Aapni Agri
योजनाएं

PMFBY: फसल बीमा से जुड़ी समस्याओं का समाधान हुआ आसान, शुरू हुई ये सुविधा

PMFBY
Advertisement

PMFBY: हर बार मौसम का बदलता मिजाज किसानों की चिंता बढ़ा देता है. सर्दी के मौसम में किसानों की विभिन्न फसलों पर कीट और बीमारियों का खतरा बना रहता है। लेकिन किसान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) के जरिए फसल बीमा जैसी सुविधाओं को अपनाकर खुद को चिंता मुक्त बना सकते हैं। पिछले 7 वर्षों में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) किसानों का सहारा बन गई है और उनका आत्मविश्वास बढ़ा रही है। किसानों को प्राकृतिक आपदाओं से आर्थिक सुरक्षा मिली और बिना किसी चिंता के खेती करने का आत्मविश्वास मिला।

Also Read: Potato Disease: आलू की खेती को पूरी तरह से खत्म कर सकते हैं ये रोग, जानें पहचान और बचाव तरीका

PMFBY: प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) के तहत किसानों को प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसल नुकसान होने पर राहत दी जा रही है। जिससे किसानों को चिंतामुक्त खेती से मुक्ति मिली तथा प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले आर्थिक नुकसान से सुरक्षा मिली। प्राकृतिक आपदाओं से हुई फसल क्षति की भरपाई के लिए किसानों को वित्तीय सुरक्षा दी जा रही है। साथ ही, WINDS और YES-TECH जैसी नई और आधुनिक कृषि पद्धतियों के माध्यम से किसानों को दावा भुगतान तेज और आसान होगा।

Advertisement
PMFBY
PMFBY
PMFBY: 16 करोड़ से ज्यादा किसानों को मुआवजा मिला

अब तूफ़ान और तूफ़ान की चिंता भूल कर फसल बीमा कराएँ और सुरक्षा कवच प्राप्त करें। 16 करोड़ से अधिक किसानों के आवेदनों को फसल मुआवजा मिल चुका है। सुरक्षा के साथ तकनीकी ज्ञान, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना ने खेती को आसान और कम जोखिम भरा बनाया।

READ MORE  PM KisanYojana: pm kisaan की 16वीं किस्त आज होगी आपके खाते में, यहाँ जानें किसे मिलेगा पैसा किसे नहीं

Also Read: Agricultural Machinery Subsidy Scheme: कल्टीवेटर, रोटावेटर, पावर स्प्रेयर पर सरकार दे रही 80% सब्सिडी, जानें कैसे मिलेगा लाभ

PMFBY: फसल बीमा सुरक्षा कवर

फसल बीमा पर सब्सिडी सरकार वहन करेगी
WINDS और YES-TECH जैसी नई तकनीक का उपयोग
बीमा संबंधी जानकारी प्राप्त करना आसान हो गया
किसानों की आय में स्थिरता के प्रयास
ये भी पढ़ें- कृषि वैज्ञानिकों ने विकसित की धान की नई किस्म, कम होगी पराली जलाने की समस्या, मिलेगी बंपर पैदावार

Advertisement
PMFBY
PMFBY
PMFBY: टोल फ्री नंबर

अब फसल बीमा से जुड़ी समस्याओं का समाधान और भी आसान हो गया है. टोल-फ्री नंबर 14447 पर कॉल करें, शिकायत दर्ज करें और अपनी बीमा समस्याओं का त्वरित और सटीक समाधान प्राप्त करें। इसके अलावा फसल बीमा से जुड़ी शिकायतों का भी समाधान किया जा रहा है. प्रत्येक समस्या को हल करने के लिए छह चरण हैं। इनमें से कोई भी तरीका अपनाएं और अपने समय का तुरंत समाधान पाएं।

READ MORE  PM kisan news: पीएम किसान की किस्त में हो सकती है धोखाधड़ी, तुरंत करें e-KYC

Also Read: Underworld Don Dawood Ibrahim: अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम कराची के अस्पताल में गिन रहा अंतिम साँसे, जहर देने की आशंका

1. स्थानीय स्तर पर निवारण – बीमा कंपनियाँ और कृषि अधिकारी
2. जिला स्तरीय निवारण- जिला स्तरीय निगरानी समिति (डीएलएमसी)
3. राज्य स्तरीय निवारण – राज्य स्तरीय फसल बीमा समन्वय समिति (एसएलसीसीसीआई)
4. ऑनलाइन फॉर्म- राष्ट्रीय फसल बीमा पोर्टल और मोबाइल ऐप
5. हेल्पलाइन नंबर- हेल्पलाइन नंबर 14447 पर संपर्क करें
6. बीमा कंपनी-टोल फ्री नंबर- अपनी बीमा कंपनी द्वारा जारी टोल फ्री नंबर पर संपर्क करें।

Advertisement
PMFBY
PMFBY
PMFBY: किसानों की जिम्मेदारी

सही जानकारी देना किसानों की जिम्मेदारी है और उन्हें योजनाओं का पूरा लाभ मिलेगा।

READ MORE  Rajasthan News: राजस्थान में रोटावेटर की खरीद पर भारी सब्सिडी, इन किसानों को मिलेगा लाभ

Also Read: Agricultural Machinery: किसान के लिए सबसे ज्यादा यूज में आने वाले टाॅप-10 कृषि यंत्र

किसानों को पंजीकरण के लिए स्पष्ट दस्तावेज उपलब्ध कराने होंगे.
अपने दस्तावेज़ और पॉलिसी संबंधी जानकारी सुरक्षित रखें.
नुकसान की सटीक जानकारी कृषि कार्यालय या बीमा कंपनी को दें।
अनावश्यक मेल या कॉल का जवाब न दें.
जागरूकता और आईईसी संचालित गतिविधियों में भाग लें.

Advertisement

Also Read: Mandi Bhav: सरसों की कीमत में जबरदस्त तेजी, 9 हजार रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंचा भाव

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

PM Agricultural Irrigation Scheme: पीएम कृषि सिंचाई योजना के बारे में जानें, जानें किसान कैसे उठाएं इसका लाभ

Aapni Agri Desk

PM Kisan Yojana: ये किसान पीएम किसान योजना की 16वीं किस्त से रहेंगे वंचित, जानें क्यों

Rampal Manda

Wheat procurement: गेहूं बिक्री के लिए इस तारीख तक करा लें रजिस्ट्रेशन, यहाँ समझे पूरा गणित

Rampal Manda

Leave a Comment