Aapni Agri
कृषि समाचार

Mustard Farming: सरसों में भरपूर उपज एवं तेल वृद्धि के लिए अपनाएं यह तरीका

Mustard Farming:
Advertisement

Mustard Farming: सरसों रबी की प्रमुख तिलहनी फसल है जिसका भारत की अर्थव्यवस्था में विशेष स्थान है। सरसों (लाहा) किसानों के बीच बहुत लोकप्रिय हो रही है क्योंकि यह कम सिंचाई और लागत में अन्य फसलों की तुलना में अधिक उपज देती है। किसान इसकी खेती मिश्रित रूप और बहुफसली फसल चक्र में आसानी से कर सकते हैं। भारत में इसकी खेती मुख्य रूप से राजस्थान, मध्य प्रदेश, यूपी, हरियाणा, पश्चिम बंगाल, गुजरात, असम, झारखंड, बिहार और पंजाब में की जाती है।

Also Read: PM Kisan Samman Nidhi Yojana: पीएम किसान सम्मान निधि योजना से अधिक से अधिक किसानों को जोड़ने का लक्ष्य, 15 जनवरी से जागरूकता अभियान शुरू

Mustard Farming: 17 पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है

अन्य फसलों की तरह सरसों की फसल को भी स्वस्थ जीवन पूरा करने और अच्छी उपज देने के लिए 17 पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। यदि इनमें से एक भी पोषक तत्व की कमी है, तो पौधे अपनी पूरी क्षमता से उत्पादन नहीं कर सकते हैं। नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटाश और सल्फर सल्फर के साथ-साथ पर्याप्त मात्रा में ट्रेस तत्व (कैल्शियम, मैग्नीशियम, जस्ता, लोहा, तांबा और मैंगनीज)।

Advertisement
Mustard
Mustard
Mustard Farming: रासायनिक उर्वरकों की मात्रा

राई-सरसों से भरपूर उपज प्राप्त करने के लिए संतुलित मात्रा में रासायनिक उर्वरकों के प्रयोग से उपज पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। उर्वरकों का प्रयोग मृदा परीक्षण के आधार पर करना अधिक उपयोगी होगा। राई सरसों को नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटाश जैसे प्राथमिक पोषक तत्वों के अलावा अन्य फसलों की तुलना में अधिक सुगंधित पदार्थों की आवश्यकता होती है। सामान्य सरसों में उर्वरकों का प्रयोग सिंचित क्षेत्रों में नाइट्रोजन 120 कि.ग्रा., फास्फोरस 60 कि.ग्रा. एवं पोटाश 60 कि.ग्रा. 100% प्रति हेक्टेयर की दर से प्रयोग करने पर अच्छी पैदावार प्राप्त होती है।

READ MORE  Green fodder Ezola: दुधाऊ पशुओं के लिए उत्तम हरा चारा है एजोला, जानें इसे उगाने की विधि
Mustard Farming: फॉस्फोरस को सिंगल सुपर फॉस्फेट के रूप में करें उपयोग

फॉस्फोरस को सिंगल सुपर फॉस्फेट के रूप में उपयोग करना अधिक लाभदायक है। इससे सल्फर भी उपलब्ध होता है। यदि सिंगल सुपर फास्फेट का प्रयोग न किया जाये तो 40 कि.ग्रा. असिंचित क्षेत्रों में सल्फर प्रति हेक्टेयर की दर से तथा उपयुक्त उर्वरकों की आधी मात्रा बेसल ड्रेसिंग के रूप में प्रयोग करना चाहिए। यदि डी.ए.पी. बुआई के समय 200 कि.ग्रा. के साथ प्रयोग किया जाता है।

Mustard
Mustard
Mustard Farming: खाद का प्रयोग करना चाहिए

60 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की दर से जिप्सम का प्रयोग फसल के लिए लाभदायक होता है तथा अच्छी उपज के लिए 60 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की दर से सड़ी हुई खाद का प्रयोग करना चाहिए। सिंचित क्षेत्रों में नाइट्रोजन की आधी मात्रा तथा फॉस्फेट एवं पोटाश की पूरी मात्रा बुआई के समय कूड़े में बीज से 2-3 सेमी. नीचे नाई या चोगोन से दिया जाना चाहिए। नाइट्रोजन की शेष मात्रा पहली सिंचाई (बुवाई के 25-30 दिन बाद) के बाद शीर्ष ड्रेसिंग द्वारा देनी चाहिए।

Advertisement
Mustard Farming: सरसों में तेल की मात्रा बढ़ाने में सल्फर की भूमिका

सल्फर का प्रयोग सरसों के बीज चमकदार, गाढ़े और तेल की मात्रा बढ़ाने वाले होते हैं। फसल में सल्फर की मात्रा को पूरा करने के लिए, आप किसान बेंटोनाइट सल्फर या सल्फर का उपयोग कर सकते हैं। बीजों में तेल की मात्रा बढ़ाने में सल्फर महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है इसलिए सरसों सहित सभी तिलहनी फसलों में इसका उपयोग आवश्यक है। यदि मिट्टी में सल्फर कम है, तो आप इसे उर्वरक के रूप में उपयोग कर सकते हैं। यदि फॉस्फोरस की आपूर्ति सुपर फॉस्फेट द्वारा की जाए तो आपको इससे 12 प्रतिशत सल्फर प्राप्त होगा।

READ MORE  Fertilizer subsidy: नहीं महंगी होगी खाद, उर्वरक सब्सिडी के रूप 24 हजार करोड़ की मिली मंजूरी
Mustard
Mustard
Mustard Farming: अमोनियम सल्फेट का उपयोग

नाइट्रोजन के लिए अमोनियम सल्फेट का उपयोग करने से 24 प्रतिशत सल्फर भी प्राप्त होता है जो पानी में अत्यधिक घुलनशील रहता है। सल्फर युक्त अमीनो एसिड के निर्माण में सल्फर एक आवश्यक तत्व है। बायोटिन और थाइमिन, जो पौधों के विकास को नियंत्रित करते हैं, में सल्फर होता है। अधिकांश तेलों में सल्फर भी होता है। सल्फर पौधों में सुगंधित तेल के उत्पादन के लिए भी आवश्यक है, जिससे तिलहनी फसलों में तेल की मात्रा 4-9% बढ़ जाती है। पौधों में अमीनो एसिड भी प्रोटीन बनाने के लिए आवश्यक हैं। यह पादप हरित पदार्थ क्लोरोफिल के निर्माण के लिए भी आवश्यक है। यदि आपके खेत में सल्फर की कमी है, तो पौधा नाइट्रोजन भी अवशोषित नहीं कर पाता है।

READ MORE  Fertilizer Subsidy: खाद की बढ़ाई गई सब्सिडी, अब इतने में मिलेगी यूरिया और पोटाश

Also Read: Mustard crop Mahu pest: सरसों की फसल में माहू कीट होगा जड़ से खत्म, करें इस कीटनाशक का स्प्रे

Advertisement
Mustard Farming: केंचुए, खाद एवं कम्पोस्ट का प्रयोग करना चाहिए

भरपूर उपज प्राप्त करने के लिए रासायनिक उर्वरकों के साथ-साथ केंचुआ खाद, खाद या कम्पोस्ट का भी प्रयोग करना चाहिए। सिंचित क्षेत्रों के लिए अच्छी सड़ी हुई खाद या कम्पोस्ट 100 क्विंटल प्रति हेक्टेयर या केंचुआ खाद 25 क्विंटल/हेक्टेयर बुआई से पहले डालें और जुताई के समय अच्छी तरह मिला दें। बरानी क्षेत्रों में देशी खाद (खाद या कम्पोस्ट) 40-50 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की दर से वर्षा से पहले डालें तथा वर्षा ऋतु में खेत की तैयारी के समय खेत में मिला दें।

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Wheat Cultivation: समय से पहले गेहूं में बालियाँ निकालने का मुख्य कारण है ये, कृषि विज्ञानकों ने दी ये सलाह

Rampal Manda

Use of NPK in wheat: गेहूं में कब करें एनपीके का स्प्रे, गेहूं की उपज बढ़ाने का सर्वोतम स्प्रे

Rampal Manda

Wheat procurement: Kisan Andolan के बीच बड़ा ऐलान, इस साल MSP के कारण पिछले साल की बजाय कम होगी गेहूं खरीद

Rampal Manda

Leave a Comment