Aapni Agri
कृषि समाचार

Onion Crop: प्याज-लहसुन की पत्तियां का पीलापन हटाने के लिए करें यह उपाय, बंपर होगी पैदावार

Onion Crop:
Advertisement

Onion Crop:  किसी भी फसल की अच्छी पैदावार के लिए उसकी उचित देखभाल जरूरी है। यदि किसान बुआई के बाद फसल की उचित देखभाल नहीं करता है तो उसमें कीट और रोग लग सकते हैं। इससे उनकी पूरी फसल बर्बाद हो सकती है. ऐसे में किसानों को अपनी फसलों की उचित देखभाल करनी चाहिए। देश के कई हिस्सों में इन दिनों प्याज और लहसुन की फसल तैयार हो रही है. प्याज और लहसुन की खेती के दौरान किसानों को अक्सर शिकायत रहती है कि उनकी पत्तियां पीली हो जाती हैं.

Also Read: Animal Husbandry: पशुओं के घर की लंबाई रखें उत्तर-दक्षिण दिशा में, पशुओं में होगा बाधा

Onion Crop:  पत्तियाँ पीली क्यों हो जाती हैं

फसलों में पीलेपन के कारण और नियंत्रण की उचित जानकारी न होने के कारण किसानों को इस समस्या से छुटकारा पाना बहुत मुश्किल लगता है। इस वजह से उन्हें अच्छा उत्पादन और मुनाफा नहीं मिल पाता है. इससे उनकी मेहनत बर्बाद हो जाती है. प्याज और लहसुन की फसल का पीला पड़ना कई कारणों से हो सकता है। मौसम में बदलाव इसका एक प्रमुख कारण है. इसके अलावा, फसल में झुलसा रोग, पत्ती धब्बा रोग, अधिक पानी या नाइट्रोजन उर्वरक की कमी भी एक कारण हो सकता है। इनसे फसल में पत्तियों का पीला पड़ना तथा सूखना जैसे लक्षण उत्पन्न होते हैं।

Advertisement
यदि लहसुन -प्याज की पत्तियां पड़ गई हैं पीली, तो आज ही करें ये उपाय
Onion Crop:  पीलापन कैसे दूर करें

फसल में नाइट्रोजन की मात्रा को पूरा करने के लिए प्रति एकड़ भूमि में 1 किलोग्राम एन.पी. डालें। के 19:19:1 का प्रयोग करें आप उचित मात्रा में यूरिया का छिड़काव करके भी नाइट्रोजन की कमी को पूरा कर सकते हैं। प्याज और लहसुन को नियमित रूप से पानी देने की आवश्यकता होती है, लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि ज़्यादा पानी न डालें। बहुत अधिक पानी के कारण पत्तियाँ पीली होकर मुरझा सकती हैं। पानी देने के बीच मिट्टी को थोड़ा सूखने दें। साथ ही अपनी मिट्टी की भी जांच कराएं। ऐसा मिट्टी में पोषक तत्वों की कमी के कारण भी होता है। इससे पैदावार कम हो सकती है. ऐसे में इन बातों का विशेष ध्यान रखें.

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Onion Crop:  पीलापन का समाधान

थ्रिप्स के नियंत्रण के लिए 50 मिलीलीटर कंट्रीसाइड हॉक को 150 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।

फफूंदी लगने पर 25 ग्राम देहात फुल स्टॉप को 15 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।

Advertisement

यदि जड़ों में संक्रमण हो तो नियंत्रण के लिए क्लोरपाइरीफोस 50 प्रतिशत ई.सी. का प्रयोग करें। उपयोग

कीटनाशकों और फफूंदनाशकों का प्रयोग करते समय खेत में पर्याप्त नमी होना आवश्यक है।

Also Read: 17 IAS Transfer List: राजस्थान मे ब्यूरोक्रेसी मे फेरबदल, गहलोत के करीबी 17 IAS का हुआ तबादला

Advertisement
लहसुन की पत्ती सीधी होने की वजह कुकर रही है जैसे कि आप फोटो में देख सकते  हैं | समुदाय | प्लांटिक्स
Onion Crop:  खेत में अधिक सिंचाई से बचें.

यदि पहले पर्याप्त उर्वरक नहीं डाला गया है तो सिंचाई/सिंचाई के बाद फसल में यूरिया डालें।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

यदि पानी भरने की स्थिति दिखाई दे तो अतिरिक्त पानी निकाल दें।

2 ग्राम डायथेन एम45 प्रति लीटर पानी में घोलकर 15 दिन के अंतराल पर दो बार छिड़काव करें।

Advertisement

रोजर को 1 मिली/लीटर पानी में घोलकर 15 दिन के अंतराल पर दो बार छिड़काव करें।

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Crops cure fog: इन फसलों के लिए रामबाण है कोहरा, जमकर करेगा फायदा

Rampal Manda

Cardamom Crop: इलायची की फसल में लगने वाले प्रमुख रोग व उपचार

Aapni Agri Desk

Bread fruit Farming: जानें ब्रेडफ्रूट की खेती कैसे करें, और इसके अनेकों लाभ पर भी एक नजर डालें

Aapni Agri Desk

Leave a Comment