Aapni Agri
पशुपालन

Goat Green fodder: बकरी को अधिक मात्रा में कभी न खिलाएं यह चारा, लग सकती है खतरनाक बीमारी

Goat Green fodder:
Advertisement

 Goat Green fodder:  कृषि के साथ-साथ सहायक व्यवसाय के रूप में गाय, भैंस, बैल, बकरी, भेड़, मछली, मुर्गीपालन, मधुमक्खी आदि को पाला जा सकता है। बकरी पालन एक ऐसा व्यवसाय है जिसे बहुत ही कम पूंजी और कम जगह में आसानी से किया जा सकता है। बकरी एक छोटा जानवर है, जिसे बहुत आसानी से पाला जा सकता है। इसे सीमांत और भूमिहीन किसानों द्वारा दूध और मांस के लिए पाला जाता है। इसके अलावा बकरी की खाल, बाल और रेशे का भी व्यावसायिक महत्व है।

Also Read: CSMT Station: मुंबई के एक स्टेशन से 12 लाख के नल-टोंटी हुए चोरी, बाथरूम देखकर रेलवे भी रह गया हैरान

Goat Farming: बकरी पालन में बड़े फायदे का सौदा है नेचुरल फार्मिंग (चारा),  जानें क्या बोले साइंटिस्ट - green fodder from natural farming for organic  meat and milk of goat CIRG Scientist -
Goat Green fodder:  25 से 33.3 फीसदी तक सब्सिडी

फिलहाल बकरी पालन में केंद्र और राज्य सरकारें 25 से 33.3 फीसदी तक सब्सिडी देती हैं. उचित प्रशिक्षण और मार्गदर्शन से बकरी पालन को एक लाभदायक व्यवसाय बनाया जा सकता है। लेकिन बकरी पालन शुरू करने से पहले यह जरूरी है कि किसान को बकरी पालन से जुड़ी सारी जानकारी हो. खासकर खाने-पीने को लेकर. आपको बता दें कि अगर बकरी रसीला चारा खाती है तो उसे कई तरह की बीमारियां होने की आशंका हो सकती है। आइए जानें क्या है पूरा मामला.

Advertisement
 Goat Green fodder:  बकरियों को हरा चारा खिलाएं

हरा चारा न केवल बकरियों बल्कि गाय-भैंसों के आहार में भी बहुत खास माना जाता है। विशेषज्ञों के अनुसार हरा चारा प्रोटीन, खनिज, लवण और विटामिन से भरपूर होता है। बकरियों द्वारा खाया जाने वाला हरा चारा कई रूपों में उपलब्ध है। जैसे विभिन्न प्रकार की घासें, पेड़ों की पत्तियाँ, फलियाँ, पत्तेदार सब्जियाँ, बरसीम और चार आदि। यदि अच्छा चारागाह, झाड़ियाँ और पौष्टिक हरा चारा उपलब्ध हो तो अनाज मिश्रण आवश्यक नहीं है। अन्य स्थितियों जैसे बढ़ते बच्चे को 100 ग्राम देना चाहिए।

 Goat Green fodder:  अनाज का विशेष ध्यान रखें

अनाज मिश्रण, प्रजनन काल के दौरान नर को 200 ग्राम, गर्भवती बकरियों को 200 ग्राम (पिछले 60 दिन) और एक ली. डेयरी बकरियों को प्रतिदिन 250 ग्राम अनाज मिश्रण खिलाना चाहिए। अनाज मिश्रण बनाने के लिए स्थानीय उपलब्धता के आधार पर कोई भी सस्ता अनाज 50-60 प्रतिशत, दालें 20 प्रतिशत, खली 25 प्रतिशत, गेहूं की भूसी या चावल की भूसी 10 प्रतिशत, खनिज मिश्रण 2 प्रतिशत और साधारण नमक 1 प्रतिशत तैयार करें।

Dungarpur News : इस नस्ल की बकरियों को पालकर आदिवासी कमा रहे अच्छा मुनाफा,  जानिए इन बकरियों के बारे में - Tribals can increase their income by rearing  goats of this breed –

Advertisement

शत. बकरियों का आहार धीरे-धीरे बदलें। बकरियों को अधिक मात्रा में बरसीम, लूसर्न, बीन्स जैसे रसीले चारे न खिलाएं, इससे बकरियों में कामोत्तेजक रोग हो सकता है। बकरियों को ऐसे क्षेत्रों में चरने के लिए न भेजें जहां सुबह के समय घास पर ओस और पानी जमा हो, इससे एंडोपरैसाइट्स का प्रकोप हो सकता है।

 Goat Green fodder:  अफरा रोग क्या है

अफरा रोग जानवरों में होने वाली एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है। यदि समय पर उपचार न किया जाए तो इस बीमारी से पशुओं की मृत्यु भी हो सकती है। इस बीमारी में जब पशु अधिक गीला हरा चारा खाते हैं तो उनके पेट में कार्बन डाइऑक्साइड, हाइड्रोजन सल्फाइड, नाइट्रोजन और अमोनिया जैसी प्रदूषित गैसें जमा हो जाती हैं और उनका पेट फूल जाता है, जिससे पशु अधिक बेचैन हो जाते हैं। इस रोग को कामोत्तेजक या कामोत्तेजक कहा जाता है।

 Goat Green fodder:  अफरा का इलाज क्या है

रोग का निदान पशु के आहार इतिहास और मुख्य लक्षणों को देखकर किया जाता है।
तीव्र अवस्था में पशु आधे से तीन घंटे के अंदर मर जाता है और उपचार का समय नहीं मिल पाता है। कुछ उप-तीव्र स्थितियों में, पशु को तेल पिलाना बहुत फायदेमंद होता है। पेट के बाएं पेडू को दबाएं और अच्छी तरह मालिश करें।

Advertisement

खेतों में मजदूरी करने वाली महिला ने शुरू किया बकरी पालन का बिजनेस, कम सुनकर  रह जाएंगे दंग - Success story a woman working in the fields adopted the  business of goat farming now she is earning this much annually – News18  हिंदी

Also Read: Weather News Today: तीन बाद 9 तारीख से फिर शुरू होने वाली है बारिश, IMD ने जारी किया अलर्ट

शतावरी का टिंचर – 15 मिली
स्पिरिट अमोनिया एरोमैटिक्स – 15 मिली
तेल तारपीन – 40 मिली
अलसी का तेल – 500 मि.ली
इन सभी को एक खुराक में मिलाकर वयस्क पशु को दिया जाना चाहिए।
पशु के रूमेन से हवा निकालने के लिए या तो जीभ को बार-बार मुंह से बाहर निकालना चाहिए या मुंह में लकड़ी की बेड़ी या मुंह की पट्टी रखनी चाहिए। इससे पशु को सांस लेने में कुछ राहत मिलती है। फेफड़ों पर दबाव कम करने के लिए पशु को उसके अगले धड़ को ऊंचा करके बांधना चाहिए।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Goat Farming: बकरी की मेंगनी से होती है हर महीने 8 से 10 हजार रुपये की आमदनी, जानें कैसे

Rampal Manda

43 Indigenous Breeds of Cow: जानें भारत में पाई जाने वाली गायों की सभी नस्लों के बारे में

Aapni Agri Desk

Haryanvi Breed Cow: गाय की सबसे टाॅप नस्ल जिसके दूध में है शुगर व हर्ट अटैक को रोकने की पावर

Aapni Agri Desk

Leave a Comment