Aapni Agri
कृषि समाचार

Rabi Crops Sowing: दलहन फसलों का रकबा घटा, जानें सरसों और मोटे अनाजों का क्या है हाल

Rabi Crops Sowing:
Advertisement

Rabi Crops Sowing: इस साल रबी फसलों की बुआई पिछड़ रही है. केंद्रीय कृषि मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक, फसल वर्ष 2023-24 में 5 जनवरी तक कुल 654.89 लाख हेक्टेयर में ही सभी फसलों की बुआई हो पाई है. 2022-23 में इसी अवधि के दौरान 663.07 लाख हेक्टेयर में रबी फसलें बोई गईं।

Rabi Crops Sowing:कम बुआई हुई

इस वर्ष 8.18 लाख हेक्टेयर कम बुआई हुई है। गेहूं, धान, चना, मूंगफली, उड़द, मूंगफली, सूरजमुखी, तिल और अलसी का रकबा पिछले वर्ष की तुलना में कम है। वहीं सरसों और मोटे अनाज का रकबा पिछले साल से ज्यादा है. एक भी मोटे अनाज के रकबे में कोई कमी नहीं आई है.

Also Read: What is Mawatha: देश के अधिकांश जगहों पर बरस रहा मावठा, जिससे फसलों को हो रहा फायदा

Advertisement
भारत में धान-तिलहन का रकबा घटा, दलहन व मोटा अनाज बढ़ा
Rabi Crops Sowing: रबी सीजन की प्रमुख फसल गेहूं

सबसे पहले बात करते हैं रबी सीजन की प्रमुख फसल गेहूं की। इसकी बुआई में थोड़ी गिरावट देखने को मिल रही है. गेहूं की बुआई लगभग 331.70 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में की गई है, जबकि पिछले वर्ष की समान अवधि में यह रकबा 331.89 लाख हेक्टेयर था। इस प्रकार पिछले वर्ष की तुलना में 0.19 लाख हेक्टेयर कम क्षेत्र कवर किया गया है। पछेती प्रजाति के गेहूं की बुआई जनवरी के पहले सप्ताह तक चलेगी। कुछ राज्य जनवरी के अंत तक क्षेत्र कवरेज की रिपोर्ट देते हैं।

READ MORE  Fertilizer subsidy: नहीं महंगी होगी खाद, उर्वरक सब्सिडी के रूप 24 हजार करोड़ की मिली मंजूरी
Rabi Crops In India Have Been Sown In 720 Lakh Hectares | Agriculture  Growth: रबी फसलों की 720 लाख हेक्टेयर में रिकार्ड बुवाई, धान, दलहन, तिलहन  का रकबा बढ़ा, मोटे अनाज को लेकर ...
Rabi Crops Sowing: धान की खेती के अंतर्गत क्षेत्र

धान की बुआई अभी भी चल रही है और सामान्य या इससे अधिक क्षेत्रफल होने की उम्मीद है। इस साल 5 जनवरी तक केवल 17.98 लाख हेक्टेयर धान की बुआई या रोपाई हुई है। जबकि पिछले सीज़न की समान अवधि में यह रकबा 20.02 लाख हेक्टेयर था। इसका मतलब है कि रबी सीजन का धान का रकबा इस साल से 2.04 लाख हेक्टेयर कम है. पूर्वी राज्यों जैसे पश्चिम बंगाल, असम और उत्तर-पूर्वी राज्यों में ग्रीष्मकालीन चावल की बुआई दिसंबर-जनवरी से शुरू हो जाती है। जबकि दक्षिणी राज्यों, मुख्य रूप से तमिलनाडु, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में बुआई फरवरी-मार्च तक जारी रहेगी।

READ MORE  Central Government: किसान आंदोलन के बीच केंद्र सरकार ने दिया बड़ा फैसला, गेहूं खरीद का पैसा 48 घंटे में होगा खाते में
Rabi Crops Sowing: दलहन की खेती पिछड़ रही है

दलहन का रकबा पिछले साल से 7.97 लाख हेक्टेयर कम है। इस सीजन में 5 जनवरी तक 148.18 लाख हेक्टेयर में दालों की बुआई हो चुकी है. जबकि पिछले वर्ष की समान अवधि में यह 156.15 लाख हेक्टेयर था। चने की बुआई सबसे पिछड़ी हुई है। इसका क्षेत्रफल 7.53 लाख हेक्टेयर से भी कम है। इसका कारण खरीफ फसलों की देर से कटाई, किसानों का दूसरी फसलों की ओर रुख करना और मिट्टी में नमी की कमी है। आंध्र प्रदेश और छत्तीसगढ़ को छोड़कर चने की बुआई लगभग लुप्त हो गई है। संबंधित राज्यों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार इन दोनों राज्यों में चने की बुआई जनवरी के मध्य तक जारी रहेगी।

Advertisement

Also Read: Lifestyle: क्या आप अपनी शादीशुदा जिंदगी को खुशहाल बनाना चाहते हैं? इन तरीकों को अपनाएं

READ MORE  Wheat procurement: Kisan Andolan के बीच बड़ा ऐलान, इस साल MSP के कारण पिछले साल की बजाय कम होगी गेहूं खरीद
Rabi Crops Sowing: गेहूं, धान, चना और मूंगफली की बुवाई प‍िछड़ी, जान‍िए सरसों  और मोटे अनाजों का क्या है हाल? - know the Sowing details of wheat paddy  gram groundnut mustard and
Rabi Crops Sowing: तिलहन फसलों के बारे में क्या

सरसों की बुआई से तिलहनी फसलों का रकबा बना हुआ है। इस साल अब तक 107.21 लाख हेक्टेयर में तिलहन की बुआई हो चुकी है, जो पिछले साल से 0.50 लाख हेक्टेयर ज्यादा है. जनवरी तक 98.86 लाख हेक्टेयर में सरसों की बुआई हो चुकी है पिछले सीजन की समान अवधि में सरसों की बुआई 96.71 लाख हेक्टेयर में हुई थी. यह पिछले साल से 2.15 लाख हेक्टेयर ज्यादा है. जबकि मूंगफली, कुसुम, सूरजमुखी, तिल और अलसी का क्षेत्रफल पिछले वर्ष की तुलना में कम है।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Sulfur Coated Urea: सल्फर कोटेड यूरिया बाजार में उतरी, जानें इसकी कीमत और फायदे

Rampal Manda

Rabi Crop From Frost: फसलों को पाले से बचाने के लिए किसान भाई अपनाएं ये तरीके, फसल को नहीं होगा नुकसान

Rampal Manda

Last irrigation in wheat: जानें गेहूं की आखिरी सिंचाई कब करें, देखें सही समय और सही तरीका

Rampal Manda

Leave a Comment