Aapni Agri
कृषि समाचार

Sugarcane Farming: गन्ना कटाई में ये लापरवाही कर रही किसानों का बड़ा नुकसान, इस टिप्स से बढ़ाएं चीनी रिकवरी दर

Sugarcane Farming:
Advertisement

Sugarcane Farming:  इन दिनों गन्ने की कटाई हो रही है और उपज मिलों को भेजी जा रही है. गन्ने की कटाई करते समय कई बातों का ध्यान रखना चाहिए, क्योंकि कटाई के दौरान की गई गलतियाँ गन्ने का वजन कम कर सकती हैं। इससे चीनी की रिकवरी कम हो सकती है और गुड़ की गुणवत्ता खराब हो सकती है। समय से पहले कटाई या कटाई में देरी के कारण भी गन्ने की फसल को नुकसान हो सकता है। इसलिए, किसानों को नुकसान से बचने के लिए कटाई के दौरान कुछ सावधानियां बरतने की जरूरत है।

Also Read: PM Kisan: क्या पिता- पुत्र दोनों उठा सकते हैं पीएम किसान योजना का लाभ, जानें नियम

गन्ने में अब नहीं लगेंगे खतरनाक कीड़े, करना होगा ये उपाय, किसानों को होगा  फायदा - sugarcane antidote measures sugarcane farming benefits way to earn  more money by sugarcane farming lbsa ...
Sugarcane Farming:  गन्ने की कटाई कब करें

भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान के पूर्व मुख्य वैज्ञानिक डाॅ. एसएन सिंह ने बताया कि उत्तर भारत में शरद ऋतु में बोये गये गन्ने की कटाई 15 माह में हो जाती है. जबकि, शुरुआती वसंत में बोया गया गन्ना 10 महीने में काटा जाता है और मध्य वसंत में बोया गया गन्ना 10-12 महीने में काटा जाता है। वहीं देर से बोए गए गन्ने की कटाई 12 महीने बाद होती है.

Advertisement
Sugarcane Farming:  गन्ने की तैयार फसल की पहचान

गन्ने की तैयार फसल की पहचान यह है कि जब गन्ने की पत्तियां पीली पड़ जाती हैं तो पौधों का विकास रुक जाता है। कलियाँ खिल जाती हैं और गन्ने की आँखें फूटने लगती हैं। यह समझना चाहिए कि गन्ने की कटाई तभी करनी चाहिए जब वह पूरी तरह पक जाए। इसके अलावा गन्ने का ब्रिक्स मूल्य 19.5 से 22.5 के बीच होना चाहिए. 18 या उससे अधिक के ब्रिक्स मूल्य पर, गन्ना पूरी तरह से परिपक्व होता है, जिससे 10 से 11 प्रतिशत की चीनी रिकवरी होती है। यदि गन्ने का ब्रिक्स मूल्य इससे कम है तो गन्ना पूर्ण रूप से परिपक्व नहीं है। इसकी जांच रेफ्रेक्टोमीटर मीटर से की जाती है।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान
Tamil Nadu News: हमारा गन्ना खरीदकर राशन दुकानों से बांटा जाए... तमिलनाडु  के किसान क्यों कर रहे हैं मांग, जानिए - tamil nadu farmers demanded stalin  govt to distribute sugarcane ...
Sugarcane Farming:  गन्ने की कटाई का बेहतर तरीका

वैज्ञानिक डाॅ. एसएन सिंह ने बताया कि गन्ने की कटाई तेज चाकू, काटने वाले ब्लेड या हाथ की कुल्हाड़ियों का उपयोग करके मैन्युअल रूप से की जाती है। इसके लिए कुशल श्रमिकों की आवश्यकता होती है, क्योंकि गन्ने की अनुचित कटाई से गन्ने और चीनी की उपज कम हो जाती है। गन्ने के रस की गुणवत्ता ख़राब हो जाती है तथा विदेशी पदार्थ की उपस्थिति से मिलिंग में समस्या आती है।

वहीं, गन्ने की फसल की अगली कतार में पैदावार कम होने का खतरा भी बढ़ जाता है. गन्ने की कटाई जमीन की सतह से करना आवश्यक है। गन्ने की कटाई यांत्रिक हार्वेस्टर द्वारा की जाती है जो गन्ने के पत्तेदार भाग को ऊपर से काटता है और गन्ने को छोटे टुकड़ों में काटता है। गन्ने के टुकड़ों को हार्वेस्टर बॉक्स में खींच लिया जाता है और 8 घंटे में 2.5 से 4 हेक्टेयर गन्ने की कटाई की जा सकती है।

Advertisement
Sugarcane Farming:  नुकसान से बचने के लिए बरतें ये सावधानियां

गन्ने की कटाई 5 सेमी से अधिक ऊंचाई से गन्ने की कटाई करने पर 1.5 से 2 क्विंटल प्रति एकड़ और 10 सेमी से अधिक ऊंचाई से कटाई करने पर 3 से 4 क्विंटल प्रति एकड़ नुकसान होता है। दूसरी ओर, गन्ने के उपरी भाग की कटाई वहां तक ​​करनी चाहिए जहां तक ​​गन्ने के डंठल हों। अपरिपक्व इंटरनोड्स को काटकर हटा दिया जाना चाहिए। गन्ने की कटाई की जानी चाहिए और मिलिंग के दौरान किसी भी गड़बड़ी से बचने के लिए गन्ने के नीचे की पत्तियों और मिट्टी को अच्छी तरह से साफ किया जाना चाहिए।

READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Also Read: Maldives Trip Cancel: मालदीव पर बढ़ता जा रहा भारत का गुस्सा, EaseMyTrip ने सस्पेंड की सभी फ्लाइट्स बुकिंग

Punjab News: पंजाब सरकार का बड़ा फैसला, अब गन्ना किसानों को मिलेगा 391  रुपये का रेट - Big decision for Punjab sugarcane farmers punjab government  will give rate of Rs 391 -
Sugarcane Farming:  ये सावधानियां भी बरतनी होंगी

कटे हुए गन्ने को ज्यादा देर तक खेत में नहीं रखना चाहिए, इससे गन्ने की मात्रा कम हो सकती है और रस की गुणवत्ता भी खराब हो सकती है। इससे चीनी और गुड़ की गुणवत्ता प्रभावित हो सकती है। यदि किसी कारणवश गन्ना खेत में रखना पड़े तो गन्ने को पत्तों से ढक दें तथा गन्ने को धूप से बचाकर रखें तथा गन्ने पर पानी का हल्का छिड़काव करते रहें। इस प्रकार सावधानियां एवं सुझाव अपनाकर गन्ने की फसल की कटाई के दौरान होने वाले नुकसान को रोका जा सकता है।

Advertisement
Advertisement
READ MORE  Haryana Budget 2024-25: किसान आंदोलन के दौरान सीएम खट्टर ने किया कर्जमाफी व MSP का ऐलान

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Haryana Farmers Welfare Authority: हरियाणा में बनेने जा रही फार्मर प्रोड्यूसर्स ऑर्गेनाइजेशन पॉलिसी, किसानों को ऐसे होगा लाभ

Rampal Manda

Wheat Price: बढ़ती महंगाई को रोकने के लिए भारत रूस से खरीदेगा गेहूं

Aapni Agri Desk

यूरिया गोल्ड जिसके कारण बढ़ जाएगी फसलों की पैदावार, जानें क्या है यूरिया गोल्ड और स्प्रे करने की विधि

Aapni Agri Desk

Leave a Comment