Aapni Agri
फसलेंयोजनाएं

Bonus on Wheat: किसानों को गेहूं पर मिलेगा 125 रुपये प्रति क्विंटल बोनस, रजिस्ट्रेशन शुरू

Bonus on Wheat
Advertisement

Bonus on Wheat: इस बार रबी सीजन में ज्यादातर किसानों ने रबी की मुख्य फसल गेहूं की बुआई की है और इसकी बंपर पैदावार होने की उम्मीद है. इस बीच सरकार ने किसानों को तोहफा देते हुए 125 रुपये प्रति क्विंटल बोनस देने का ऐलान किया है. इससे इस बार किसानों को गेहूं बेचने पर पहले से ज्यादा मुनाफा होगा। इससे उनकी आय भी बढ़ेगी.

Also Read: Gram Prices Increased: चने की कीमतों में भारी उछाल, 10,000 रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंची कीमत

Bonus on Wheat: आपको बता दें कि राज्य सरकार किसानों की आय बढ़ाने के लिए प्रयास कर रही है. गेहूं की खेती की लागत में वृद्धि को ध्यान में रखते हुए, राज्य सरकार ने रबी फसल विपणन सीजन 2024-25 के लिए किसानों को गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर बोनस के रूप में अतिरिक्त लाभ देने का निर्णय लिया है। है। इसके लिए रजिस्ट्रेशन भी किए जा रहे हैं. राज्य के जो किसान गेहूं बेचने के लिए पंजीकरण कराना चाहते हैं, वे इसके लिए पंजीकरण कराकर गेहूं की उपज की बिक्री पर बोनस का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

Advertisement
Bonus on Wheat
Bonus on Wheat
Bonus on Wheat: अब किसानों से किस कीमत पर गेहूं खरीदा जाएगा?

राज्य सरकार की ओर से किसानों को प्रति क्विंटल 125 रुपये का बोनस दिया जाएगा. केंद्र सरकार द्वारा 2024-25 के लिए गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2275 रुपये प्रति क्विंटल तय किया गया है. इस पर राज्य सरकार 125 रुपये बोनस जोड़कर 2400 रुपये प्रति क्विंटल की दर से किसानों से गेहूं खरीदेगी. इससे राज्य के लाखों किसानों को फायदा होगा.

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: Dairy Farming: डेयरी खोलने के लिए मिलेगा 20 लाख रुपये का लोन, ऐसे उठाएं लाभ

Bonus on Wheat: गेहूं खरीद की क्या व्यवस्था होगी?

Bonus on Wheat: राज्य में गेहूं की खरीद भारतीय खाद्य निगम के माध्यम से की जाएगी। इसके लिए निगम द्वारा संचालित उपार्जन केन्द्रों पर रबी विपणन वर्ष 2024-25 के अन्तर्गत किसानों से गेहूँ क्रय किया जायेगा। इसके लिए किसान भारतीय खाद्य निगम डिपो ऑनलाइन सिस्टम के ई-प्रोक्योरमेंट मॉड्यूल पर अपना ऑनलाइन पंजीकरण करा सकते हैं। राज्य सरकार द्वारा किसानों का पंजीकरण 20 जनवरी, 2024 से शुरू हो गया है।

Advertisement
Bonus on Wheat
Bonus on Wheat

Bonus on Wheat: जिन किसानों ने अभी तक न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए पंजीकरण नहीं कराया है, वे ई-मित्र केंद्र, अटल सेवा केंद्र या अन्य माध्यम से इसके लिए पंजीकरण करा सकते हैं। बता दें कि राज्य में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद 10 मार्च 2024 से शुरू की जाएगी.

Also Read: Chanakya Niti: ऐसे मर्दों को देखकर मोहित हो जाती है महिलाएं, जानिए राज

Bonus on Wheat: एमएसपी पर फसल बेचने के लिए रजिस्ट्रेशन के लिए किन दस्तावेजों की जरूरत होगी?

Bonus on Wheat: किसानों को एमएसपी पर गेहूं बेचने से पहले रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होगा. इसके लिए उन्हें कुछ दस्तावेजों की आवश्यकता होगी, ये दस्तावेज इस प्रकार हैं-

Advertisement
Bonus on Wheat
Bonus on Wheat

किसान जन आधार कार्ड
बैंक पासबुक की प्रति
किराये की जमीन/शेयरधारक/ठेके की जमीन- जमीन मालिक का जन आधार कार्ड, वह महीना जिसमें बंटवारा समझौता किया गया है, किराया समझौते की प्रति (पीडीएफ प्रारूप में, अधिकतम आकार 150 केबी तक होना चाहिए)
आपको बता दें कि पंजीकरण के लिए किसान को यह सुनिश्चित करना होगा कि जन आधार कार्ड में नाम, मोबाइल नंबर, बैंक खाता आदि जानकारी अपडेट हो ताकि पंजीकरण में कोई दिक्कत न हो।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: Protect milch animals: दुधारू पशुओं में सायनाइड पॉइजनिंग मचा रहा आंतक, ये रहा लक्षण और बचाव का तरीका

Bonus on Wheat: गेहूं पर बोनस का लाभ उठाने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें

अगर आप राजस्थान के किसान हैं तो आप एमएसपी पर गेहूं की फसल बेचकर बोनस का लाभ उठा सकते हैं। इसके लिए राज्य के किसानों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा. एमएसपी पर गेहूं बेचने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया इस प्रकार है

Advertisement

गेहूं बिक्री के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए सबसे पहले आपको खाद्य विभाग की आधिकारिक वेबसाइट https://food.rajasthan.gov.in/ पर जाना होगा.
यहां होम पेज पर आपको गेहूं खरीद हेतु पंजीकरण का विकल्प दिखाई देगा। आपको इस पर क्लिक करना होगा.
यहां आपके सामने नाम से किसान पंजीकरण खुल जाएगा। इसमें महत्वपूर्ण जानकारी दी जाएगी, जिसे आपको रजिस्ट्रेशन करने से पहले ध्यान से पढ़ना होगा। इसके बाद नीचे हाथ के निशान के साथ ‘किसान पंजीकरण के लिए यहां क्लिक करें’ लिखा होगा, आपको इस लिंक पर क्लिक करना होगा।
यहां क्लिक करते ही एक पेज खुलेगा जिसमें किसान को अपनी निजी जानकारी देनी होगी जिसमें फसल का नाम और जन आधार कार्ड नंबर दर्ज करना होगा. इसके बाद आपको सर्च पर क्लिक करना होगा।

Bonus on Wheat
Bonus on Wheat

Also Read: Heat in February: फरवरी की गर्मी से गेहूं को हो सकता है भारी नुकसान, इन उपायों से बचाएं अपनी फसल को

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

अब आपके सामने जन आधार कार्ड से किसान के परिवार के सदस्यों की सूची प्रदर्शित हो जाएगी। इसमें आपको उस व्यक्ति का नाम चुनना होगा जिसका नाम गिरदावरी है।
इसके बाद आपको खाताधारक का विवरण भरना होगा जिसमें खाताधारक का नाम, पिता या पति का नाम, श्रेणी, जाति, जन्म तिथि, आधार नंबर, मोबाइल नंबर, पंचायत समिति, ब्लॉक, ग्राम पंचायत, गांव शामिल है। और खाताधारक का पता आदि।
इसके बाद किसान को उस क्रय केंद्र का चयन करना होगा जहां वह अपनी फसल बेचना चाहता है।
इसके बाद किसान को जमीन का ब्योरा देना होगा.
यह सभी जानकारी भरने के बाद आपको सेव रिकॉर्ड बटन पर क्लिक करना होगा।
इस प्रकार आपका गेहूं पंजीकरण के लिए पंजीकरण सफलतापूर्वक हो जाएगा।
पंजीकरण के बाद आपके पंजीकृत मोबाइल पर एमएसपी पर गेहूं की फसल बेचने के संबंध में एसएमएस प्राप्त होगा।

Advertisement

Also Read: Wife Property Rights: शादी के बाद किसके पास होगी जमीन, किसके पास होंगे कितने अधिकार?

Bonus on Wheat
Bonus on Wheat
Bonus on Wheat: एसएमएस न मिले तो किसान क्या करें?

Bonus on Wheat: यदि आपको गेहूं की उपज बेचने के लिए पंजीकरण कराने के 7 से 10 दिनों के भीतर आपके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर कोई एसएमएस (संदेश) नहीं मिलता है, तो ऐसी स्थिति में आपको संबंधित क्रय केंद्र से संपर्क करना चाहिए। इसके अलावा आप जानकारी प्राप्त कर सकते हैं

Also Read: Advisory for Wheat Crop: गेहूं में लगने वाले रतुआ रोग का रामबाण इलाज, जानें यहाँ

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Liquor license: चाहते हैं शराब ठेका खोलना तो जानें आवेदन का तरीका व फीस के बारे में विस्तार से

Aapni Agri Desk

Sukanya Samriddhi Scheme: केंद्र सरकार बेटी को दे रही पुरे 22 लाख रूपए, जल्द करें आवेदन

Rampal Manda

Big Change in Solar Pump Subsidy: सोलर पंप के लिए अब खेत में माइक्रो इरिगेशन लगाना हुआ अनिवार्य

Aapni Agri Desk

Leave a Comment