Aapni Agri
पशुपालन

milk production: दुधारू पशुओं को घर पर बनाकर खिलाएं ये दवाई, गर्मी में नहीं होगा दूध कम

milk production:
Advertisement

milk production:  भारत कृषी प्रधान देश है। यहां के किसान खेती के साथ-साथ बड़े पैमाने पर पशुपालन भी करते हैं। देश में लाखों परिवार पशुपालन पर निर्भर हैं। कई किसान दूध और डेयरी उत्पाद बेचकर अच्छा पैसा कमा रहे हैं। लेकिन मौसम में बदलाव का असर मवेशियों पर भी पड़ता है. इससे उनकी दूध देने की क्षमता कम हो जाती है।

milk production:  पशुपालकों की चिंता बढ़ गई

इसका असर प्रजनकों की कमाई पर पड़ता है। वैसे भी अभी मौसम बदल रहा है. अब मौसम धीरे-धीरे सर्दी से गर्मी की ओर बढ़ रहा है। ऐसे में दूध उत्पादन को लेकर पशुपालकों की चिंता बढ़ गई है. लेकिन उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है. वे नीचे बताए गए तरीकों को अपनाकर दूध उत्पादन बढ़ा सकते हैं।

Also Read: RBI Bank: गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीसी) द्वारा की जा रही मनमानी पर आरबीआई की पैनी नजर है।

Advertisement
गर्मी के मौसम में गाय-भैंस के कम दूध देने से हैं परेशान? काम आ सकते हैं ये  घरेलू उपाय - cattlle rearers Home remedies for increasing milk production  in cow and buffalo
milk production:  गर्मी के मौसम में गाय-भैंस ज्यादा बीमार पड़ती हैं।

दरअसल, गर्मी के मौसम में गाय-भैंस ज्यादा बीमार पड़ती हैं। उनकी पाचन क्रिया भी कमजोर हो जाती है। इससे उनकी चारागाह कम हो जाती है। इससे दुधारू पशु कम दूध देने लगते हैं। दूध उत्पादन कम होने से पशुपालकों को आर्थिक नुकसान होता है। उनकी कमाई कम हो गई है. लेकिन किसान कुछ घरेलू उपाय अपनाकर अपनी गाय-भैंसों के दूध उत्पादन को औसत रख सकते हैं।

milk production:  सरसों का तेल खिलाने से फायदा होगा

गर्मी के मौसम में मवेशियों को पानी की अधिक आवश्यकता होती है। इसलिए उन्हें भरपूर पानी दें। साथ ही चारे के रूप में हरी घास अधिक दें, ताकि उनके शरीर को भरपूर पोषक तत्व मिल सकें। इससे मवेशियों के स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और वे स्वस्थ रहेंगे। इसके अलावा किसान अपने मवेशियों को आटा और सरसों का मिश्रण भी खिला सकते हैं. इसके लिए सबसे पहले 300 ग्राम सरसों का तेल लें. – फिर तेल में 250 ग्राम गेहूं का आटा डालें. फिर शाम को जानवर को चारा-पानी दें।

milk production:  इससे दूध देने की क्षमता बढ़ेगी

ध्यान दें कि दवा खिलाने के बाद गाय को पानी पिलाना न भूलें। इस औषधि को अपनी गाय को लगातार एक सप्ताह तक खिलाएं। ये बहुत फायदेमंद होगा. उनकी दूध देने की क्षमता बढ़ेगी. इस बीच, विशेषज्ञों का मानना ​​है कि सेम घास डेयरी मवेशियों के लिए भी बहुत फायदेमंद है। इसे खिलाने से गायों को पहले से अधिक दूध देने में मदद मिलती है। दरअसल, बीन्स औषधीय गुणों से भरपूर एक घास है। इसमें प्रोटीन और फाइबर की मात्रा अधिक होती है। ये दोनों तत्व पशुओं में दूध उत्पादन के लिए आवश्यक हैं। वहीं, बीन ग्रास खाने से पाचन क्रिया भी बेहतर होती है।

Advertisement

घर पर खुद से बनाकर गाय-भैंस को खिलाएं ये दवाई, गर्मी के मौसम में भी कम नहीं  होगा दूध - Milk production will not reduce even in summer season -
Also Read: Mustard prevents cold: सरसों आलू व पालक को पाले से बचाने के लिए अपनाएं ये तरीके

milk production:  घर पर अपनी खुद की औषधीय औषधि बनाएं

किसान चाहे तो गाय-भैंसों की दूध क्षमता बढ़ाने के लिए अपनी घरेलू औषधीय औषधि भी बना सकता है। इसके लिए मेथी, कच्चा नारियल, गेहूं का दलिया, गुड़ का शरबत, जीरा और अजवाइन का मिश्रण बना लें. जबकि, ब्याने के बाद 3 दिन तक मिश्रण खिलाएं। फिर गाय को सामान्य चारा खिलाना शुरू करें। आप देखेंगे कि आपके पशु की दूध उत्पादन क्षमता हमेशा सही रहेगी।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Dairy Farming: डेयरी खोलने के लिए मिलेगा 20 लाख रुपये का लोन, ऐसे उठाएं लाभ

Aapni Agri Desk

Bakrid 2023: आजकल बाजार में इस नस्ल के बकरों की जबरदस्त डिमांड, 55 से 60 किलो तक होता है वजन

Bansilal Balan

Animal Husbandry: प्रतिदिन 30 लीटर दूध देती है इस नस्ल की भैंस, होगी मोटी कमाई

Aapni Agri Desk

Leave a Comment