Aapni Agri
कृषि समाचार

What is Mawatha: देश के अधिकांश जगहों पर बरस रहा मावठा, जिससे फसलों को हो रहा फायदा

What is Mawatha:
Advertisement

What is Mawatha:  देश के अलग-अलग राज्यों में लगातार बदल रहा मौसम कई फसलों के लिए अनुकूल है। गिरती मावठा और गिरते तापमान से जहां गेहूं को काफी फायदा होगा। इस बीच बादलों से दलहनी फसलों पर असर पड़ने की आशंका है। यहां मावठा का मतलब ठंड के दिनों में हल्की बारिश या बारिश की बौछार से है जिससे रबी की फसलों को फायदा होता है। इससे फसलों को सिंचाई का पानी तो मिलता ही है, साथ ही पाले से भी बचाव होता है। मावथा अधिकांश फसलों के लिए उपयोगी है।

Also Read: Milk Subsidy: दूध बेचने वाले किसानों को सरकार का बड़ा तोहफा, प्रति लीटर 5 रुपये की सब्सिडी देगी सरकार

What is Mawatha:  सीजन की पहली बारिश

देश के कई हिस्सों में इस सीजन की पहली बारिश हुई है, जो गेहूं की फसल के लिए अमृत के समान है। कृषि विशेषज्ञों के मुताबिक बारिश के साथ-साथ तापमान में भारी गिरावट गेहूं के लिए अच्छी साबित हो रही है। गन्ने के साथ-साथ दलहन के लिए भी मौसम अच्छा है। मावठे फसलों को प्राकृतिक नाइट्रोजन भी प्रदान करता है और किसानों को उर्वरक की लागत बचाता है।

Advertisement
सर्दी की बरसात यानी की मावठ का दौर फसलों के लिए अमृत है
What is Mawatha:  गेहूं के लिए तापमान बेहतर है

इस बार किसानों के लिए सबसे अच्छी बात यह है कि मौजूदा मौसम गेहूं की फसल के लिए बिल्कुल बेहतर है। देश में गेहूं का क्षेत्रफल सबसे ज्यादा है, ऐसे में किसानों के लिए यह राहत भरी खबर है। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार, गेहूं की वृद्धि के लिए सबसे अच्छा तापमान 5-6 डिग्री सेल्सियस से 10-12 डिग्री सेल्सियस है।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
What is Mawatha: न्यूनतम तापमान 11-12 डिग्री सेल्सियस

पिछले तीन-चार दिनों से कई राज्यों में न्यूनतम तापमान 11-12 डिग्री सेल्सियस के आसपास बना हुआ है. जबकि अधिकतम तापमान में भी काफी गिरावट आयी है. ऐसे में गर्मी का प्रकोप कम हो गया है और इसका सीधा फायदा गेहूं के अच्छे उत्पादन के रूप में मिलेगा.

What is Mawatha:  मावठा नाइट्रोजन प्रदान करता है

देश के ज्यादातर हिस्सों में भारी बारिश हो रही है. कई हिस्सों में सिर्फ तेज बूंदाबांदी हुई लेकिन फिर भी आसमान से बरस रहा पानी फसलों के लिए अमृत साबित हो रहा है. वर्षा की बूंदें फसलों को प्राकृतिक नाइट्रोजन भी प्रदान करती हैं। यह नाइट्रोजन फसलों के लिए प्राकृतिक उर्वरक के रूप में कार्य करता है। विशेषकर गेहूँ की वृद्धि अच्छी है। मावठा गिरने से फसलों में यूरिया डालने की जरूरत नहीं है। मावठा की बात करें तो रबी की बुआई के बाद कड़ाके की ठंड के दौरान होने वाली हल्की बारिश को मावठा कहा जाता है. यह गेहूं की फसल के लिए फायदेमंद है।

Advertisement

Also Read: Weather Updates: देश के कई राज्यों में जारी रहेगा कोहरे ओर शीतलहर का प्रकोप, इन राज्यों में भारी बारिश का अनुमान

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
फसलों के लिए अमृत है मावठ की बूंदें - Mawth drops are nectar for crops
What is Mawatha:  उर्वरक की लागत बच गई

गेहूं गिरने से गेहूं की फसल में बढ़ोतरी होगी। साथ ही चना, मसूर, गन्ना की फसल को फायदा होगा। गिरते पानी से फसलों की सिंचाई की आवश्यकता नहीं पड़ती। इससे किसानों का बिजली बिल और उर्वरक लागत बच जाती है। मौसम विभाग के मुताबिक, करीब तीन दिनों तक बादल और बारिश का मौसम जारी रहेगा. कृषि विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार करीब 07 दिनों तक बादल छाये रहने और बारिश होने की संभावना है.

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Interim Budget 2024: किसानों पर इनकम टैक्स लगाने पर विचार कर सकती है सरकार

Aapni Agri Desk

Crop Compensation: हरियाणा में जारी हुआ फसल बीमा क्लेम, क्या आपके खाते में पहुँच चुकी है राशि

Rampal Manda

Prices of Paddy: देश भर की मंडियों में धान की कीमतों ने छुआ सातवाँ आसमान

Rampal Manda

Leave a Comment