Aapni Agri
फसलें

Identification mustard: सरसों में माहू कीट का नियंत्रण करें ऐसे, फलियां बननेगी पॉवर फूल

Identification mustard:
Advertisement

Identification mustard:  इस समय सरसों की फसल फलियां बनने के लिए लगभग तैयार है, या कुछ किसानों की फसल में फूल आ रहे हैं। इस समय रात का मौसम ठंडा और दिन का मौसम थोड़ा गर्म होता है। परिणाम स्वरूप सरसों की फसल में तेला चेपा या माहू कीट का प्रकोप देखा जा रहा है। यह बीमारी लगभग हर साल और हर क्षेत्र में किसानों के खेतों में देखी जाती है। यह कीट गेहूं की फसल में भी अधिक संख्या में पाया जाता है। आज हम जानेंगे कि तेला चेपा या माहू कीट पर नियंत्रण कैसे करें तथा इसके नियंत्रण के लिए क्या सावधानियां बरतनी चाहिए। हम इस बारे में पूरी बात करेंगे.

READ MORE  yellow rust wheat: गेहूं में इस कारण फैलता है पीला रतुआ रोग, जानें बचाव उपाय

Also Read: Dairy Farm Loan: डेयरी पशु खरीदने के लिए किसानों को बिना गारंटी मिलेगा 7 लाख रुपये तक का लोन, जानें आवेदन प्रक्रिया

Outbreak Of Moth On Mustard Crop - Siddharthnagar News - सरसों की फसल पर  माहू कीट का प्रकोप
Identification mustard:  सरसों में माहू कीट (तेला चेपा) की पहचान

माहू कीट (तेला चेपा) को आप आसानी से पहचान सकते हैं। इस रोग के कारण सरसों के ऊपरी डंठल पर छोटे-छोटे कीड़े लग जाते हैं। जो झुंड में रहकर पौधों का रस चूसते हैं और हमारी फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं। यह हल्के हरे रंग का होता है. जिससे उपज का नुकसान होता है। और किसानों को आर्थिक नुकसान होता है.

Advertisement
Identification mustard:  सरसों में माहू कीट (तेला चेपा) के लिए छिड़काव कब करें

किसानों, हमें फसलों पर खर्च कम करके आय बढ़ानी चाहिए। अगर आप बिना सोचे समझे कोई भी स्प्रे करेंगे. तो यह आपको आर्थिक रूप से महंगा पड़ेगा। सरसों की फसल पर छिड़काव करने से पहले आपको यह जांचना होगा कि जो पौधा आप देख रहे हैं उसके आसपास के 100 से 150 पौधे संक्रमित हैं या नहीं। यदि हां तो कितनी मात्रा में. इसके 100 से 150 पौधों में से 5 से 10 पौधों पर माहू कीट दिखाई देते हैं और वह भी अधिक संख्या में दिखाई देते हैं। तभी हमें स्प्रे करना चाहिए। अन्यथा हमें स्प्रे करने की जरूरत नहीं है. क्योंकि सरसों की फसल में मित्र कीट भी होते हैं. जो स्प्रे से मर सकता है.

READ MORE  Seed Treatment: अच्छी पैदावार के लिए बीज उपचार बहुत जरूरी, बुआई से पहले ये काम करना न भूलें
Identification mustard:  सरसों में माहू कीट (तेला चेपा) के नियंत्रण के उपाय

सरसों में माहू कीट (तेला चेपा) के नियंत्रण के लिए हमें व्यवस्थित कीटनाशकों का प्रयोग करना चाहिए। क्योंकि ये कीट संपर्क कीटनाशकों द्वारा नियंत्रित नहीं होते हैं। इस रोग को नियंत्रित करने के लिए आप नीचे सूचीबद्ध कुछ कीटनाशकों का उपयोग कर सकते हैं।

Also Read: Pashu Kisan Credit Card: छोटे किसान इस तरीके से बनवाएं पशुधन क्रेडिट कार्ड, थोड़े से ब्याज पर पाएं लाखों रुपये का लोन

Advertisement
माहू कीट और सरसों की फसल से ऐसे करें नियंत्रण, यहां जानें पूरी जानकारी -  Control this way from aphids and mustard crop
Identification mustard:  सरसों का प्रमुख कीट कौन सा है?

सरसों शीत ऋतु की फसल है। माहू तेला-चेपा प्रमुख कीट रोग है।

Advertisement
READ MORE  Prevention empty grains wheat: गेहूं की बाली में दाने कम रहने का यह है मुख्य कारण, जानें कैसे करें बचाव

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Leaf Miner Disease: सरसों की फसल में आया लीफ माइनर रोग, ऐसे करें नियंत्रण

Aapni Agri Desk

Rice Export: सरकार का बड़ा फैसला, चावल निर्यातकों को 6 महीने की राहत

Aapni Agri Desk

Mustard Crop Acreage: सरसों के तेल की महंगाई से मिलने वाली है राहत, सरसों के रकबे पर आया बड़ा बयान

Rampal Manda

Leave a Comment