Aapni Agri
फसलें

Pea Farming: मटर की ऐसी दो किस्में जिससे किसान कमा सकते हैं मोटा मुनाफा, घर बैठे मंगवाएं बीज

Pea Farming
Advertisement

Pea Farming: मटर रबी की फसल में शामिल एक सामान्य दाल है। जिसकी मांग साल भर देशभर के अलग-अलग राज्यों में रहती है। वहीं पारंपरिक खेती के अलावा किसानों का रुझान सब्जी बागवानी की ओर भी हो गया है, ऐसे में ग्रामीण इलाकों में भी किसान मटर की खेती करना पसंद कर रहे हैं. सर्दियों के मौसम में मटर की पैदावार अच्छी होती है. इससे किसानों को दोहरा फायदा भी होता है. एक तो खेतों में फसल चक्र की दृष्टि से यह किसानों के लिए फायदे का सौदा है और साथ ही खेती में मिट्टी की उर्वरता बढ़ाने में भी सहायक है।

मटर की किस्में

Also Read: Farming: स्ट्रॉबेरी, ड्रैगन फ्रूट और पपीता की खेती पर सरकार दे रही जबरदस्त सब्सिडी, जल्दी यहां करें आवेदन

Pea Farming
Pea Farming

Pea Farming: मटर के बीज दो प्रकार के होते हैं, पीबी-89 और अर्केल। इनमें पीबी-89 सबसे अच्छी क्वालिटी का माना जाता है। सरकार किसानों के घर तक पीबी-89 पहुंचा रही है. राष्ट्रीय बीज निगम की आधिकारिक वेबसाइट पर पीबी-89 किस्म के एक किलो बीज का पैकेट 32 प्रतिशत छूट के साथ 175 रुपये में उपलब्ध है. जबकि अर्केल किस्म के बीज का एक किलो का पैकेट 42 फीसदी छूट के साथ 127 रुपये में उपलब्ध है.

Advertisement
मटर की दो किस्में कौन सी हैं?

पीबी-89: पंजाब में उगाई जाने वाली बीज की एक उन्नत किस्म। इस किस्म की फलियाँ जोड़े में उगती हैं। यह बुआई के लगभग 90 दिन बाद तैयार हो जाती है. इसके बीज प्रचुर मात्रा में और मीठे होते हैं। वहीं, इसकी औसत उपज 60 क्विंटल प्रति एकड़ है.

Also Read: Millets Store: मोटे अनाज की दुकान खोलकर करें कमाई, सरकार से मिलेगी 20 लाख रुपये की सब्सिडी

Pea Farming
Pea Farming

अर्केल: यह एक प्रकार की यूरोपीय किस्म है. इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि ये मटर जल्दी पक जाते हैं. साथ ही इस मटर में दाने भी अधिक होते हैं. आप इसकी फली को बुआई के लगभग 60 दिन बाद तोड़ना शुरू कर सकते हैं.

Advertisement

Pea Farming: क्यों है किसानों की पहली पसंद?

मटर की खेती कम समय में अच्छा मुनाफा देती है, जिससे किसानों के बीच इसकी लोकप्रियता बढ़ती जा रही है. मटर की बुआई सितम्बर के अंत से अक्टूबर तक की जाती है। एक ओर जहां मटर की खेती कम समय में अधिक उपज देती है. साथ ही यह खेत की उर्वरता बढ़ाने में भी सहायक है. मटर का उपयोग सब्जी के साथ-साथ दाल के रूप में भी किया जाता है।

Also Read: New Variety of Paddy: वैज्ञानिकों ने इजाद की धान की नई वेरायटी, बंपर पैदावार के साथ पराली जलाने से मिलेगी निजात

Advertisement
Pea Farming
Pea Farming
हर सब्जी का साथी

Pea Farming: भारतीय रसोई में मटर हर घर की पसंदीदा है। इसकी खासियत यह है कि यह ज्यादातर सब्जियों का स्वाद बढ़ा देता है। देश के हर राज्य में मटर का इस्तेमाल विभिन्न व्यंजनों में किया जाता है। साथ ही इसकी फसल जल्दी खराब नहीं होती है.

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Cultivation of gram: इन चार तरीकों से चने की होगी बंपर पैदावार, जानें तरीका

Aapni Agri Desk

लेग्यूमिनस के पौधों से बढ़ाएं अपने खेतों में नाइट्रोजन, जानें पूरी विधि और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी

Bansilal Balan

गर्मी और सूखे का फसलों और जानवरों पर प्रभाव और उनका निपटान, विस्तार से पढ़ें

Bansilal Balan

Leave a Comment