Aapni Agri
कृषि समाचार

Mustard crop: सरसों की फसल में खाद का प्रयोग इस तरह करें, मिलेंगे बेहतर परिणाम

Mustard crop:
Advertisement

Mustard crop: सरसों की खेती मिश्रित एवं बहुफसली फसल चक्र के माध्यम से आसानी से की जा सकती है। भारत के अधिकांश राज्यों में किसानों द्वारा सरसों की खेती की जाती है। इसके अलावा, अन्य फसलों की तरह, सरसों को भी पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है ताकि किसान इसकी शानदार उपज प्राप्त कर सकें। सरसों रबी की प्रमुख तिलहन फसल है, जिसका भारत की अर्थव्यवस्था में प्रमुख स्थान है। सरसों (लाहा) किसानों के लिए बेहद लोकप्रिय हो रही है। क्योंकि, यह कम सिंचाई और लागत में अन्य फसलों की तुलना में अधिक लाभ प्राप्त करती है।

Also Read: Nano Fertilizer Benefits: नैनो यूरिया ने शानदार परिणाम देकर बनाई अपनी पहचान, किसानों की बढ़ी आमदनी

Mustard crop: इन राज्यों मे होती है खेती

किसान इसकी खेती मिश्रित रूप और बहुफसली फसल चक्र में आसानी से कर सकते हैं। भारत में प्रति वर्ष क्षेत्रफल की दृष्टि से इसकी खेती मुख्य रूप से यूपी, हरियाणा, पश्चिम बंगाल, गुजरात, असम, झारखंड, बिहार, पंजाब, राजस्थान और मध्य प्रदेश में की जाती है। अन्य फसलों की तरह, सरसों की फसल को भी अत्यधिक वृद्धि और शानदार पैदावार के लिए 17 पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। यदि इनमें से एक भी पोषक तत्व की कमी है, तो पौधे अपनी पूरी क्षमता से उत्पादन करने में असमर्थ हैं।

Advertisement
Mustard crop: खाद और उर्वरकों का उपयोग

नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटाश और सल्फर सल्फर के साथ-साथ पर्याप्त मात्रा में ट्रेस तत्व (कैल्शियम, मैग्नीशियम, जस्ता, लोहा, तांबा और मैंगनीज)। सरसों के पौधे अन्य तिलहन फसलों की तुलना में अधिक सल्फर ग्रहण करते हैं। राई-सरसों की फसल में, सूखी और सिंचित दोनों स्थितियों में खाद और उर्वरकों के उपयोग के अनुकूल परिणाम प्राप्त हुए हैं।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Mustard - Crop Science India
Mustard crop: सरसों की फसल में रासायनिक उर्वरकों की मात्रा कितनी है

राई-सरसों से भरपूर उत्पादन लेने के लिए संतुलित मात्रा में रासायनिक उर्वरकों के उपयोग से उपज पर काफी अच्छा प्रभाव पड़ता है। उर्वरकों का प्रयोग मृदा परीक्षण के आधार पर करना अधिक उपयोगी सिद्ध होगा। राई-सरसों को अन्य फसलों की तुलना में नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटाश जैसे प्राथमिक तत्वों के अलावा अधिक सुगंधित तत्वों की आवश्यकता होती है। सरसों में उर्वरकों का सामान्य उपयोग सिंचित क्षेत्रों में नाइट्रोजन 120 कि.ग्रा., फास्फोरस 60 कि.ग्रा. एवं पोटाश 60 कि.ग्रा. उत्कृष्ट पैदावार प्राप्त करने के लिए प्रति हेक्टेयर.

Mustard crop: कितना फॉस्फोरस उपयोग करें

फॉस्फोरस को सिंगल सुपर फॉस्फेट के रूप में उपयोग करना अधिक लाभदायक है। क्योंकि, इससे सल्फर भी उपलब्ध होता है। यदि सिंगल सुपर फास्फेट का प्रयोग न किया जाये तो 40 कि.ग्रा. सल्फर का प्रयोग प्रति हेक्टेयर की दर से करना चाहिए. साथ ही असिंचित क्षेत्रों में उपयुक्त उर्वरकों की आधी मात्रा का उपयोग बेसल ड्रेसिंग के रूप में करना चाहिए।

Advertisement

Also Read: Trending: 18 वर्ष की लड़की ने 60 साल के शख्स को बनाया अपना बॉयफ्रेंड, शेयर की तस्वीरें

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
सरसों के बीज के बारे में वह सब कुछ जो आपको जानना आवश्यक है | इफको बाजार
Mustard crop: डी.ए.पी. प्रयोग

यदि डी.ए.पी. प्रयोग किया जाता है, तो इसके साथ बुआई के समय 200 कि.ग्रा. प्रति हेक्टेयर की दर से जिप्सम का प्रयोग फसल के लिए लाभदायक होता है। साथ ही, शानदार उत्पादन प्राप्त करने के लिए 60 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की दर से सड़ी हुई गोबर की खाद का उपयोग करना चाहिए। सिंचित क्षेत्रों में नाइट्रोजन की आधी मात्रा तथा फॉस्फेट एवं पोटाश की पूरी मात्रा बुआई के समय कूड़े में बीज से 2-3 सेमी. नीचे नाई या चोगोन से दिया जाए। नाइट्रोजन की शेष मात्रा पहली सिंचाई (बुवाई के 25-30 दिन बाद) के बाद शीर्ष ड्रेसिंग द्वारा देनी चाहिए।

Advertisement
READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Mustard crop Mahu pest: सरसों की फसल में माहू कीट होगा जड़ से खत्म, करें इस कीटनाशक का स्प्रे

Rampal Manda

Burn Disease: अगर ठंड में बढ़ गया है झुलसा रोग का खतरा, तो फसलों की देखभाल करें ऐसे

Rampal Manda

Wheat farming: गेहूं की अधिक पैदावार पाने के लिए अपनाएं ये नुस्खे, ध्यान से पढ़ें किसान भाई

Rampal Manda

Leave a Comment