Aapni Agri
कृषि समाचार

Mustard Variety: सरसों की ये 5 उन्नत किस्में जो हो जाती है चार महीने में तैयार, ओर आमदन भी बम्पर

Mustard Variety:
Advertisement

Mustard Variety:  राई प्रमुख तिलहनी फसल है। इस फसल का भारत की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण स्थान है। राई का उपयोग लोग दो तरह से कर सकते हैं। पहला फसल से निकलने वाला खाद्य तेल जिसका उपयोग भोजन बनाने में किया जाता है और दूसरा इसकी भूसी का उपयोग पशुओं के चारे के रूप में किया जाता है। राई की फसल की अधिक उपज और उच्च गुणवत्ता प्राप्त करने के लिए किसान इसकी बेहतर किस्मों की खेती करके अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

Also Read: CM Announcement: सीएम घोषणा को पूरा करने में देरी करने वाले एक्सईएन पर खट्टर ने लिया एक्सन

राई के तेल का रेट इसलिए ज्यादा है क्योंकि राई के तेल का इस्तेमाल लगभग सभी तरह से किया जाता है. राई को लगभग सभी प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है। इसकी फसल सरसों के समान होती है।

Advertisement
Mustard
Mustard
Mustard Variety: इन पांच किस्मों की खेती करें

अगर आप किसान हैं और कोई फसल उगाना चाहते हैं तो आप राई की कुछ उन्नत किस्में उगा सकते हैं। इन उन्नत किस्मों में वरुण, राजेंद्र सुफलाम, क्रांति, पूसा बोल्ड और राजेंद्र राय पचेती किस्में शामिल हैं। इन किस्मों की खेती करके अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है.

READ MORE  Mustard production India: सरसों की फसल में एमएसपी के कारण किसानों के हाथ लगी निराशा, जानें कैसे
Mustard Variety: वरुण किस्म

राई कि यह किस्म 135 से 140 दिन में पककर तैयार हो जाती है. यह किस्म प्रति हेक्टेयर 20 से 22 क्विंटल राई आसानी से पैदा करती है. इस किस्म से 42 प्रतिशत तेल प्राप्त होता है।

Mustard Variety: राजेंद्र राय किस्म

राई कि इस किस्म को तैयार होने में 105 से 115 दिन का समय लगता है. इस किस्म से लगभग 12 से 15 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की दर से राई का उत्पादन किया जा सकता है. यह किस्म 40 प्रतिशत तेल पैदा करती है।

Advertisement
Mustard Variety: पूसा बोल्ड किस्म

राई की यह किस्म 120 से 140 दिन में पककर तैयार हो जाती है. ये किस्में थोड़ी देर से तैयार होने वाली किस्मों में आती हैं। यह किस्म प्रति हेक्टेयर 18 से 20 क्विंटल राई आसानी से पैदा कर देती है. इस किस्म से 42 प्रतिशत तक तेल की पैदावार प्राप्त की जा सकती है।

READ MORE  poultry farmingtips: अब घर बेठे को मुर्गीपालन तकनीक सिखाएगी सरकार, जानें कैसे
Mustard
Mustard
Mustard Variety: क्रांति किस्म

राई की यह किस्म 125 से 130 दिन में पक जाती है. इन किस्मों से प्रति हेक्टेयर 20 से 22 क्विंटल राई की पैदावार आसानी से हो सकती है. इस किस्म में 40 प्रतिशत तक तेल होता है।

Also Read: Chia Seeds Farming: किसानों करें चिया सीड्स की खेती, ये सीड्स है मुनाफे का सौदा

Advertisement
Mustard Variety: राजेंद्र राई पछेती किस्म

राई की यह किस्म 105 से 120 दिन में पक जाती है. इस किस्म के अंतर्गत लगभग 15 से 18 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की दर से राई का उत्पादन किया जा सकता है. यह प्रति हेक्टेयर 41 प्रतिशत तेल का उत्पादन करता है।

Advertisement
READ MORE  Wheat procurement: Kisan Andolan के बीच बड़ा ऐलान, इस साल MSP के कारण पिछले साल की बजाय कम होगी गेहूं खरीद

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

poultry farmingtips: अब घर बेठे को मुर्गीपालन तकनीक सिखाएगी सरकार, जानें कैसे

Rampal Manda

Crops cure fog: इन फसलों के लिए रामबाण है कोहरा, जमकर करेगा फायदा

Rampal Manda

Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Aapni Agri Desk

Leave a Comment