Aapni Agri
कृषि विशेषज्ञ सलाहकृषि समाचार

Decomposer: पराली को खाद में बदल देगा ये कैप्सूल, बढ़ जायेगी जमीन की उर्वरा शक्ति

Advertisement

Decomposer : भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (पूसा) ने पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण से निजात दिलाने के लिए बायो डीकंपोजर बनाया था। यह बायो डीकंपोजर कुछ ही दिनों में पराली को खाद में बदलने की क्षमता रखता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इसके इस्तेमाल के दौरान प्रोटोकॉल का पूरा पालन किया जाना चाहिए, तभी इसका इस्तेमाल ज्यादा कारगर साबित होगा.

Also Read: Mustard field: सरसों की फसल को कोहरे, पाले व खरपतवार से बचाने के लिए दिसंबर माह में करें ये काम

Decomposer: मिट्टी की उर्वरता बढ़ाएँ

Decomposer: वैज्ञानिकों के मुताबिक, उचित उपयोग से न केवल पराली के प्रभावी निपटान में फायदा होगा बल्कि मिट्टी की उर्वरता बनाए रखने में भी मदद मिलेगी। उत्तर भारत में पराली जलाने की घटनाएं एक बड़ी समस्या बन गई हैं. इससे दिल्ली-एनसीआर समेत पड़ोसी राज्यों में वायु प्रदूषण का स्तर बढ़ने से जुड़ा है।

Advertisement
Parali
Parali
Decomposer: 20 दिन में करीब 70-80 फीसदी पराली खाद में बदल जाएगी.

Decomposer: इस साल नवंबर में एनसीआर के कई इलाकों में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) बार-बार 400 और 450 की ‘गंभीर’ और ‘गंभीर प्लस’ सीमा को पार कर गया। वैज्ञानिकों का कहना है कि पूसा बायोडीकंपोजर एक माइक्रोबियल समाधान है जो लगभग 20 दिनों में लगभग 70-80 प्रतिशत पराली अवशेषों को खाद में बदल सकता है।

READ MORE  poultry farmingtips: अब घर बेठे को मुर्गीपालन तकनीक सिखाएगी सरकार, जानें कैसे

Also Read: Old Age Allowance: 3000 नये लाभापात्रों की एक साथ पेंशन स्वीकृत, देखें लिस्ट

Decomposer: 4 कैप्सूल से 25 लीटर तक घोल बनाया जा सकता है।

Decomposer: पूसा इंस्टीट्यूट के मुताबिक, 4 बायो डीकंपोजर कैप्सूल से 25 लीटर तक बायो डीकंपोजर घोल बनाया जा सकता है. 25 लीटर घोल में 500 लीटर पानी मिलाकर ढाई एकड़ में छिड़काव किया जा सकता है. यह कुछ ही दिनों में पराली को सड़ाकर खाद में बदल सकता है। इसके लिए धान की कटाई के तुरंत बाद इसका छिड़काव करना चाहिए. छिड़काव के बाद पराली को जल्द से जल्द मिट्टी में मिलाना या जुताई करना बहुत जरूरी है।

Advertisement

Also Read: Adulterated Fertilizer: खेत में खाद डालने से पहले घर पर ही चैक करें असली-नकली की पहचान, जानें आसान तरीका

READ MORE  Mustard production India: सरसों की फसल में एमएसपी के कारण किसानों के हाथ लगी निराशा, जानें कैसे
agri.
agri.
Decomposer: समाधान कैसे बनता है?

Decomposer: घोल बनाने के लिए सबसे पहले 100 ग्राम गुड़ को 5 लीटर पानी में उबाला जाता है. ठंडा होने पर घोल में 50 ग्राम बेसन मिलाएं और कैप्सूल को घोल लें। इसके बाद इस घोल को 10 दिनों के लिए एक अंधेरे कमरे में रख दिया जाता है. पराली पर छिड़काव के लिए बायो डीकंपोजर घोल तैयार है. जब इस घोल को पराली पर छिड़का जाता है तो 15 से 20 दिन के अंदर पराली पिघलने लगती है. धीरे-धीरे यह पराली सड़ कर खेत में खाद बन जाएगी। इससे भूमि की उर्वरता बढ़ती है, जो आने वाली फसलों के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। डिंकपोजर का छिड़काव करने के बाद अवशेष और फसल को पलटना भी जरूरी है। इससे पराली पिघलने की प्रक्रिया तेज हो जाती है।

READ MORE  Fertilizer subsidy: नहीं महंगी होगी खाद, उर्वरक सब्सिडी के रूप 24 हजार करोड़ की मिली मंजूरी

Also Read: Sweet Corn Farming: 20 हजार रुपये की लागत में 4 लाख का मुनाफा

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

मानसून से पहले तैयारी करें किसान, 4 गुना होगी धान की पैदावार

Aapni Agri Desk

पारंपरिक खेती छोड़ बागवानी की और अपनाया रुख, शिमला मिर्च से की लाखों की कमाई

Aapni Agri Desk

Agri Tips: इन उपायों को फॉलो कर अपनी फसल से आप पा सकते है बंपर उत्पादन, यहां जानें तरीका

Rampal Manda

Leave a Comment