Aapni Agri
मंडी भाव

Mustard Prices: सरसों के भाव में जबरदस्त तेजी दर्ज, भाव पहुंचा 9000 पार

Mustard Prices Mandi Bhav
Advertisement

Mustard Prices Mandi Bhav: पिछले कुछ हफ्तों में सरसों की कीमतें तेजी से बढ़ रही हैं। किसानों को सरसों के अच्छे दाम मिल रहे हैं. देश की अधिकांश मंडियों में सरसों की फसल न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक पर बिक रही है।

Mandi Bhav:  सरसों के दाम बढ़े

तिलहन फसल की कीमतों में बढ़ोतरी जारी है. अपनी उपज के अच्छे दाम मिलने से किसानों के चेहरे खिले हुए हैं। इस बीच सरसों की कीमतें किसानों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई हैं. दरअसल, पिछले कुछ हफ्तों में सरसों की कीमत में जबरदस्त उछाल देखने को मिला है. किसानों को सरसों के अच्छे दाम मिल रहे हैं. देश की अधिकांश मंडियों में सरसों की फसल न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक पर बिक रही है। सरसों को इतने अच्छे दाम मिल रहे हैं कि यह 9,000 रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंच गई है. आइए आपको बताते हैं देश के अलग-अलग बाजारों में बिक रही सरसों का भाव।

Mandi Bhav
Mandi Bhav

Also Read: Advisory for Farmers: गेहूं की फसल हो चुकी है 21 दिन से ज्यादा समय की तो आपके लिए ये खबर है बड़े काम की

Advertisement
Mandi Bhav:  देशभर के बाजारों में सरसों की कीमतें

केंद्र सरकार ने सरसों का न्यूनतम समर्थन मूल्य 5,450 रुपये तय किया है. देश की ज्यादातर मंडियों में सरसों को ऊंचे दाम मिल रहे हैं। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के एगमार्कनेट पोर्टल के मुताबिक, शुक्रवार (15 दिसंबर) को देशभर के विभिन्न बाजारों में सरसों अच्छे दाम पर बिकी। कर्नाटक में बेंगलुरु की मंडी में सरसों को सबसे अच्छी कीमत मिली। जहां, सरसों 9 हजार रुपए क्विंटल बिकी।

Mustard Prices Mandi Bhav: इसी तरह, कर्नाटक के शिमोगा बाजार में सरसों 8,800 रुपये प्रति क्विंटल पर कारोबार कर रही थी। इसके अलावा, मध्य प्रदेश के मंदसौर बाजार में सरसों 7,079 रुपये प्रति क्विंटल, गुजरात के जामनगर बाजार में 6,900 रुपये प्रति क्विंटल और पश्चिम बंगाल में 6,550 रुपये प्रति क्विंटल थी। सरसों की कीमत उसकी गुणवत्ता पर भी निर्भर करती है। सरसों की किस्म जितनी अच्छी होगी कीमत भी उतनी ही अच्छी मिलेगी.

Mandi Bhav
Mandi Bhav

Also Read: PM Kisan Yojana: किसानों को मिलेंगे 12,000 रुपये, आवेदन शुरू

Advertisement
Mandi Bhav:  सही समय पर बुआई होने का मिलेगा लाभ

सरसों रबी तिलहनों की एक प्रमुख फसल है। सीमित सिंचाई परिस्थितियों में भी सरसों अधिक लाभदायक फसल है। सरसों की फसल के लिए उन्नत तरीके अपनाने से उत्पादन और उत्पादकता में काफी वृद्धि होती है। कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि अगर सरसों की बुआई सही समय पर की जाए तो फसल अच्छी होती है और उत्पादन बढ़ता है. सरसों की बुआई का सर्वोत्तम समय सितम्बर से नवम्बर तक है। फिलहाल देश में सरसों की बुआई लगभग पूरी हो चुकी है. अब इसकी कटाई मार्च से अप्रैल माह में होगी।

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Mandi Bhav 11 December 2023: चना, सरसों, नरमा, ग्वार, धान, तिल सहित अन्य फसलों के भाव जानें आज के

Aapni Agri Desk

Cotton prices: कपास की कीमतें बढ़ने की संभावना, किसानों को होगा फायदा

Aapni Agri Desk

Narma Mandi Bhav 11 December 2023: हरियाणा-राजस्थान की मंडियों में नरमा-कपास के भाव में आई जबरदस्त मंदी, देखें ताजा भाव

Aapni Agri Desk

Leave a Comment