Aapni Agri
कृषि समाचार

What is excel breed lab: मात्र 65 दिन में तैयार होगी गेहूं की फसल, नई तकनीक का बीज तैयार

What is excel breed lab:
Advertisement

What is excel breed lab: गेहूं की फसल पकने में लगभग 155 से 160 दिन का समय लेती है। लेकिन पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक एक ऐसी तकनीक पर काम कर रहे हैं। जिसमें गेहूं के ऐसे बीजों का निर्माण होगा जो 60 से 65 दिन में पैक कर तैयार हो जाएंगे।

Green Wheat Field · Free Stock Photo
What is excel breed lab: पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी

इसके लिए पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में एक एक्सेल ब्रीड लैब (excel breed lab) तैयार की है। इस लैब में वैज्ञानिक गेहूं की कम समय में पकने वाली नयी किस्म पर रिसर्च करेंगे और उनको तैयार करके किसानों तक पहुंचाने का काम करेंगे। जिससे किसानों की आमदनी को बढ़ाया जा सके।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: Which fertilizers moong: मूंग की बिजाई करने का सही समय और तरीका जानें यहाँ

Advertisement
Green World HD-2851 गेहूं के बीज कृषि और खेती के लिए (5 Kgs x 1 का पैक) :  Amazon.in: बाग-बगीचा और आउटडोर
What is excel breed lab: एक्सेल ब्रेड लैब (excel breed lab) क्या है

पंजाब कृषि विश्वविद्यालय के शोध संस्थान ने अपने विद्यालय में एक ऐसी लैब का निर्माण किया है। जो गेहूं के ऐसे बीजों का निर्माण करेगी जो कम समय में पैक कर तैयार होते हैं। इस लैब में तैयार गेहूं के बीच 60 से 65 दिन में पैक कर तैयार हो जाएंगे और उनकी पैदावार भी 150 से 55 दिन में पकाने वाले बीजों के मुकाबले अधिक होगी। वैज्ञानिक आगे ऐसी नई-नई किस्म की खोज करने में लगे हुए हैं। एक्सेल ब्रीड लैब पूरे भारत में एक ही बनाई है, और वह भी पंजाब एग्रीकल्चर कृषि विश्वविद्यालय में स्थापित की गई है। इसका उद्घाटन हो गया है।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: Haryana News: हरियाणा के गरीब परिवारों की सूची पर लगी मुहर, अब राशन में मिलेगी ये खाद्य सामग्री

Common Green Wheat, for Cooking, Packaging Size : 5-10kg at Rs 1,000 /  Kilogram in Amreli

Advertisement
What is excel breed lab: एक्सेल ब्रीड लैब (excel breed lab) के किसानों को लाभ

इससे किसानों के लिए ऐसी किस्म का निर्माण होगा। जो कम समय में पकेंगे और पुरे समय में पकने वाली किस्मों के बराबर ही पैदावार निकाल कर देंगे। बढ़ती जनसंख्या के कारण आने वाले समय में अनाज की अधिक आवश्यकता पड़ेगी। जिसको पूरा करने के लिए ऐसी किस्म का निर्माण किया जा रहा है। इन किस्म से आप गेहूं की फसल को साल में दो बार ले सकते हैं। इन किस्मों के तैयार होने से किसानों का फसल पर खर्च घटेगा और उसकी आय बढ़ेगी।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Green Wheat Close-up Free Photo Download | FreeImages

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Fertilizers: सल्फर कोटेड यूरिया को लॉन्च करने के प्रस्ताव को मिली मंजूरी, जानें क्या होगी कीमत

Rampal Manda

Direct sowing of paddy: धान की सीधी बुवाई करने पर किसानों को मिले 19 करोड़, DSR तकनीक के तहत

Rampal Manda

Identification hopper disease mustard: सरसों में माहू कीट का जल्द से जल्द करें समाधान, वरना फलियां बनते समय होगी दिक्कत

Rampal Manda

Leave a Comment