Aapni Agri
कृषि समाचार

Correct mix NPK Boron fungicide: गेहूं में एनपीके बोरोन और फंगीसाइड को मिला कर स्प्रे करने के क्या है फायदे नुकसान, जानें यहा

Correct mix NPK Boron fungicide:
Advertisement

Correct mix NPK Boron fungicide: गेहूं में किसान एनपीके व बोरान का छिड़काव करें। हमारी फसल की वृद्धि के लिए एनपीके की आवश्यकता होती है। दूसरी ओर, बोरान फलों और फूलों को गिरने से रोकता है। एनपीके का उपयोग विभिन्न चरणों में भिन्न-भिन्न होता है। आमतौर पर बालियां निकलने से पहले एनपीके-05234 और बालियां निकलने के बाद एनपीके-0050 का उपयोग किया जाता है।

Wheat
Wheat

Also Read: Mustard Farming: सरसों की भरपूर पैदावार एवं तेल वृद्धि के लिए यह विधि अपनायें।

Correct mix NPK Boron fungicide: एनपीके और बोरान के साथ फंगसनाशी मिला सकते है

कुछ किसान साथी अक्सर यह सवाल पूछते हैं कि क्या हम एनपीके और बोरान के साथ फंगसनाशी मिला सकते हैं। क्योंकि आजकल खेती में मजदूरों की हमेशा समस्या रहती है,

Advertisement

इसलिए किसान एक ही बार में सभी चीजों का छिड़काव करके अपना खर्च और समय दोनों बचाने के बारे में सोचते हैं। ताकि उसे दोबारा स्प्रे न करना पड़े। एनपीके, बोरॉन और कवकनाशी का एक साथ छिड़काव किया जाता है। लेकिन आपको कुछ बातें ध्यान में रखनी होंगी.

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Correct mix NPK Boron fungicide: गेहूं में एनपीके, बोरॉन और फफूंदनाशक मिलाने का सही तरीका

गेहूं की फसल में एनपीके, बोरान एवं फफूंदनाशी मिलाकर छिड़काव किया जा सकता है। लेकिन आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा, नहीं तो ये आपकी फसल को नुकसान पहुंचा सकते हैं.

Also Read: Mustard Variety: सरसों की ये 5 उन्नत किस्में जो हो जाती है चार महीने में तैयार, ओर आमदन भी बम्पर

Advertisement
Wheat
Wheat
Correct mix NPK Boron fungicide: ध्यान देंगे योग्य बातें

जब भी आप एनपीके, बोरान और कवकनाशी को मिलाते हैं। इसलिए आपको एनपीके और बोरान को तरल रूप में लेना होगा।
आप एनपीके, बोरॉन और फफूंदनाशक का अलग-अलग घोल बनाकर टैंक में मिला लें।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

इन तीनों का एक साथ घोल न बनाएं.
एनपीके और बोरॉन के साथ आपको किसी भी कठोर कवकनाशी का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं है। कॉपर ऑक्सीक्लोराइड, कॉपर सल्फेट या टेबुकोनाज़ोल जैसे फफूंदनाशकों का छिड़काव न करें। आप हल्के फफूंदनाशकों का

उपयोग कर सकते हैं। जिससे फसलों पर कोई दबाव नहीं पड़ता।
अगर आपके पानी में टीडीएस ज्यादा है। इसलिए आप एनपीके, बोरॉन और फफूंदनाशक की मात्रा कम कर दें ताकि यह पानी में पूरी तरह घुल जाए।
इन तीनों को एक साथ छिड़कने पर आपका प्रति एकड़ 150 से 200 लीटर पानी इस्तेमाल करना होता है।

Advertisement
Advertisement
READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Burn Disease: अगर ठंड में बढ़ गया है झुलसा रोग का खतरा, तो फसलों की देखभाल करें ऐसे

Rampal Manda

Use of picxel in garlic: लहसुन में बड़े काम की चीज है पिक्सल, कंद वर्गीय फसलों के लिए रामबाण

Rampal Manda

Time to apply last fertilizer to garlic: लहसुन में आखिर में कौन सी खाद डालें, पैदावार बढ़ाने के लिए दे सही मात्रा

Rampal Manda

Leave a Comment