Aapni Agri
फसलें

Fungus diseases moong: मूंग की उन्नत खेती और बजाई समय, जानें सम्पूर्ण जानकारी

Fungus diseases moong:
Advertisement

Fungus diseases moong:  मूंग एक दलहनी फसल है। मूंग की दाल का उपयोग लगभग पूरे भारत में किया जाता है। मूंग की खेती कम लागत में अधिक मुनाफा देने वाली खेती है। आपको बस एक या दो उर्वरक डालना है और आपकी मूंग तैयार है। मूंग आप भारत के लगभग सभी भागों में उगा सकते हैं। आज हम आपको बताएंगे कि मूंग उगाने का सही समय, बीज की सही मात्रा और सिंचाई कब करनी चाहिए। इस सब के बारे में विस्तृत जानकारी के लिए नीचे दिया गया पूरा लेख पढ़ें

Also Read: wheat irrigation: गेहूं में करें चार से छह सिंचाई, जानें कब-कब देना होता है पानी

Fungus diseases moong:  मूँग बीजने का समय

मूंग एक ऐसी फसल है जिसका उपयोग आप लम्बे समय तक कर सकते हैं। मूंग की बुआई मुख्यतः 15 मार्च से 5 जुलाई तक की जाती है। इसके लिए हमें मार्च में थोड़ा ज्यादा बीज लेना होगा और जून, जुलाई में हम थोड़ा कम बीच ले सकते हैं.

Advertisement
गर्मियों में मूंग की उन्नत खेती
Fungus diseases moong:  मूंग के लिए बीज की मात्रा

यदि आप मार्च, अप्रैल में मूंग की बुआई करते हैं तो आपको 8 से 10 किलो बीज का उपयोग करना होगा। यदि आप जून और जुलाई में मूंग उगाते हैं, तो आपको प्रति एकड़ 6 से 7 किलोग्राम बीज का उपयोग करना होगा। मूंग की बुआई करते समय फफूंदनाशकों एवं कीटनाशकों से बीज उपचार करना चाहिए।

Fungus diseases moong:  मूंग में सिंचाई का समय

मूंग की फसल चार सिंचाईयों में तैयार हो जाती है। पहली सिंचाई हमें 10 से 12 दिन के अंतराल पर करनी होती है. क्योंकि मार्च और अप्रैल में सूरज तेज़ होता है और गर्मी बढ़ जाती है। इसलिए हमें सिंचाई जल्दी करनी होगी. मूंग में हमें पहली सिंचाई 10 से 12 दिन पर, दूसरी सिंचाई 20 से 22 दिन पर, तीसरी सिंचाई 35 से 40 दिन पर और चौथी सिंचाई 55 से 60 दिन पर करनी चाहिए. लेकिन सिंचाई अलग-अलग खेतों में अलग-अलग समय पर की जाती है। किसान अपने खेतों की सिंचाई कर सकते हैं।

Fungus diseases moong:  मूंग में फफूंद एवं कीट रोग

मूंग कुछ फंगल रोगों और कीट रोगों के प्रति भी संवेदनशील होती है। इसलिए किसानों को समय-समय पर कीट एवं फफूंदजनित रोगों के लिए छिड़काव करते रहना चाहिए। आप चाहें तो इसके लिए एक शेड्यूल भी बना सकते हैं कि किस समय इसका छिड़काव करना है। आप किसी भी सस्ते फफूंदी नाशक का छिड़काव कर सकते हैं।

Advertisement
Moong ki kheti in Hindi | मूँग की खेती की जानकारी | Aadhunik kisan – आधुनिक  किसान
Fungus diseases moong:  मूंग के पकने का समय

मूंग की फसल को पकने में लगभग 60 से 70 दिन का समय लगता है। यह समय आपके बोने के समय और आपके क्षेत्र पर निर्भर करता है। इसमें 10 दिन ऊपर-नीचे हो सकते हैं।

Fungus diseases moong:  मूंग के बाजार भाव

मूंग का बाजार मूल्य आसानी से 9,000 रुपये से 11,000 रुपये प्रति क्विंटल तक है। आप इसे किसी भी समय बो सकते हैं. इतनी कीमत पर ये आसानी से बिक जाता है.

Fungus diseases moong:  मूंग की औसत उपज

मूंग की उपज आसानी से 6 से 7 क्विंटल प्रति एकड़ हो जाती है। यह पैदावार आपके खेती करने के तरीके और आपकी देखभाल पर भी निर्भर करती है। अगर आप सही समय पर सही उर्वरक और पोषण का उपयोग करते हैं। तो आप मूंगफली की फसल से निश्चित रूप से 10 क्विंटल तक उपज प्राप्त कर सकते हैं।

Advertisement

Also Read: Lifestyle: पैसों से नहीं खरीदी जा सकती है खुशियां, स्टडी में आया हैरान करने वाला सच…

मूंग में कौन सा उर्वरक डालना चाहिए

मूंग की फसल में आपको अधिक उर्वरक डालने की जरूरत नहीं है. 50 किलो यूरिया में यह आसानी से यूरिया में हो जाएगा।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

पेड़ों से होगी जबरदस्त कमाई, वन विभाग की योजना से मालामाल हो सकते हैं किसान

Bansilal Balan

Pea Farming: इस महीने करें मटर की इन टॉप 7 किस्मों की खेती, मिलेगी बंपर पैदावार

Aapni Agri Desk

Farming Tips: शीतलहर व पाले से फसलों को बचाने का सबसे आसान तरीका, फसल पर नहीं होगा ठंड का असर

Rampal Manda

Leave a Comment