Aapni Agri
फसलें

Wheat Crop: अगर आपकी गेहूं की फसल नीचे गिर गई तो अपनाएं ये तरीके, होगा नुकसान से बचाव

Wheat Crop:
Advertisement

Wheat Crop:  देश में इस समय रबी फसल का सीजन चल रहा है। इनमें से एक है गेहूं, जो इस मौसम की प्रमुख फसल है. इसकी खेती देश के लगभग सभी राज्यों में की जाती है। हाल के दिनों में देशभर के किसानों पर मौसम की जबरदस्त मार पड़ी है। बेमौसम बारिश से किसानों को काफी नुकसान हुआ है. कई इलाकों में बारिश और तेज हवाओं के कारण गेहूं की खड़ी फसल खड़ी रह गई है. इसका सीधा असर गेहूं की गुणवत्ता पर पड़ेगा। इसके अलावा, किसानों को इसे रोकने और इसकी कटाई के लिए अधिक पैसे खर्च करने होंगे।

Also Read: How to Identify Fake Fertilizers: ऐसे करें असली और नकली खादों की पहचान, जान लें ये टिप्स

Fear Of Damage To Wheat Crop Due To Rising Temperature - Amar Ujala Hindi  News Live - गर्मी ने बढ़ाई किसानों की चिंता:बढ़ते पारे से गेहूं सिकुड़ने और  उत्पादन गिरने की आशंका,
Wheat Crop:  ठंड का खतरा

इस गेहूं की रोकथाम और कटाई में अधिक खर्च करना होगा। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार, किसानों को गेहूं की कटाई समय पर पूरी करनी होगी क्योंकि लगातार बारिश की स्थिति को देखते हुए ठंड का खतरा है। इससे किसानों को भारी नुकसान हो सकता है. हालांकि किसान कुछ बातों का ध्यान रखकर बड़े नुकसान से बच सकते हैं. आइये इसके बारे में विस्तार से जानते हैं.

Advertisement
Wheat Crop:  फसल बैठने का क्या कारण है

देश के अधिकांश क्षेत्रों में गेहूं की कटाई मार्च के अंत और अप्रैल के पहले सप्ताह में शुरू हो जाती है। हालांकि, कई बार पश्चिमी विक्षोभ के कारण बारिश और तेज हवाओं के कारण गेहूं की फसल खेतों में ही बैठ जाती है. इससे फसल और उपज के सड़ने का डर रहता है, जिससे किसानों और पशुपालकों को भूसे के लिए उपयुक्त गेहूं के पौधे नहीं मिल पाते हैं। भारी वर्षा से पूरे पौधे में अवसादन हो जाता है और पौधा सड़ने और पिघलने लगता है।

READ MORE  mustard flowers: सरसों के फूल आने पर पैदावार बढ़ाने का आसान सा तरीका, बालियों में दाने होंगे भरपूर
किसान रहे सावधान, बढ़ती ठंड के कारण गेहूं की फसल हो सकती है खराब - farmers  should be careful wheat crop may get spoiled due to increasing cold-mobile
Wheat Crop:  पानी घुसने से अनाज खराब होने का डर

जब गेहूं की फसल तैयार हो जाती है और बारिश होती है तो अक्सर देखा जाता है कि पानी घुसने से अनाज खराब होने का खतरा बढ़ जाता है। पानी गेहूं के दानों की गुणवत्ता को भी प्रभावित करता है, जिससे किसानों को उनकी फसलों का उचित मूल्य नहीं मिल पाता है।

Also Read: Farming: किसानों के दिल्ली कूच को लेकर हरियाणा प्रशासन सख्त, फतेहाबाद में सड़कों पर लगाई गई कंक्रीट

Advertisement
Wheat Crop:  किसान घाटा कैसे कम करें

जब बारिश और तेज हवाओं के कारण गेहूं की फसल गिर जाती है तो उसे कंबाइन हार्वेस्टर से काटना बहुत मुश्किल हो जाता है। इसके अलावा, उन्हें फसल काटने के लिए अधिक मेहनत करनी पड़ती है। ऐसे में किसानों को फसल की कटाई हाथ से करने की सलाह दी जाती है।

READ MORE  Green Fodder: मार्च में करें ज्वार मक्का और लोबिया की बुवाई, मई-जून में मिलेगा भरपूर चारा

ताकि वे नुकसान को कम कर सकें. साथ ही ऐसी स्थिति में किसानों को भूसा भी नहीं मिल पाता है. क्योंकि, किसान केवल बालियां ही काट सकते हैं। इस बीच, किसानों को भी सलाह दी जाती है कि वे तुरंत फसल काट लें क्योंकि उनकी गेहूं की फसल तैयार होने वाली है और जैसे ही नमी सूख जाए, बिना देर किए फसल काट लें। ऐसा करने से किसान बड़े नुकसान से बच सकते हैं.

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

भारत में सदियों से जैविक कीटनाशकों का प्रयोग किया जा रहा है, कई फसल रोगों पर रहता है पूरा नियंत्रण

Bansilal Balan

Advisory for Wheat Farming: गेहूं में अगर अभी बाली निकल गई है तो जल्द करें यह काम, पढ़े कृष‍ि वैज्ञान‍िकों की सलाह

Rampal Manda

Sweet Corn Farming: 20 हजार रुपये की लागत में 4 लाख का मुनाफा

Aapni Agri Desk

Leave a Comment