Aapni Agri
कृषि समाचार

Dynamic Pricing: डायनेमिक प्राइसिंग किसानों के लिए है बड़ी फायदेमंद, सरकार जल्द ला रही यह योजना

Dynamic Pricing:
Advertisement

Dynamic Pricing:  देश में किसानों के हित के लिए सरकार लगातार काम कर रही है. सरकार हमेशा किसानों के हित में कदम उठाती है। इस बीच, सहकारिता मंत्रालय ने घोषणा की है कि सरकार किसानों से एमएसपी से ऊपर तुअर/अरहर खरीदने की योजना बना रही है।

Also Read: Terrible Accident: प्राइवेट बस के नीचे 20 मीटर तक घिसटते रहे 2 दोस्तः चादर में बांधने पड़े शव के टुकड़े

Dynamic Pricing:  अरहर दाल की खरीद की योजना

एनसीसीएफ और नेफेड के माध्यम से तुअर/अरहर दाल की खरीद की योजना। खरीदारी के लिए साप्ताहिक औसत निकालकर गतिशील मूल्य निर्धारण निर्धारित किया जाएगा। सहकारिता मंत्रालय जल्द ही एक नई योजना लेकर आ रहा है। सहकारिता मंत्री अमित शाह जल्द ही इस योजना की घोषणा करेंगे. एमएसपी भारत में किसानों को उनकी उपज की न्यूनतम कीमत की गारंटी देता है, जो किसानों के लिए एक महत्वपूर्ण सुरक्षा के रूप में कार्य करता है।

Advertisement
Dynamic Pricing:  सरकार लगातार किसानों के हित में काम कर रही है

मोदी सरकार ने हाल के दिनों में किसानों के हित में कई फैसले लिए हैं. बाजार में दालों की घरेलू आपूर्ति बढ़ाने के लिए 2023-24 के लिए मूल्य समर्थन योजना (पीएसएस) के तहत अरहर, उड़द और मसूर के लिए 40 प्रतिशत की खरीद सीमा हटा दी गई।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: Kisan Drone: ड्रोन खरीदने पर मिल रही भारी सब्सिडी, जल्द उठाएं फायदा

Dynamic Pricing
Dynamic Pricing
Dynamic Pricing:  किसानों को दालों के अच्छे दाम

इसका मतलब यह है कि सरकार किसानों से जितनी चाहे उतनी दाल खरीद सकती है। सरकार का मानना ​​है कि इससे दो फायदे होंगे. पहला, बाजार में दालों की आपूर्ति बढ़ेगी और कीमतें नियंत्रण में रहेंगी. दूसरा, किसानों को दालों के अच्छे दाम मिलेंगे.

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Wheat farming: गेहूं की अधिक पैदावार पाने के लिए अपनाएं ये नुस्खे, ध्यान से पढ़ें किसान भाई

Rampal Manda

प्राकृतिक खेती की ओर बढ़ा रुझान, तीन साल में 90 फीसदी कम हुई रासायनिक खाद की खपत

Aapni Agri Desk

How to Identify Fake Fertilizers: ऐसे करें असली और नकली खादों की पहचान, जान लें ये टिप्स

Rampal Manda

Leave a Comment