Aapni Agri
कृषि समाचार

wheat irrigation: गेहूं में करें चार से छह सिंचाई, जानें कब-कब देना होता है पानी

wheat irrigation:
Advertisement

wheat irrigation: देशभर में गेहूं का सीजन चल रहा है. गेहूं की फसल अच्छी है क्योंकि ठंड के मौसम में बंपर पैदावार होने की संभावना है। किसान कुछ बातों का ध्यान रखकर अपनी गेहूं की फसल को स्वस्थ रख सकते हैं। सिंचाई एवं खरपतवार नियंत्रण सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। गेहूं की फसल को पूरे जीवनकाल में 35 से 40 सेमी पानी की आवश्यकता होती है। पानी की सबसे अधिक आवश्यकता गेहूँ को छतरी, जड़ और बाली निकलने के समय होती है। गेहूं को इन तीन समय पर पानी देना चाहिए अन्यथा फसल स्वस्थ नहीं होगी। साथ ही गेहूं की पैदावार बढ़ाने के लिए समय पर पानी के साथ खाद देना भी बहुत जरूरी है.

Also Read: Agriculture Advisory: घना कोहरा फसलों पर कर रहा जमकर अटेक, जानें अपने अपने राज्यों के बचाव उपाय

गेहूं में कब करें अंतिम सिंचाई, अच्छी उपज के लिए किन बातों का रखें ध्यान -  when to irrigate wheat crop last time after sowing weeds control and  pesticides spray in wheat -
wheat irrigation: समय पर पानी

समय पर पानी देने से आपकी उपज एक से दो क्विंटल प्रति एकड़ तक बढ़ सकती है। इसलिए किसानों को पता होना चाहिए कि गेहूं कब बोना है, कब पानी देना है और कब खाद डालना है। ताकि गेहूं से बंपर पैदावार प्राप्त की जा सके.

Advertisement
wheat irrigation: गेहूं की सिंचाई कब करें

पूरे फसल चक्र के दौरान गेहूं को चार से छह सिंचाई की आवश्यकता होती है। यदि मिट्टी भारी है, तो चार सिंचाई की आवश्यकता होती है और यदि मिट्टी हल्की है, तो छह सिंचाई की आवश्यकता होती है। गेहूं की छह अवस्थाएं होती हैं जिनमें सिंचाई करना बहुत फायदेमंद होता है. इन परिस्थितियों के अनुसार ही गेहूं की सिंचाई करनी चाहिए। आइए जानते हैं ये छह चरण क्या हैं और गेहूं में आखिरी सिंचाई कब करनी चाहिए।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
wheat irrigation: छह चरण क्या हैं

पहली सिंचाई – बुआई के 20-25 दिन बाद जब जड़ें बनने लगें।
दूसरी सिंचाई- बुआई के 40-45 दिन बाद जब कलियाँ विकसित होने लगें।
तीसरी सिंचाई- बुआई के 65-70 दिन बाद, जब तने में गांठें बनने लगें।
चौथी सिंचाई- बुआई के 90-95 दिन बाद जब फूल आने लगें।
पांचवी सिंचाई – बुआई के 105-110 दिन बाद जब बीज दूध देने लगें।
छठी या अंतिम सिंचाई – बुआई के 120-125 दिन बाद जब गेहूं के दाने सख्त हो रहे हों।

गेहूं की विभिन्न अवस्थाओं में सिंचाई से होता है फायदा
wheat irrigation: सिंचाई करते समय इन बातों का रखें ध्यान

यदि गेहूं की फसल देर से बोई गई हो तो पहली सिंचाई बुआई के 18-20 दिन बाद तथा अगली सिंचाई बुआई के 15-20 दिन बाद करनी चाहिए। सिंचाई के बाद एक तिहाई नाइट्रोजन का छिड़काव करने की सलाह दी जाती है। कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि खरपतवार फसलों के लिए उपलब्ध नाइट्रोजन का 47 प्रतिशत, फॉस्फोरस का 42 प्रतिशत, पोटाश का 50 प्रतिशत, मैग्नीशियम का 24 प्रतिशत और कैल्शियम का 39 प्रतिशत उपयोग करते हैं। इसके अलावा, खरपतवार कीटों और बीमारियों को भी आश्रय देते हैं जो फसलों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए खरपतवार नियंत्रण बहुत जरूरी है.

Advertisement

Also Read: Viral: 4 साल के बच्चे ने स्कूल में अपने सहपाठी से की सगाई, तोहफे में दी 12 लाख रुपये की पुश्तैनी सोने की ईंट—

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
wheat irrigation: फसल को कीटों से कैसे बचाएं

यदि गेहूं में कोई फंगस रोग दिखाई दे तो प्रोपीकोनाजोल के 0.1% घोल या मैन्कोजेब के 0.2% घोल का छिड़काव करें। गेहूं की फसल को चूहों से बचाने के लिए जिंक फॉस्फाइड या एल्यूमीनियम फॉस्फाइड छर्रों से बने चारे का उपयोग किया जा सकता है। इससे चूहे मर जायेंगे. यदि गेहूं में संकरी पत्ती वाली घास उग रही हो तो बुआई के 1-3 दिन के अंदर पेंडीमेथालिन 1000-1500 ग्राम/हेक्टेयर का छिड़काव करें।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Wheat MSP Price 2024-25: 2400 रुपये प्रति क्विंटल एमएसपी पर गेहूं खरीदेगी सरकार, किसान रखें इन बातों का ध्यान

Aapni Agri Desk

Wheat Crop: अगर गेहूं की फसल को बर्बाद कर रहे हैं जड़ माहू कीट, तो अपनाएं ये तरीके

Rampal Manda

Protected Farming: जानें संरक्षित खेती के बारे में, किसानों को कैसे मिलता है इसका लाभ

Rampal Manda

Leave a Comment