Aapni Agri
पशुपालन

urea mixed straw: दुधाऊ पशुओं को डाले यूरिया वाला भूसा, थोड़े दिनों में बढ़ जाएगा दूध

urea mixed straw:
Advertisement

urea mixed straw:  भारत में कृषि के बाद पशुपालन दूसरा सबसे बड़ा रोजगार है। अर्थव्यवस्था भी काफी हद तक पशुधन पर निर्भर है। विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी बड़ी संख्या में लोग पशुधन पालकर अपना जीवन यापन कर रहे हैं। इसे आय का एक बेहतर स्रोत बनाना। हालाँकि, यदि डेयरी मवेशियों का दूध ख़त्म होने लगे तो पशुपालकों को परेशानी होती है। इस नुकसान से बचने के लिए पशुपालक अपने पशुओं को यूरिया युक्त भूसा खिला सकते हैं। आइए जानते हैं क्या है यूरिया स्ट्रॉ.

Also Read: Poonam Pandey: पूनम पांडे की फर्जी मौत में साथ खड़ी कंपनी को माँगनी पड़ी माफी, जानें क्यों किया एक्ट्रेस को इस नाटक में शामिल

urea mixed straw:  इन चीजों का करें इस्तेमाल

गर्मी के मौसम में गाय-भैंसों का दूध उत्पादन शुरू हो जाता है। दुधारू पशुओं का दूध उत्पादन औसत से बेहतर बनाए रखने के लिए पशुओं को शाम के समय चरने के बाद 200 से 300 ग्राम सरसों का तेल और 250 ग्राम गेहूं का आटा मिलाकर खिलाना चाहिए। भोजन के दौरान या तुरंत बाद पानी के साथ दवा नहीं दी जानी चाहिए। इस घरेलू नुस्खे के इस्तेमाल से 7-8 दिनों में दूध का उत्पादन बढ़ जाएगा। पशुओं को यूरिया भूसा खिलाने की भी सलाह दी जाती है।

Advertisement
पशुओं को यूरिया खिलाने का महत्व एवं सावधानियाँ – ई-पशुपालन
urea mixed straw:  यूरिया चारा क्या है

यदि हरा चारा पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध न हो तो यूरिया उपचारित सूखा चारा दूध उत्पादन के लिए एक अच्छा विकल्प है। उपचार के बाद सूखे चारे में प्रोटीन की मात्रा 3-4 प्रतिशत से बढ़कर 7-8 प्रतिशत हो जाती है। उपचारित चारा खिलाने से पशुओं के पेट में सूक्ष्मजीवों की सक्रियता एवं संख्या में वृद्धि होती है।

READ MORE  Animal Care: गर्मियों में पशुओं की ऐसे करें देखभाल, यहाँ जानें जरूरी टिप्स
urea mixed straw: संतुलित अनाज मिश्रण खिलाएं

उपचारित रेशे में मौजूद रेशा मुलायम और लचीला हो जाता है और इसकी पाचनशक्ति बढ़ जाती है। उपचारित भूसा खिलाने से पशुओं की जीवन की सभी आवश्यकताएँ आसानी से पूरी हो जाती हैं। इसके अलावा, डेयरी मवेशियों से लगभग 3 लीटर दूध प्राप्त किया जा सकता है। इसके ऊपर 2-2.5 लीटर दूध पर 5-6 किलो दूध डालें. हरा चारा (फलियाँ-गैर-फलियाँ, 50:50) या 1 कि.ग्रा. संतुलित अनाज मिश्रण खिलाएं।

urea mixed straw:  यूरिया से भूसे का उपचार कैसे करें

100 किग्रा. सामान्य भूसे अथवा सूखे फसल अवशेषों को 4 कि.ग्रा. से उपचारित करना चाहिए। यूरिया से उपचार करें। 4 किग्रा. यूरिया को 50 लीटर पानी में घोलकर 100 किग्रा. – भूसे पर अच्छी तरह छिड़कें और मिला लें. उपचारित भूसे को अपने पैरों से कंक्रीट के फर्श या पॉलिथीन शीट पर ढेर में दबाएं ताकि बीच में हवा निकल सके और फिर इसे अच्छी तरह से ढककर छोड़ दें।

Advertisement

Also Read: Artificial Intelligence: तेजी से मॉडर्न होता जा रहा खेती करने का तरीका, हो रहा नई नई तकनीक का इस्तेमाल

READ MORE  Nilgai Se Bachne Ke Upay: नीलगाय और सूअर खेत के आसपास भी नहीं भटकेगें, इस दवा का करें इस्तेमाल
Unick Dairy - पौष्टिकता बढ़ाने के लिए भूसा/का यूरिया उपचार। पशुओं के  स्वास्थ्य व दुग्ध उत्पादन हेतु हरा चारा व पशु आहार एक आर्दश भोजन है किन्तु  ...
urea mixed straw: अमोनिया गैस को बाहर निकलने से रोकता

यह अमोनिया गैस को बाहर निकलने से रोकता है। यूरिया से उत्पन्न अमोनिया जैसे क्षार की उपस्थिति में भूसा गीला होने पर भी खराब नहीं होता है। गर्मी में उपचार के 7-10 दिन बाद तथा सर्दी में उपचार के 10-15 दिन बाद उपचारित चारे का उपयोग शुरू किया जा सकता है। भोजन के लिए आवश्यकतानुसार उपचारित भूसे को बाहर निकालें। इसे कुछ देर के लिए खुला छोड़ दें.

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Bakrid 2023: आजकल बाजार में इस नस्ल के बकरों की जबरदस्त डिमांड, 55 से 60 किलो तक होता है वजन

Bansilal Balan

गर्मी और सूखे का फसलों और जानवरों पर प्रभाव और उनका निपटान, विस्तार से पढ़ें

Bansilal Balan

drive away Nilgai: अंडे से बनाएं ये खास दवा और फसलों पर करें छिड़काव, आपके खेत में नहीं आयेगी नीलगाय

Rampal Manda

Leave a Comment