Aapni Agri
योजनाएं

PM Agricultural Irrigation Scheme: पीएम कृषि सिंचाई योजना के बारे में जानें, जानें किसान कैसे उठाएं इसका लाभ

PM Agricultural Irrigation Scheme
Advertisement

PM Agricultural Irrigation Scheme: ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले के हेमगिर ब्लॉक के टांगरडीह गांव की मिट्टी में धान और अन्य फसलें उगाना संभव नहीं है। पथरीली ज़मीन बिल्कुल बंजर पड़ी थी। इस भूमि पर अब बेर की खेती की जा रही है और ग्रामीणों को इससे अच्छा रोजगार मिल रहा है।

गांव के जीतेंद्र भाईसाल और रंजन भाईसाल ने इस जमीन पर खेती के लिए इंटरनेट पर सर्च किया और विकल्प ढूंढ लिया. उन्होंने प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना से 20,000 रुपये की सहायता से बेर की खेती शुरू की। विभाग की ओर से पौधे एवं जैविक खाद भी उपलब्ध कराया गया।

Also Read: PM Kisan Yojana: किसानों से प्रधानमंत्री सम्मान निधि की राशि की जाएगी वापस, कृषि विभाग करेगा वसूली

Advertisement
Irrigation
Irrigation
PM Agricultural Irrigation Scheme: पहले चरण में इन किस्मों को उगाएं

पहले चरण में एप्पल बेरी, रेड कश्मीर, वाइन सुंदरी किस्म के बैर उगाएं। एक साल की कड़ी मेहनत के बाद पेड़ों पर फल लगने लगे। 11 किसानों ने इसकी खेती शुरू कर दी है. पहले साल मैंने एक पेड़ से 10 किलो तक फल तोड़ना और बाजार में बेचना शुरू किया। बाजार में यह 80 से 100 रुपये प्रति किलो बिक रहा है. प्रत्येक किसान को 1 लाख रुपये से 1.5 लाख रुपये के बीच कमाई की उम्मीद है।

READ MORE  PM Kisan: पीएम किसान योजना की 16वीं किस्त आपके खाते में आयेगी या नहीं, जानें यहाँ
PM Agricultural Irrigation Scheme: बंजर पड़ी जमीन हुई हरी भरी

वर्षों से बंजर पड़ी गांव की जमीन अब हरी-भरी हो गई है। जपेंद्र भैसाल और रंजन भैसाल कहते हैं कि ग्रामीणों ने सोचा भी नहीं था कि इस मिट्टी पर खेती भी की जा सकती है। पिछले साल यहां एक नाटकीय बदलाव आया था.

PM Agricultural Irrigation Scheme: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना की दिशा बदल गई

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना ने यहां एक नई क्रांति ला दी है। प्रत्येक किसान को 20-20 हजार रुपये का ऋण दिया गया। इस जमीन पर खेती कैसे की जाए इसका प्रशिक्षण भी दिया गया। किसानों को जानकारी देने के लिए दूसरे राज्यों में भेजा गया. प्रशिक्षण के अनुसार पहले चरण में 11 किसानों ने लाल कश्मीर और बेलसुंदरी किस्म के बेर की खेती की। उन्हें आवश्यक पौधे और जैविक खाद भी उपलब्ध कराये गये।

Advertisement
Irrigation
Irrigation

Also Read: PM Kisan: 16वीं किस्त में कम हो सकती है पीएम किसान सम्मान निधी लेने वालों की संख्या, कहीं लिस्ट में आपका नाम तो नहीं?

READ MORE  farm pond scheme: खेतों में तालाब बनाने के लिए मिल रही भारी सब्सिडी, जानें शर्तें और आवेदन का सही तरीका
PM Agricultural Irrigation Scheme: वाटरशेड का गठन किया

इसके प्रबंधन के लिए एक वाटरशेड का गठन किया गया। एक साल के भीतर यहां एप्पल बेरी उत्पाद लॉन्च किए गए हैं। पहले साल एक पेड़ पर 10 से 12 किलो फल लगते हैं। 100 रुपये की दर से एक पेड़ से 1200 रुपये की कमाई हो रही है किसान बेर बेचकर 1 लाख से 1.5 लाख रुपये तक कमा सकते हैं.

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Gram Suraksha Scheme 2023: 50 रूपये की रोजाना बचत से मिलेंगे एकमुश्त 35 लाख रूपये, यहां करें अप्लाई

Aapni Agri Desk

PM Kisan: क्या पिता- पुत्र दोनों उठा सकते हैं पीएम किसान योजना का लाभ, जानें नियम

Rampal Manda

Solar Panel: किसानों को सोलर पैनल टयूब्वैल के लिए मिल रही 75% सब्सिडी, जल्दी यहां करें आवेदन

Aapni Agri Desk

Leave a Comment