपायों को फॉलो कर अपनी फसल से आप पा सकते है बंपर उत्पादन, यहां जानें तरीका
Russia Ukraine War: अचनाक क्यों बढ़ने गेहूं के दाम, क्या है इसका रूस और यूक्रेन की वॉर से कनेक्शन | Wheat Prices Surge Amid Russia's Invasion Of Ukraine—Heres What That Means For
Splitting of wheat:  इफको पोटैशियम नाइट्रेट के क्या फायदे हैं

नाइट्रोजन से पौधों की जड़ें तेजी से बढ़ती हैं।
नाइट्रोजन के प्रयोग से कलियाँ अच्छी तरह फूटती हैं।
यह पौधे में हरा रंग लाता है.
यह वानस्पतिक वृद्धि के लिए एक आवश्यक तत्व है।
नाइट्रोजन पौधों की वृद्धि के लिए आवश्यक प्रोटीन और विटामिन का उत्पादन करती है।

Splitting of wheat:  का उपयोग कैसे करें

यह बहुत ही शक्तिशाली होता है, यह उर्वरक फसल की मध्य अवस्था से लेकर पकने की अवस्था तक लाभकारी होता है। इसका उपयोग ड्रिप सिंचाई विधि और पत्ती स्प्रे विधि दोनों द्वारा किया जा सकता है। ताकि फसल को उचित पोषण मिल सके। ड्रिप सिंचाई विधि में लगभग 1.5 से 2.5 ग्राम उर्वरक प्रति लीटर पानी में मिलाना चाहिए और पर्ण स्प्रे विधि में 1.0-1.5 ग्राम पानी में घुलनशील पोटेशियम नाइट्रेट 13-0-45 प्रति लीटर पानी 60- में मिलाना चाहिए। बुआई के 70 दिन बाद. इस्तेमाल किया जाना चाहिए। इससे आपको काफी अच्छे परिणाम मिल सकते हैं.

Advertisement

Also Read: Haryana: हरियाणा सरकार के खिलाफ पूर्व क्रिकेटर व DSP जोगिंदर शर्मा पहुंचे हाईकोर्ट, जानें क्या है पूरा मामला

READ MORE  Crop Production: गेहूं-चावल का उत्‍पादन रिकॉर्ड तोड़, जानें सरसों और अरहर का हाल
Wheat Cultivation Process & Precautions For Better Production In Ganga And Singhu Land Area | Wheat Cultivation: इस बार गेहूं की बंपर पैदावार दे सकते हैं ये इलाके, इन खास तरीकों से
Splitting of wheat:  कीमत क्या है

भारत में, इफको पोटेशियम नाइट्रेट 13-0-45 उर्वरक के एक बैग की कीमत 200 रुपये प्रति किलोग्राम है। खाद का 10 किलो का बैग अमेज़न पर 3489 रुपये में उपलब्ध है। और कई अन्य कंपनियों की लागत इससे काफी कम हो सकती है, इसलिए आपको शोध करने की आवश्यकता है।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Nano Urea: नैनो यूरिया के इस्तेमाल से गेहूं की पैदावार में आई बम्पर कमी, पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी ने उठायें सवाल

Rampal Manda

Agri Tips: इन उपायों को फॉलो कर अपनी फसल से आप पा सकते है बंपर उत्पादन, यहां जानें तरीका

Rampal Manda

Rain In North India: पूरा उत्‍तर भारत ठंड से झुझ रहा, अब गर्मी में फसलों मे कितना नुकसान

Rampal Manda

Leave a Comment