Aapni Agri
कृषि समाचार

Farmers Protest: मंत्र‍ियों और क‍िसान संगठनों के बीच हुई बैठक में क्या फैसला हुआ, जानें क्या है क‍िसानों का प्लान

Farmers Protest:
Advertisement

Farmers Protest: लोकसभा चुनाव से ठीक पहले क‍िसान संगठनों के द‍िल्ली कूच करने के प्लान ने केंद्र सरकार की च‍िंता बढ़ा दी है. क‍िसान आंदोलन न होने देने की मंशा ल‍िए तीन वर‍िष्ठ मंत्र‍ी अर्जुन मुंडा, पीयूष गोयल और नित्यानंद राय चंडीगढ़ पहुंचे. जहां पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान भी मौजूद रहे.

इन लोगों ने संयुक्त किसान मोर्चा (अराजनैतिक) और किसान मजदूर मोर्चा के पदाध‍िकार‍ियों से बातचीत की. ज‍िसमें क‍िसानों ने साफ कर द‍िया है क‍ि वो 13 फरवरी को द‍िल्ली आएंगे. इस प्लान में कोई बदलाव नहीं है. दूसरी तरफ इन मंत्र‍ियों के जर‍िए सरकार ने कहा है क‍ि वो बातचीत जारी रखना चाहती है. क‍िसान संगठन आंदोलन के साथ बातचीत जारी रखना चाहते हैं. क‍िसान हर‍ियाणा और पंजाब में ट्रैक्टर मार्च की र‍िहर्सल कर रहे हैं.

Also Read: Farming: किसानों से मुलाकात के बाद CM भगवंत मान कहा, वापस लिए जाएंगे सभी मुकदमे
Farmers Protest: किसानों की 12 मांग

क‍िसान नेता अभिमन्यु कोहाड़ ने बताया क‍ि 13 फरवरी को द‍िल्ली कूच करने के पीछे हमारी 12 मांग हैं. एक-एक मांग पर मंत्र‍ियों के साथ व‍िस्तार से चर्चा हुई. हमने तथ्यों के साथ मांग रखी है. संगठनों ने स्पष्ट क‍िया क‍ि क‍िसान टेबल पर बातचीत करने में भी मजबूत है. सड़क पर आंदोलन में भी मजबूत हैं और अपने खेत में फसल उगाने में भी मजबूत हैं. इसके बाद मंत्र‍ियों ने कहा क‍ि ये बहुत गंभीर मुद्दे हैं. इन तथ्यों की जांच-पड़ताल करने और अन्य मंत्र‍ालयों से बातचीत करने के ल‍िए हमें थोड़ा समय चाह‍िए.

Advertisement
दिल्ली में विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों की क्या है मांग? केंद्रीय मंत्रियों  के प्रतिनिधिमंडल संग मीटिंग शुरू - India TV Hindi
Farmers Protest: आंदोलन और बातचीत साथ-साथ चलेगी

इस पर संगठन ने कहा क‍ि जो मंत्री हमने बातचीत करने के ल‍िए आए हैं वो समय ले सकते हैं. बातचीत के दरवाजे अभी भी खुले हैं. हमारी तरफ से भी खुले हैं और सरकार ने भी कहा क‍ि हम बातचीत जारी रखना चाहते हैं. लेक‍िन एक बात स्पष्ट है क‍ि 13 फरवरी का द‍िल्ली कूच का प्लान पहले की तरह ही रहेगा. क‍िसान इसकी तैयारी मजबूत रखें और चलें. अगर आगे सरकार न्योता देगी तो हम बातचीत के ल‍िए तैयार हैं.

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Farmers Protest: 13 फरवरी की 12 मांगें

पूरे देश के किसानों के लिए सभी फसलों की एमएसपी पर खरीद की गारंटी का कानून बनाया जाए और डॉ. स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के अनुसार फसलों के भाव तय किए जाएं.
किसानों और मजदूरों की कर्ज़मुक्ति की जाए.
भूमि अधिग्रहण अधिनियम 2013 को पूरे देश में फ‍िर से लागू किया जाए. भूमि अधिग्रहण से पहले किसानों की लिखित सहमति एवं कलेक्टर रेट से 4 गुणा मुआवज़ा देने के प्रावधान लागू किए जाएं.
लखीमपुर खीरी नरसंहार के दोषियों को सज़ा एवं पीड़ित किसानों को न्याय दिया जाए.

भारत विश्व व्यापार संगठन से बाहर आए एवं सभी मुक्त व्यापार समझौतों पर रोक लगाई जाए.
किसानों और खेत मजदूरों को पेंशन दी जाए.
दिल्ली आंदोलन के दौरान शहीद हुए किसानों को मुआवजा एवं परिवार के एक-एक सदस्य को नौकरी दी जाए.
विद्युत संशोधन विधेयक 2020 को रद्द किया जाए.

Advertisement

Farmers Protest: किसान आंदोलन की तीसरी वर्षगांठ, चंडीगढ़-मोहाली बॉर्डर पर  किसानों का आंदोलन शुरू- Hum Samvet
मनरेगा के तहत प्रति वर्ष 200 दिन का रोजगार, 700 रुपये का मजदूरी भत्ता दिया जाए. मनरेगा को खेती के साथ जोड़ा जाए.
नकली बीज, कीटनाशक दवाइयां एवं खाद बनाने वाली कंपनियों पर सख्त दंड और जुर्माना लगाने के प्रावधान क‍िए जाएं. बीजों की गुणवत्ता में सुधार किए जाएं.
मिर्च, हल्दी एवम अन्य मसालों के लिए राष्ट्रीय आयोग का गठन किया जाए.
संविधान की 5 सूची को लागू किया जाए एवं जल, जंगल, जमीन पर आदिवासियों के अधिकार सुनिश्चित कर के कंपन‍ियों द्वारा आदिवासियों की ज़मीन की लूट बंद की जाए.

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: Animals Ill Symptoms: पशुओं के बीमार होने पर दिखाई देते है ये लक्षण, कभी न लें हल्के में

Punjab me farmers kar rahe protest, jane kya hai karan : Why punjab farmers  protesting in Chandiagrh and Mohali border what is Bhagwant mann said :  Punjab me kisan kyu kar rahe
Farmers Protest: हर‍ियाणा सरकार की शिकायत

कोहाड़ ने बताया क‍ि संगठन ने गृह राज्य मंत्री न‍ित्यानंद राय को हर‍ियाणा सरकार की श‍िकायत की है. हमने कहा है क‍ि एक तरफ केंद्र के मंत्री कह रहे हैं क‍ि हम सकारात्मक माहौल में बातचीत जारी रखना चाहते हैं तो दूसरी ओर हर‍ियाणा सरकार क‍िसानों को परेशान कर रही है. लोगों को नोट‍िस भेज रही है.

Advertisement

जमीन कुर्की के नोट‍िस भेजे जा रहे हैं. उनको खाते सीज करने की धमक‍ियां दी जा रही हैं. पेट्रोल पंप माल‍िकों को कहा जा रहा है क‍ि अगर क‍िसानों के ट्रैक्टरों को तेल द‍िया तो पंप सीज कर देंगे. हमने उन्हें कहा है क‍ि दोनों चीजें एक साथ नहीं चल सकतीं. तानाशाही और सौहार्दपूर्ण माहौल एक साथ नहीं चल सकते. राय ने इस पर संज्ञान लेने का भरोसा द‍िलाया है.

Advertisement
READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Wheat MSP Price 2024-25: 2400 रुपये प्रति क्विंटल एमएसपी पर गेहूं खरीदेगी सरकार, किसान रखें इन बातों का ध्यान

Aapni Agri Desk

Watermelon Farming: तरबूज की खेती करना बिल्कुल आसान, इन बातों को करें फॉलो और पाएं ढेर सारा मुनाफा

Rampal Manda

Disadvantages giving wheat urea: गेहूं में कितने दिन तक यूरिया का कर सकते है प्रयोग, जानें बाद में करने के नुकसान

Rampal Manda

Leave a Comment