Aapni Agri
कृषि विशेषज्ञ सलाहफसलें

Advisory for Farmers: गेहूं की फसल हो चुकी है 21 दिन से ज्यादा समय की तो आपके लिए ये खबर है बड़े काम की

Advisory for Farmers
Advertisement

Advisory for Farmers:  पूसा के कृषि वैज्ञानिकों ने गेहूं उगाने वाले किसानों के लिए एक एडवाइजरी जारी की है. एडवाइजरी में कहा गया है कि जिन किसानों की फसल 21 से 25 दिन पुरानी हो गई है, उन्हें मौसम की संभावना को ध्यान में रखते हुए अगले पांच दिनों में सिंचाई करनी चाहिए। याद रखें कि उर्वरक की दूसरी खुराक सिंचाई के तीन से चार दिन बाद ही डालें। एडवाइजरी में किसानों को तापमान को ध्यान में रखते हुए जल्द से जल्द पछेती गेहूं की बुआई करने की भी सलाह दी गई है।

Also Read: Haryana News: हरियाणा में सीएम ने सरपंचों को दी खुशखबरी, अब 25 लाख की लिमिट को जाएगा हटाया

Advisory for Farmers:
Advisory for Farmers:
Advisory for Farmers:  एडवाइजरी

एडवाइजरी के अनुसार किसानों को बीज दर 125 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर रखनी चाहिए. बुआई से पहले बीजों को बाविस्टिन 1.0 ग्राम या थायरम 2.0 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज की दर से उपचारित करें। इसके अलावा कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को एचडी 3059, एचडी 3237, एचडी 3271, एचडी 3369, एचडी 3117, डब्ल्यूआर 544 और पीबीडब्ल्यू 373 जैसी उन्नत किस्मों की बुआई करने की भी सलाह दी है.

Advertisement
Advisory for Farmers:  खेतों में दीमकों से कैसे निपटें?

कृषि वैज्ञानिकों ने सुझाव दिया है कि जिन खेतों में दीमक का प्रकोप है, वहां किसानों को पलेवा या सूखे खेत में क्लोरपायरीफॉस (20 ईसी) 5.0 लीटर प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काव करना चाहिए. नाइट्रोजन, फास्फोरस एवं पोटाश उर्वरकों की दर 80, 40 एवं 40 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर होनी चाहिए। देर से बोई गई सरसों की फसल में उर्वरक एवं खरपतवार नियंत्रण। औसत तापमान में कमी को देखते हुए सरसों की फसल में सफेद रतुआ रोग की नियमित निगरानी करें।

Also Read: PM Kisan Yojana 16th installment: 16वीं किस्त आ सकती है इस दिन, आवेदन करते समय ना करें ये गलती

Advisory for Farmers:
Advisory for Farmers:
Advisory for Farmers:  खरपतवारों के लिए करें ये काम

उल्लेखनीय है कि गेहूं की फसल में रबी के सभी खरपतवार जैसे बथुआ, प्याजी, खरतुआ, हिरनखुरी, चटरी, मटरी, सांजी, अंकरा, कृष्णनील, गेहुंसा और जंगली जौ आदि शामिल हैं। हालाँकि, आप रसायनों का उपयोग करके भी इन्हें ख़त्म कर सकते हैं। इसके लिए 3.3 लीटर पेंडामेथिलीन 30 ईसी को 800-1000 लीटर पानी में मिलाकर फ्लैटफैन नोजल प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काव करें. खेत में खरपतवार उगने से रोकने के लिए बुआई के एक या दो दिन बाद ऐसा करें।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

White Stem Rot Disease Mustard: सरसों की फसल में फैल रहा सफेद तना व जड़ गलन रोक, यहां देखें निवारण

Aapni Agri Desk

फसल उगाने से पहले करें मिट्टी की जांच, जानिए मिट्टी का नमूना लेते समय किन बातों का रखें ध्यान

Bansilal Balan

लेग्यूमिनस के पौधों से बढ़ाएं अपने खेतों में नाइट्रोजन, जानें पूरी विधि और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी

Bansilal Balan

Leave a Comment