Aapni Agri
फसलें

Mustard Farming: सरसों की खेती में ऐसा क्या करें, जिससे दोगुना मिले फायदा

Mustard Farming
Advertisement

Mustard Farming:  भारत में किसान कई फसलें उगाते हैं। आज हम आपको एक ऐसी फसल की खेती के बारे में बताने जा रहे हैं. इसमें मेहनत कम लगती है और कमाई ज्यादा होती है. आइए जानते हैं वह कौन सी फसल है जिसकी खेती करने में कम मेहनत लगती है और ज्यादा कमाई होती है। हम आज बात कर रहे हैं सरसों की खेती के बारे में.

Also Read: PM Kisan Yojana 2024: किसानों को नए साल पर मिलेगा ये तोहफा, पीएम किसान के पैसे बढ़ने के साथ साथ होंगे कई अन्य फायदे

Mustard Farming:  सरसों का उत्पादन बड़े पैमाने पर होता है.

देश में सरसों का उत्पादन बड़े पैमाने पर होता है. इसका उपयोग तेल, मसाले और उर्वरक के रूप में भी किया जाता है। सरसों की खेती के लिए अच्छी मिट्टी, सही समय और उचित देखभाल की आवश्यकता होती है। जहां तक ​​मिट्टी की बात है तो सरसों की खेती के लिए बलुई दोमट मिट्टी सबसे उपयुक्त होती है। मिट्टी हल्की और छिद्रपूर्ण है, जिससे पानी और हवा आसानी से निकल जाती है। सरसों को सभी प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है, लेकिन भारी और भुरभुरी मिट्टी में इसकी पैदावार कम होती है।

Advertisement

Mustard Farming:  सही समय क्या है

सरसों शरद ऋतु में उगाई जाती है। बुआई का सर्वोत्तम समय सितम्बर से अक्टूबर के बीच है। इस समय तापमान 15 से 25 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है, जो सरसों के लिए उपयुक्त होता है। इसकी खेती के लिए उन्नत किस्म के बीजों का इस्तेमाल करना चाहिए. इन किस्मों में उच्च रोग प्रतिरोधक क्षमता और उच्च उपज होती है।

Mustard Farming:  कैसे बोयें

सरसों की बुआई कतारों में की जाती है. पंक्ति की दूरी 20 से 25 सेमी और पौधों की दूरी 5 से 7 सेमी होनी चाहिए। बुआई के लिए प्रति एकड़ 1 किलोग्राम बीज पर्याप्त है।

Advertisement
Mustard Farming:  सिंचाई कैसे करें

सरसों की फसल को अच्छी पैदावार के लिए सिंचाई की आवश्यकता होती है। पहली सिंचाई बुआई के 10 से 15 दिन बाद करनी चाहिए. इसके बाद आवश्यकतानुसार सिंचाई करते रहना चाहिए। सरसों की खेती में खरपतवारों का प्रकोप अधिक होता है। खरपतवार नियंत्रण के लिए बुआई के 25 से 30 दिन बाद एक बार निराई-गुड़ाई करनी चाहिए। फसल 120 से 130 दिन में पक जाती है.

Also Read: Dairy farming : डेयरी खोलने पर 31 लाख रुपये की मिलेगी सब्सिडी, ऐसे उठाएं अवसर का लाभ

Mustard
Mustard
Mustard Farming:  इन बातों का रखें ध्यान

अच्छी किस्म के बीजों का प्रयोग करें.
सही समय पर बुआई करें।
अच्छी मिट्टी का चयन करें.
आवश्यकतानुसार सिंचाई करें।
समय-समय पर खरपतवार एवं रोगों का नियंत्रण करें।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Fruit Farming: बड़े काम के हैं ये दो फल, एक एकड़ में कर ली खेती तो हर साल होगी लाखों की कमाई

Bansilal Balan

White Stem Rot Disease Mustard: सरसों की फसल में फैल रहा सफेद तना व जड़ गलन रोक, यहां देखें निवारण

Aapni Agri Desk

Farming Tips: शीतलहर व पाले से फसलों को बचाने का सबसे आसान तरीका, फसल पर नहीं होगा ठंड का असर

Rampal Manda

Leave a Comment