Aapni Agri
फसलें

Scald disease in potatoes: ठंड और कोहरे के कारण आलू में झुलसा रोग, अपनाएं झारखंड के किसान का यह उपाय नहीं होगी फसल खराब

Scald disease in potatoes:
Advertisement

Scald disease in potatoes:  झारखंड में किसानों के लिए कृषि सलाह जारी की गयी है. ठंड और कोहरे के कारण किसानों की फसलों और सब्जियों को नुकसान न हो, इसके लिए कृषि सलाह जारी की गई है। इसमें कहा गया है कि कम तापमान और सूखा फसलों को नुकसान पहुंचा सकता है, इसलिए सुबह खेतों में हल्की सिंचाई करें।

Scald disease in potatoes:  फसलों एवं सब्जियों को पाले के प्रकोप से बचाने के लिए…..

फसलों एवं सब्जियों को पाले के प्रकोप से बचाने के लिए खेत में पर्याप्त नमी बनाए रखें। कम तापमान के दौरान खराब अंकुरण से बचने के लिए किसान की सब्जी नर्सरी के शीर्ष को कम लागत वाले प्लास्टिक से ढक दें। जिन किसानों ने हाल ही में रबी फसल की बुआई की है, उन्हें अपने नये पौधों को नमी की कमी से बचाने के लिए पर्याप्त सिंचाई करनी चाहिए।

Also Read: Haryana Agriculture News: हरियाणा के किसानों के लिए कृषि एडवाइजरी, फसल को बचाने के लिए इन दवाओं का प्रयोग करना जरूरी

Advertisement
Potato crops : बेमौसम बारिश ने बढ़ाई आलू किसानों की समस्या, झुलसा रोग से  बचाव के लिए अपनाये ये टिप्स - damage to wheat mustard and potato crops due  to rain scorching
Scald disease in potatoes:  एमओपी का छिड़काव करें

इसके अलावा जिन क्षेत्रों में नमी की कमी है, वहां फूल आने के दौरान किसान पौधों की पत्तियों पर दो प्रतिशत डीएपी और एक प्रतिशत एमओपी का छिड़काव करें। आगामी सप्ताह में राज्य में बारिश की संभावना को देखते हुए उर्वरकों या कीटनाशकों का छिड़काव मौसम साफ होने पर ही करें। खराब मौसम में छिड़काव बंद कर दें।

Scald disease in potatoes:  गेहूं की फसल के लिए

इसके अलावा जिन किसानों ने गेहूं की फसल उगाई है, अगर उनके खेतों में दीमक का प्रकोप है, तो क्लोपाइरीफोस 20 ईसी को 2 लीटर पानी में घोल बनाकर शाम के समय खेत में छिड़काव करें और फिर अगली सुबह सिंचाई करें. इसके अलावा सरसों एवं चने की फसल को पाले से बचाने के लिए थायो यूरिया 500 पीपीएम को 1000 पानी में तथा 0.2 प्रतिशत घुलनशील सल्फर को 2 ग्राम प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।

Scald disease in potatoes: दलहनी फसलों में माहू का प्रकोप हो सकता है

झारखंड में हाल के दिनों में कोहरा देखने को मिला. इसके प्रभाव से दालों में एफिड एवं पाउडरी मिल्ड्यू का प्रकोप देखा जा सकता है। एफिड्स को नियंत्रित करने के लिए प्रति लीटर पानी में दो मिलीलीटर डाइमेथोएट या मेटासेटॉक्स और पाउडर फफूंदी को नियंत्रित करने के लिए तीन ग्राम सल्फेक्स या एक मिलीलीटर प्रोपीकोनाज़ोल 100 ईसी या एक मिलीलीटर टैबीकोनाज़ोल 25.9 ईसी प्रति लीटर पानी का छिड़काव करें। ये बहुत फायदेमंद होगा.

Advertisement

Also Read: Haryana Roadways: हरियाणा के गरीब परिवारों के लिए बड़ी खुशखबरी, बसों मे कर सकते है मुफ्त यात्रा

कृषि ज्ञान - आलू की फसल में झुलसा रोग का संक्रमण - एग्रोस्टार
Scald disease in potatoes: टमाटर झुलसा रोग का कारण बन सकता है

बारिश के बाद टमाटर की फसल को झुलसा रोग लग सकता है। इसके नियंत्रण के लिए ऑक्सीस्ट्रोबिन एक मिलीलीटर प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें। कोहरे एवं ठंड से आलू में झुलसा रोग उत्पन्न हो सकता है। आलू की पत्ती झुलसा रोग के नियंत्रण के लिए खेतों में मैंकोजेब या कार्बेन्डाजिम का छिड़काव करें। वहीं, इस समय बोई गई प्याज की फसल में थ्रिप्स का प्रकोप हो सकता है। इसके अलावा, बैंगन नीले धब्बों से संक्रमित हो सकता है। इसकी रोकथाम के लिए डाइमेथेन एम-45 तीन ग्राम प्रति लीटर पानी में टिपोल के साथ आवश्यकतानुसार छिड़काव करें।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

किसानों के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है यह घास, जानें कैसे

Bansilal Balan

Farming of potato: आलू की खेती करने वाले किसानों पर संकट, फसल को ऐसे बचाएं इन रोगों से

Aapni Agri Desk

Bonus on Wheat: किसानों को गेहूं पर मिलेगा 125 रुपये प्रति क्विंटल बोनस, रजिस्ट्रेशन शुरू

Aapni Agri Desk

Leave a Comment