Aapni Agri
फसलें

Agriculture News: गेहूं के किसानों के लिए बहुत कम ये बारिश, जानें इससे कितना होगा फायदा

Agriculture News:
Advertisement

Agriculture News: हाल की बारिश के बाद तापमान में काफी गिरावट आ रही है। इस सीजन में हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में गेहूं की खेती कम से कम सात से 10 फीसदी बढ़ने की उम्मीद है। विशेषज्ञों के मुताबिक आने वाले दिनों में तापमान में गिरावट आएगी। लगभग उसी महीने में, विशेष रूप से मार्च में अनाज भरने के दौरान, असामान्य तापमान वृद्धि से स्थितियाँ खराब हो सकती हैं। उत्पादन पिछले साल से कम रह सकता है.

Also Read: BPL Card: हरियाणा में BPL परिवारों के लिए खुशखबरी, मिलेगी ये सुविधा

बारिश से गेहूं की फसल को फायदा होगा या नुकसान? जानें कृषि वैज्ञानिकों की  क्या है राय
Agriculture News: बुआई का अंतिम डेटा जारी

कृषि मंत्रालय ने शुक्रवार को 2023-24 सीजन के लिए सभी रबी फसलों की बुआई का अंतिम डेटा जारी किया। इस वर्ष गेहूं का क्षेत्रफल 341.57 लाख हेक्टेयर (एलएच) रहा, जबकि 2022-23 में यह 339.20 लाख हेक्टेयर था। रिपोर्ट के मुताबिक, गेहूं के सबसे बड़े उत्पादक उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा बुआई दर 101.41 लाख प्रति घंटे दर्ज की गई, जो 4 फीसदी से ज्यादा है। इससे राजस्थान और महाराष्ट्र में कम कवरेज की भरपाई करने में भी मदद मिली है। पंजाब और हरियाणा का क्षेत्रफल लगभग पिछले साल के बराबर ही है। सरकार ने इस साल 114 मिलियन टन गेहूं उत्पादन का लक्ष्य रखा है.

Advertisement
Agriculture News: इन बातों का रखें ध्यान

विशेषज्ञों का कहना है कि मौजूदा बारिश से किसानों को फायदा हो सकता है। हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में आने वाले दिनों में उमस भरा मौसम रह सकता है। यह फसलों विशेषकर गेहूं के लिए अच्छा साबित हो सकता है। राजस्थान में किसान गेहूं की अच्छी फसल की उम्मीद कर रहे हैं. हालाँकि, अत्यधिक वर्षा से फसल को नुकसान हो सकता है।

Also Read: Goat Green fodder: बकरी को अधिक मात्रा में कभी न खिलाएं यह चारा, लग सकती है खतरनाक बीमारी

Farmers worried due to untimely disease catching in wheat crop - गेहूं की  फसल में असमय रोग पकड़ने से किसान परेशान, मधुबनी न्यूज
Agriculture News: बिना सूरज फसल में रोग लगने की आशंका

यदि बारिश के बाद सूरज नहीं निकलता है, तो फसल में रोग लगने की आशंका अधिक होती है। जिसके लिए किसानों को खेतों में जल निकासी की उचित व्यवस्था करनी चाहिए. साथ ही किसानों को फसल की निगरानी करनी चाहिए और बीमारियों और कीटों के प्रकोप पर भी ध्यान देना चाहिए.

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Fungus diseases moong: मूंग की उन्नत खेती और बजाई समय, जानें सम्पूर्ण जानकारी

Rampal Manda

Increasing Wheat Stalks: गेहूं की बढ़वार (बूटा मारना) चाहते हैं तो अपनायें ये तरीका, होगा गजब का लाभ

Aapni Agri Desk

Rice Export: सरकार का बड़ा फैसला, चावल निर्यातकों को 6 महीने की राहत

Aapni Agri Desk

Leave a Comment