Aapni Agri
अन्य

Weather News: हरियाणा सहित कई राज्यों में तेज बरसात की संभावना, ऐसे बचाएं अपनी फसलों को

Weather News
Advertisement

Haryana Weather News: जिन किसानों को पिछले हफ्ते की बारिश से दिक्कतों का सामना करना पड़ा है, उन्हें अभी कुछ दिन और सतर्क रहने की जरूरत है.

मौसम विभाग के अनुसार, 11 दिसंबर को ऊपरी हिमालय में एक नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो जाएगा, जिससे दिसंबर के आसपास उत्तर भारत के कई राज्यों में बारिश होगी।

और तो और, वैज्ञानिकों ने कहा है कि इस अवधि के दौरान पारा लुढ़क सकता है, हालांकि कोहरे से कुछ हद तक राहत मिलेगी। ऐसे में जो किसान अपनी फसल या बीज को सुरक्षित नहीं रख पाए हैं उन्हें तुरंत इन्हें अंदर रख लेना चाहिए और जानवरों के लिए भी बारिश से बचाव का इंतजाम करना चाहिए.

Advertisement

Also Read: Lado Protsahan Yojana: सरकार बेटियों को देगी 2 लाख रूपये, जानें योजना के बारे में

Haryana Weather News: भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) का कहना है कि आज 8 दिसंबर से मौसम बदलना शुरू हो जाएगा सुबह कोहरा छाने से दृश्यता कम हो जाएगी। 9 दिसंबर को पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ के विभिन्न हिस्सों में और 9 दिसंबर को असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में घना कोहरा छाया रहेगा।

मौसम में इस बदलाव से पारा भी गिरेगा; खासकर पश्चिमी और पूर्वी हिस्सों में पारा 2 से 5 डिग्री तक लुढ़क सकता है.

Advertisement

किसानों के लिए राहत की बात यह है कि इस बार ठंड हमेशा की तरह नहीं पड़ेगी. दूसरे शब्दों में कहें तो उन्हें कड़ाके की ठंड से कुछ राहत मिलेगी. ऐसा अल नीनो के कारण अधिकतम और न्यूनतम तापमान सामान्य से ऊपर रहने के कारण होगा।

Haryana Weather News: ठंड में किसान क्या करें?

रात में या सुबह के समय पारा नीचे जाने से सब्जियाँ, बगीचे और फसलें पाले की चपेट में आ जाती हैं। ऐसे में फसलों को इससे बचाने के लिए हल्की सिंचाई करें.

यदि संभव हो तो रात के समय खेत के उत्तर-पश्चिमी किनारे पर धुआं करें।

Advertisement
Haryana Weather News:
Haryana Weather News:

यदि किसानों के पास दिन में सिंचाई की सुविधा है तो उन्हें दिन में सिंचाई करनी चाहिए इससे फसल में वृद्धि होगी।

कृषि वैज्ञानिक की राय है कि ठंड में सांद्र सल्फ्यूरिक एसिड 1 मिली पानी या घुलनशील सल्फर 0.2 प्रतिशत (2 ग्राम प्रति लीटर पानी) या थायोयूरिया 500 पीपीएम या 0.5 ग्राम प्रति लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करना चाहिए.

Also Read: Haryana News: हरियाणा मे पशुओं से फैल रही भयंकर बीमारी, जानें संक्रमण को रोकने के उपाय 

Advertisement

Haryana Weather News: यदि पाला कम नहीं हो रहा है अर्थात अधिक दिनों तक रहता है तो यह छिड़काव हर पंद्रह दिन में दोहराएँ।

ठण्डे मौसम की गेहूं की फसल में पहली सिंचाई बुआई के 20-25 दिन बाद तथा सूखी भूमि में हल्की सिंचाई बुआई के 28-30 दिन बाद करनी चाहिए।

Haryana Weather News: इस मौसम में सरसों की फसल की बुआई के 15 से 20 दिन के अंदर निराई-गुड़ाई करनी चाहिए और पौधों के बीच की दूरी 10 से 15 सेंटीमीटर रखनी चाहिए. यदि फसल में आरा मक्खी एवं बालयुक्त सुंडी का प्रकोप दिखाई दे तो इमामेक्टिन बेंजोएट 5 प्रतिशत एसजी 200 ग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से 500 से 600 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।

Advertisement
Haryana Weather News:
Haryana Weather News:

ऐसे ही मटर की फसल पर ध्यान देने की जरूरत है. बुआई के 20 से 25 दिन बाद निराई-गुड़ाई तथा 35 से 40 दिन बाद पहली सिंचाई करनी चाहिए। यदि चने की फसल 15 सेमी तक हो तो आप इसकी खुदाई कर सकते हैं.

Haryana Weather News: अपनी फसलों को पाले और पाले से बचाने के लिए उत्तर-पश्चिम से चलने वाली हवाओं को रोकने का प्रयास करें।

इसके लिए शहतूत, बबूल, मूंग या बेरी के पेड़ यदि खेतों में लगाए जाएं तो इन हवाओं को आने से रोका जा सकेगा, जिससे फसल हमेशा और हर साल सुरक्षित रहेगी।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Rice Export: सरकार का बड़ा फैसला, चावल निर्यातकों को 6 महीने की राहत

Aapni Agri Desk

Kankrej Breed Cow: ये गाय देती है 1800 लीटर दूध, जानें इसको पालने के फायदे

Aapni Agri Desk

जानें गाय की इस खास नस्ल के बारे में, रोजाना देती है 10-15 लीटर दूध

Aapni Agri Desk

Leave a Comment