Aapni Agri
फसलें

Pea Disease: ठंडे वातावरण के कारण मटर में इन रोगों का हो रहा अटैक, जानें बचाव उपाय

Pea Disease:
Advertisement

Pea Disease: पिछले सप्ताह से मैदानी इलाकों में कोहरे और कड़ाके की ठंड पड़ रही है। मैदानी इलाकों में घने कोहरे के कारण पाला पड़ने से मटर जैसी दलहनी फसलें प्रभावित हो सकती हैं। घने कोहरे वाली ठंड के कारण दलहनी फसलों पर कई रोग लग जाते हैं, जिससे फसलों को भारी नुकसान हो सकता है। इन रोगों के कारण फसलों के फूल और फलियाँ सूख सकती हैं, जिससे पैदावार कम हो सकती है। इसलिए किसानों को सलाह दी जाती है कि इस समय रोग से बचाव के उपायों पर ध्यान दें।

Also Read: Farming: किसानों की मौज, KCC किसानों 1 लाख रुपये का कर्ज माफ…..

Pea Disease: फ्रोज़न मटर से हो सकती हैं ये बीमारियाँ

आरएयू पूसा, समस्तीपुर के पादप रोग विभाग के प्रमुख, पौधा संरक्षण विशेषज्ञ डॉ. एसके सिंह ने कहा कि लगातार कोहरा और गलन मटर की फसल के लिए बेहद खतरनाक साबित होता है। कोहरे और गिरते तापमान से फसल की वृद्धि कम हो जाती है। इस समय किसानों को फसल के रख-रखाव में बहुत सावधानी बरतने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि कोहरे और गलन के कारण तापमान कम होने से फसल में पाला पड़ने का खतरा बढ़ जाता है। मृदुरोमिल असिता रोग के लक्षण बताए जाते हैं कि फसल की पत्तियां किनारों पर भूरी हो जाती हैं और सूखने लगती हैं।

Advertisement
मटर के ख़तरनाक प्रमुख रोग, लक्षण एवं प्रबंधन - major diseases and  management in pea crop
Pea Disease: इस दवा का छिड़काव करें

मृदुरोमिल आसिता रोग की रोकथाम के लिए किसान मैन्कोजेब (डायथेन एम-45) का 2.5 ग्राम प्रति लीटर पानी की दर से सुरक्षात्मक छिड़काव कर सकते हैं। दोनों दवाओं का हर 10 से 15 दिन पर बारी-बारी से छिड़काव लाभकारी होता है। साथ ही खेत में समान नमी बनाए रखने का प्रयास करें. इससे पैदावार बेहतर होगी और फसल को फायदा होगा.

READ MORE  Wheat cultivation: अगले 15 दिन का मौसम गेहूं की पैदावार के लिए बड़ा महत्वपूर्ण, पीला रतुआ रोग से खतरा
Pea Disease: गलन रोग के लिए मौसम अनुकूल है

इस समय मटर में रूट रॉट रोग या गीला सड़न रोग भी फैलता है। जब वातावरण अत्यधिक आर्द्र हो तो यह रोग अधिक तेजी से फैलता है। इस रोग से मटर की फसल बुरी तरह प्रभावित होती है। हालाँकि, यदि रोग का उचित प्रबंधन किया जाए तो बेहतर पैदावार प्राप्त होती है। यह रोग आमतौर पर छोटे पौधों में अधिक होता है। यह इस बीमारी के लिए सबसे अनुकूल मौसम है।

Gram And Pea Crop Pod Borer Damages Farmers Be Alert | Matar Ki Kheti: चना,  मटर की फसल हो रही बर्बाद, कीटों से बचाने के लिए दवा का ऐसे करें छिड़काव

Advertisement

वास्तव में, लक्षण अक्सर बाढ़ग्रस्त या जलमग्न क्षेत्रों में अधिक आम होते हैं। प्रभावित पौधों की निचली पत्तियाँ हल्की पीली हो जाती हैं। कुछ समय बाद पत्तियाँ सिकुड़ने लगती हैं। यदि पौधों को उखाड़ दिया जाए तो जड़ें सड़ी हुई दिखाई देती हैं। रोग से प्रभावित पौधे सूखने लगते हैं। इससे उत्पादन में भारी कमी आती है। यह रोग मटर की फसल के पौधे को किसी भी अवस्था में प्रभावित कर सकता है। इस रोग के कारण पौधे पीले होकर मुरझा जाते हैं।

READ MORE  Wheat Crop: गेहूं में अधिक फुटाव के लिए क्या करें, जानें यहाँ
Pea Disease: इन औषधियों का प्रयोग करें

यदि इस समय रोग मौजूद है और आप जैविक नियंत्रण करना चाहते हैं तो 10 ग्राम ट्राइकोडर्मा को 1 लीटर पानी में घोलकर प्रयोग करें। इस दवा का उपयोग मटर की जड़ सड़न को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है। यदि रोग तेजी से फैल रहा है, तो मिट्टी को 2 ग्राम प्रति लीटर पानी की दर से रोको एम या कार्बेन्डाजिम नामक कवकनाशी से भिगोने से रोग की गंभीरता बहुत कम हो जाती है।

Also Read: Kheti Desi Jugad: फसलों के लिए रामबाण है हीटर, ठंड से तुरंत मिलेगी राहत

Advertisement
मटर के ख़तरनाक प्रमुख रोग, लक्षण एवं प्रबंधन - major diseases and  management in pea crop
Pea Disease: पहले से ही सावधान रहें

इन रोगों से बचाव के लिए हमेशा प्रमाणित स्रोतों से प्राप्त बीजों का ही उपयोग करें। बुआई के लिए प्रतिरोधी किस्मों का चयन करें. उचित जल निकास वाले खेत का चयन करना सुनिश्चित करें। पौधों के विकास के प्रारंभिक चरण में, विशेषकर ठंड के मौसम में फास्फोरस की संतुलित मात्रा डालें और खेत में बाढ़ से बचें।

Advertisement
READ MORE  Wheat Crop: गेहूं में यह रोग बहुत घातक, जानें कैसे करें उपचार

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Wheat Crop: गेहूं में अधिक फुटाव के लिए क्या करें, जानें यहाँ

Rampal Manda

किसान गुरसिमरन सिंह ने अपने खेत में 20 फल एक साथ उगाकर लोगो को किया अचंभित, पढ़ें सफलता की कहानी

Bansilal Balan

Wheat Crop: जानें गेहूं में लगने वाले पट्टी रोली रोग प्रबंधन के उपाय और लक्षण

Rampal Manda

Leave a Comment