Aapni Agri
कृषि समाचार

Farming Tips: समय की मांग है बिना मिट्टी के खेती करना, ऐसे होगा संभव

Farming Tips:
Advertisement

Farming Tips: भारत में कृषि का एक अनोखा इतिहास है। यहां के किसानों का मानना ​​है कि खेती के लिए उपयुक्त मौसम, जलवायु, मिट्टी और विस्तृत जगह की आवश्यकता होती है। लेकिन बदलते वक्त के साथ हर चीज दिन-ब-दिन बदलती जा रही है। कृषि क्षेत्र में कई आधुनिक बदलाव हुए हैं, जो समय की मांग और आवश्यकता दोनों हैं। दरअसल, देश में दुनिया की आबादी दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है और इसके साथ ही शहरीकरण भी तेजी से बढ़ रहा है। परिणामस्वरूप, मिट्टी या कृषि योग्य भूमि की कमी हो गई है। समझा जा रहा है कि खेती का दायरा भी सिमटता जा रहा है. इसी बात को ध्यान में रखकर वैज्ञानिक मिट्टी रहित खेती को बढ़ावा दे रहे हैं।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: PM Kusum Yojana: 74 हजार किसानों को सब्सिडी पर सोलर पंप मिलेंगे, जानें आवेदन का तरीका

Farming
Farming
Farming Tips: वर्टिकल फार्मिंग

यह एक ऐसी तकनीक है जिसमें वर्टिकल फार्मिंग की जाती है. ये तकनीकें लोगों को न केवल बालकनियों और छतों जैसे धूप वाले उपयोगी क्षेत्रों पर सब्जियां उगाने में मदद करती हैं, बल्कि इस ऊर्ध्वाधर खेती में औषधीय और सजावटी पौधे भी उगाए जा सकते हैं। आइए जानते हैं कि बिना मिट्टी के कितने तरीकों से काम किया जा सकता है।

Advertisement
Farming Tips: मिट्टी रहित खेती के प्रकार

हाइड्रोपोनिक्स तकनीक- हाइड्रोपोनिक्स एक मिट्टी रहित कृषि तकनीक है। इस तकनीक में पौधों के विकास के लिए उचित मात्रा में ऑक्सीजन प्रदान की जाती है। यह शहरी क्षेत्रों में ताज़ी सब्जियाँ और फल उगाने का एक उपयुक्त तरीका है। ये तकनीकें धीरे-धीरे बढ़ती जा रही हैं। इस तकनीक का उपयोग वहां भी किया जा सकता है जहां संसाधन कम हैं और कृषि योग्य भूमि नहीं है।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Farming Tips: एरोपोनिक्स तकनीक

एरोपोनिक्स तकनीक में पौधों की जड़ें हवा में रहती हैं और पौधे बिना मिट्टी के नम वातावरण में बढ़ते हैं। हालाँकि, पौधों की जड़ों पर नियमित अंतराल पर पानी और पोषक तत्वों के घोल का छिड़काव किया जाता है। खेती की इस विधि में कम पानी और उर्वरक का उपयोग होता है। इस तकनीक में किसी भी कीटनाशक का उपयोग नहीं किया जाता है। क्योंकि पौधा नियमित वातावरण में उगाया जाता है।

Also Read:  PM Kisan Yojana: 6000 की बजाय किसानों को नये साल से मिलेंगे पीएम किसान योजना के 9000 रूपये सालाना

Advertisement
Farming
Farming
Farming Tips: मिट्टी रहित खेती क्यों महत्वपूर्ण है

मिट्टी रहित खेती समय की मांग बनती जा रही है। क्योंकि यह जलवायु परिवर्तन से निपटने में मदद करता है। यह पानी की बर्बादी और मृदा प्रदूषण को भी रोकता है। इस तकनीक के उपयोग से बेहतर गुणवत्ता वाले उत्पाद और अधिक पैदावार होने की भी संभावना है। इस तकनीक से खेती करके आप कई नकदी फसलें उगा सकते हैं.

Advertisement
READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Bharat Rice: सरकार ने पेश किया ‘भारत चावल’, कीमत 29 रुपये प्रति किलो

Rampal Manda

wheat irrigation: गेहूं में करें चार से छह सिंचाई, जानें कब-कब देना होता है पानी

Rampal Manda

Bread fruit Farming: जानें ब्रेडफ्रूट की खेती कैसे करें, और इसके अनेकों लाभ पर भी एक नजर डालें

Aapni Agri Desk

Leave a Comment