Aapni Agri
फसलें

Main precautions while planting chillies: मिर्च की रोपाई करते समय रखें ये सावधानियां, पैदावार होगी बम्पर

Main precautions while planting chillies:
Advertisement

Main precautions while planting chillies:  मिर्च की रोपाई फरवरी में शुरू होती है। जैसे ही हल्की धूप निकलने लगती है, साथी किसान मिर्च की रोपाई शुरू कर देते हैं। मिर्च की पौध तैयार कर रोपाई की जाती है। मिर्च लगाते समय हमें कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। ताकि हमारी मिर्च शुरू से ही अच्छी जड़ें पकड़ें और विकास करें, जल्दी और अच्छी पैदावार दें।

Main precautions while planting chillies: किसानों को भारी आर्थिक

कुछ किसान मिर्च बोते समय गलतियाँ करते हैं। जिससे उनकी पैदावार कम हो जाती है। मिर्च के अधिकांश पौधे रोपाई के बाद सूख जाते हैं और किसानों को भारी आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ता है। इसलिए मिर्च की रोपाई करते समय हमें कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए, जिनका उल्लेख नीचे किया गया है।

Also Read: PMFBY documents: प्राकृतिक आपदा से खराब हो जाए फसल तो इन 6 दस्तावेजों से मिलेगा मुआवजा, जानें यहाँ

Advertisement
मिर्च की रोपाई करते समय क्या-क्या सावधानियां रखें:अधिकतर किसान करते हैं ये  गलतियां, Main Precautions While Planting Chillies » खेती जानकारी
Main precautions while planting chillies:  मिर्च की रोपाई करते समय मुख्य सावधानियाँ

मिर्च के पौधे को उखाड़ने से पहले हमें पौधे पर थ्रिप्स और माइट्स के लिए स्प्रे करना चाहिए। ताकि इसके कीट रोग मर जाएं और पौधे का रस न चूसें.रोपण से पहले खेत की अच्छी तरह जुताई करें और मिट्टी को भुरभुरा बनाने के लिए खाद या वर्मी कम्पोस्ट डालें। खेत में हमेशा स्वस्थ पौधे ही लगाएं। रोगग्रस्त पौधों को हटा दें. ताकि काली मिर्च के पौधे न मरें.रोपाई करते समय लाइन से लाइन की दूरी 1.5 फीट और पौधे से पौधे की दूरी 1 से 1.25 फीट रखें।

Also Read: Karnal: करनाल से आरक्षित लोकसभा सीट को लेकर राजपूत समाज की मांग, एससी समाज को भी मिले चुनाव लड़ने का मौका, जानिए पूरा मामला?

हरी मिर्च को तेजी से कैसे उगाएं: फूल, फल और उत्पादन उपज बढ़ाने के लिए  सर्वोत्तम युक्तियाँ
Main precautions while planting chillies:  रोपाई के तुरंत बाद पानी दें और हल्का पानी दें।

जड़ को गलाने के लिए पानी के साथ आपको मेटलैक्सिल 8% + मैंकोजेब 64% WP या थियोफैनेट मिथाइल 70% WP का छिड़काव करना चाहिए। ताकि पौधे की जड़ फंगल रोगों से प्रभावित न हो। किसान भाई शुरुआत में ग्रोथ प्रमोटरों का प्रयोग न करें। ग्रोथ प्रमोटर्स का प्रयोग 10 से 15 दिन बाद ही करें।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

खरपतवार के समाधान ने बदल दी धान किसान की किस्मत, जानिए कितनी बढ़ी आमदनी

Bansilal Balan

New Variety of Paddy: वैज्ञानिकों ने इजाद की धान की नई वेरायटी, बंपर पैदावार के साथ पराली जलाने से मिलेगी निजात

Aapni Agri Desk

Sandalwood Cultivation: हरियाणा सहित उत्तर भारत में भी कर सकते हैं चंदन की खेती, हो जाएंगे मालामाल

Aapni Agri Desk

Leave a Comment