Aapni Agri
फसलें

Main spray in mustard: सरसों में फालियाँ आने पर रोगों से बचाव और चमकदार दानों के लिए जरूरी स्प्रे, जानें यहाँ

Main spray in mustard:
Advertisement

Main spray in mustard: सरसों की फसल लगभग पकने को तैयार है। लगभग सभी किसानों की सरसों की फसल में फलियां आ चुकी हैं। पोटाश फलियां निकलने पर दानों की मोटाई और चमक बढ़ाने में सबसे अधिक सहायक होता है और पौधे को मजबूती भी देता है। बालियाँ निकलने पर हमें अपनी फसल को रोगों से बचाने के लिए पोटाश के साथ-साथ किसका छिड़काव करना चाहिए?

सरसों की फसल में शाम को 3 बजे के बाद ही करें छ‍िड़काव, वरना होगा भारी  नुकसान - Spray on mustard crop only after 3 pm otherwise there will be huge  loss

Also Read: Crop Advisory: सरसों कपास की फसल को कीटों से बचाने के लिए सबसे बेस्ट तरीका, उपज भी होगी दोगुना

Advertisement
Main spray in mustard: ध्यान रखने योग्य बातें

सरसों में बाली निकलने के समय हमें खेत में पर्याप्त नमी बनाये रखनी चाहिए। क्योंकि इस समय पौधे को अधिक नमी की जरूरत होती है. ताकि दानपत्र ठीक से भरा जा सके, पानी देते समय, सुनिश्चित करें कि आपकी सरसों को गिरने से बचाने के लिए कोई तेज़ हवा न हो।

Main spray in mustard: निगरानी करते रहें

दिन के इस समय धूप रहती है और रात का तापमान थोड़ा ठंडा होता है। अत: फफूंद एवं कीट रोगों का भी आक्रमण होता है। इसलिए समय-समय पर अपने खेत की निगरानी करते रहें।

Also Read: Chanakya Niti For Women: इन गुणों वाली स्त्री से हो जाए विवाह तो घर परिवार हमेशा रहता है खुशियों से भरा

Advertisement
सरसों की फसल में बढ़ रही तना गलन व सफेद रतुआ की बीमारी, कैसे करें रोकथाम,  जानिए क्या है एक्सपर्ट की रायMain spray in
mustard: सरसों के अंकुरण पर मुख्य छिड़काव

जब सरसों की बालियां निकल आएं तो एनपीके 00-00-50 1 किलोग्राम प्रति एकड़ या एफएमसी (लीजेंड) 48 ग्राम डालें। कीटनाशक में थियामेथोक्सम 25% के साथ 100 ग्राम मात्रा प्रति एकड़ और फफूंदनाशक में टेबुकोनाजोल: 10% + सल्फर: 65% WG 500 मिली प्रति एकड़ या मेटलैक्सिल 4% + मैन्कोजेब 64% WP 250 ग्राम प्रति एकड़ या प्रोपिकोनाज़ोल 25% ई.सी. 250 मिली प्रति एकड़ को 150 से 200 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें। इस एक स्प्रे से आपकी सरसों की सभी बीमारियाँ दूर हो जाएंगी और आपको आगे कोई नुकसान भी नहीं सहना पड़ेगा।

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

कई बीमारियों को दूर करता है दस बजिया का फूल, जानें इसे अपने घर में उगाने का आसान तरीका

Bansilal Balan

Millet Cultivation: बाजरे ने की गेहूं की बराबरी, क्या और बढ़ेंगे रेट?

Aapni Agri Desk

तरबूज की खेती ने बदली इस किसान की किस्मत, जानें कैसे

Bansilal Balan

Leave a Comment