Aapni Agri
कृषि समाचार

Advisory for Farmers: आलू टमाटर की फसल में झुलसा रोग का खतरा, जानें समाधान

Advisory for Farmers:
Advertisement

Advisory for Farmers:  पूसा के कृषि वैज्ञानिकों ने कहा है कि इस मौसम में आलू और टमाटर में झुलसा रोग लगने की आशंका है. इसलिए दोनों मौसमों में इसे लगातार निगरानी में रखें। लक्षण दिखाई देने पर कार्बोनिज्म 1.0 ग्राम प्रति लीटर पानी या डायथेन-एम-45 2.0 ग्राम प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।

Also Read: Haryana: 1साइबर सिटी वासियों को मिलने जा रही है ये बहुत बड़ी सौगात, यात्रियों को मिलेंगी ये सुविधाएं

Advisory for Farmers:  प्याज की फसल को भी खतरा

इस मौसम में प्याज की फसल को भी खतरा है. कीट प्रकोप और बीमारी का खतरा रहता है. वैज्ञानिकों ने कहा कि समय पर बोई गई फसलों में थ्रिप्स के प्रकोप की लगातार निगरानी करें। प्याज भी बैंगनी फूल रोग के प्रति संवेदनशील है। इस पर भी नजर रखें. लक्षण दिखाई देने पर डायथेन-एम-45 3 ग्राम प्रति लीटर पानी में टिपोल आदि चिपकने वाला पदार्थ (1 ग्राम प्रति लीटर घोल) मिलाकर छिड़काव करें।

Advertisement
आलू-टमाटर की खेती में लग सकता है झुलसा रोग, ध्यान रखें किसान...वरना होगा  नुकसान - advisory for farmers Potato tomato crop can be affected by blight  disease kisan should be careful otherwise
Advisory for Farmers:  कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार

कृषि वैज्ञानिकों ने बताया कि इस समय गोभी की फसल में डायमंड बैक कैटरपिलर, मटर में फल छेदक और टमाटर में फल छेदक कीट के प्रकोप का खतरा रहता है। इसकी निगरानी के लिए फेरोमोन ट्रैप लगाएं। प्रति एकड़ 3 से 4 जाल काम करेंगे। इस मौसम में तैयार होने वाले पत्तागोभी, फूलगोभी, पत्तागोभी आदि के पौधों की रोपाई घास के मैदानों में की जा सकती है। इस मौसम में पालक, धनिया, मेथी की बुआई की जा सकती है। पत्ती वृद्धि के लिए प्रति एकड़ 20 किलोग्राम यूरिया का छिड़काव किया जा सकता है।

READ MORE  pesticides for crops: कीटनाशक बेचने के लिए केंद्र सरकार ने बनाया नया नियम, जान लें वर्ना नहीं मिलेगा लाइसेंस
Advisory for Farmers:  यदि गेहूं की फसल में दीमक लग जाए तो क्या करें

अब बारी आती है गेहूं की फसल की, जो रबी सीजन की मुख्य फसल है। यदि दीमक का प्रकोप दिखे तो किसान शाम के समय खेत में क्लोरपाइरीफॉस 20 ईसी 2 लीटर प्रति एकड़ की दर से 20 किलोग्राम रेत में मिलाकर छिड़काव करें और सिंचाई करें।

Advisory for Farmers: फसलों का निरीक्षण करें

रतुआ के लिए अनुकूल मौसम को देखते हुए, किसानों को सलाह दी जाती है कि वे पीले रतुआ की घटनाओं के लिए नियमित रूप से अपनी फसलों का निरीक्षण करें। यदि किसान अपने गेहूं के खेतों में पीला रतुआ देखते हैं, तो उपचार के लिए संक्रमण क्षेत्र पर प्रोपिकोनाज़ोल 25 ईसी @ 0.1% या टेबुकोनाज़ोल 50% + ट्राइफ्लक्सिस्ट्रोबिन 25% डब्ल्यूजी @ 0.06% का स्प्रे करना चाहिए।

Advertisement

Also Read: Weather Updates: घने कोहरे और शीतलहर भरपा रही कहर, इन राज्यों में भारी बारिश की संभावना

READ MORE  Green fodder Ezola: दुधाऊ पशुओं के लिए उत्तम हरा चारा है एजोला, जानें इसे उगाने की विधि
farming agricalchar news blight disease spreading in ravi crops along with potato  tomato rdy | खेती-किसानी: आलू-टमाटर के साथ रबी के फसल में फैल रहा झुलसा रोग,  जानें ठंड से पशुओं को बचाने के लिए टिप्स
Advisory for Farmers:  चने की फसल में फली छेदक

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (आईआईएआर) के वैज्ञानिकों ने कहा कि मौसम को ध्यान में रखते हुए सरसों की फसल में सफेद सड़न रोग और चेपा कीट की नियमित निगरानी की जानी चाहिए। वहीं चने की फसल में फली छेदक कीट की निगरानी के लिए 3-4 प्रति एकड़ की दर से फेरोमोन ट्रैप लगाएं. उन खेतों में जाल लगाएं जहां 10-15% पौधों पर फूल आ गए हों। कृषि वैज्ञानिकों ने सलाह दी है कि किसान मटर की फसल पर 2 फीसदी यूरिया के घोल का छिड़काव करें. इससे मटर की फलियों की संख्या बढ़ जाती है. कद्दूवर्गीय सब्जियों की अगेती फसल के पौधे तैयार करने के लिए बीजों को ग्रीनहाउस में छोटे पॉलिथीन बैग में रखें।

Advertisement
READ MORE  Fertilizer Subsidy: खाद की बढ़ाई गई सब्सिडी, अब इतने में मिलेगी यूरिया और पोटाश
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

kills hair lice: सिर के जूं मारने वाली दवा सरसों और ज्वार का कीट को कर सकती है खत्म, जानें कैसे प्रयोग करें

Rampal Manda

Burn Disease: अगर ठंड में बढ़ गया है झुलसा रोग का खतरा, तो फसलों की देखभाल करें ऐसे

Rampal Manda

धान की फसल को नष्ट कर देता है ये खतरनाक वायरस, जानें कैसे करें बचाव

Aapni Agri Desk

Leave a Comment