Aapni Agri
कृषि समाचार

White Roli disease: सरसों की फसल में लग रही यह नई बीमारी, जानें लक्षण और बचाव उपाय

White Roli disease:
Advertisement

White Roli disease:  इस साल देश में किसानों ने सरसों की बंपर फसल लगाई है. देश में पहली बार सरसों का रकबा 100 लाख हेक्टेयर के पार पहुंच गया है। किसानों ने पिछले साल से 2.27 लाख हेक्टेयर ज्यादा क्षेत्र में सरसों की बुआई की है. लेकिन इसके बावजूद किसान खुश नहीं है. बताया जाता है कि सरसों में सफेद रोली रोग का प्रकोप है। यह भी कहा जाता है कि इससे उत्पादन में गिरावट आई है। किसानों का कहना है कि अगर समय रहते सरसों की फसल को बीमारी से नहीं बचाया गया तो रकबा बढ़ाने से कोई फायदा नहीं होगा.

Also Read: Hpsc Hcs Exam 2023: हरियाणा के न्यायालयों में जज बनने का सुनहेरा मौका, आज ही करें रजिस्ट्रेशन

क्या आपकी भी सरसों की फसल में लग गई है यह नई बीमारी, ये हैं लक्षण और बचाव  के उपाय - Mustard crop White Roli disease Mustard cultivation in Rajasthan -
White Roli disease:  मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरसों की फसल पर सफेद रोली रोग का प्रकोप सबसे ज्यादा राजस्थान के अलवर जिले में देखा जाता है. कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि धूप की कमी के कारण बीमारी बढ़ रही है। दरअसल, राजस्थान के अलवर जिले में पिछले कई दिनों से कड़ाके की ठंड पड़ रही है. कोहरे और शीतलहर का भी असर है। ऐसे में धूप की कमी के कारण सरसों की फसल में सफेद रोली नामक रोग लग गया है. इससे किसानों में चिंता बढ़ गई है। किसानों को पैदावार प्रभावित होने का डर सता रहा है.

Advertisement
White Roli disease:  कीटनाशकों का छिड़काव भी करें

कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि किसानों को इस बीमारी से घबराने की जरूरत नहीं है। वे समय रहते इसका इलाज कर सकते हैं. बस उन्हें कुछ उपाय करने होंगे. यदि समय पर उपचार न किया जाए तो 15 प्रतिशत तक फसल नष्ट हो सकती है।

READ MORE  poultry farmingtips: अब घर बेठे को मुर्गीपालन तकनीक सिखाएगी सरकार, जानें कैसे
White Roli disease: राजेंद्र बसवाल ने बताया

कृषि विभाग के सहायक कृषि निदेशक राजेंद्र बसवाल ने बताया कि सरसों में सफेद रोल की भी शिकायतें आ रही हैं। यदि किसान इससे फसल को बचाना चाहते हैं तो प्रति एकड़ 25 किलोग्राम सल्फर पाउडर का छिड़काव करें। इसके अलावा किसान केरोफेन तरल कीटनाशक का भी छिड़काव कर सकते हैं।

चंबल में बिखरी 'पीले सोने' सी चमक, खेतों में लहलहा रही है सरसों की फसल |  Zee Business Hindi
White Roli disease:  सफेद रोली रोग से हानि

उन्होंने कहा कि सफेद रोल पौधे की भोजन बनाने की क्षमता को कम कर देते हैं। यह फसल को तेजी से बढ़ने से रोकता है। उनका मानना ​​है कि रोल सरसों की पत्तियों के साथ-साथ तने के रस को भी सोख लेते हैं, जिससे दाने कमजोर हो जाते हैं। ऐसे में सरसों से तेल का उत्पादन भी कम होता है.

Advertisement

Also Read: Rainfall Alert: इन राज्यों में आज और कल भारी बारिश की आशंका, IMD ने जारी किया अलर्ट

READ MORE  Green fodder Ezola: दुधाऊ पशुओं के लिए उत्तम हरा चारा है एजोला, जानें इसे उगाने की विधि
White Roli disease:  झुलसा की बीमारी के लक्षण एवं बचाव

ऐसे किसानों को जानकारी के लिए बता दें कि झुलसा रोग भी सरसों की फसल के लिए खतरनाक है. सरसों की फसल में झुलसा रोग का प्रकोप पौधों की निचली पत्तियों से शुरू होता है। पत्तियों पर छोटे, हल्के काले, गोल धब्बे बन जाते हैं। धब्बों में गोल छल्ले स्पष्ट दिखाई देते हैं। इसकी रोकथाम के लिए सल्फर युक्त रसायनों का प्रयोग लाभकारी माना जाता है। किसानों को इसका घोल बनाकर फसलों पर छिड़काव करना चाहिए। हर 15 दिन पर छिड़काव दोहराएँ।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Rabi season crops: जून तक मौसम गर्म रहने के संकेत, रबी फसलों पर विपरीत असर पड़ने की आशंका

Rampal Manda

Wheat MSP price: गेहूं बिक्री के लिए मोबाइल से कैसे करें रजिस्ट्रेशन, यहाँ जानें तरीका

Rampal Manda

Government Scheme: किसान को धान बोने पर मिलेंगे 4000 रुपये! पानी की भी होगी बचत

Aapni Agri Desk

Leave a Comment