Aapni Agri
अन्य

Main spray for earing in wheat: गेहूं में बालियां निकलने पर कौन सा स्प्रे महत्वपूर्ण, जानें पैदावार बढ़ाने का सही समय

Main spray for earing in wheat:
Advertisement

Main spray for earing in wheat:  इस समय गेहूं की फसल में कुछ किसानों की बालियां निकलने वाली हैं तो कुछ किसानों की बालियां निकल चुकी हैं। आपने अब तक अपने गेहूं में सभी प्रकार के उर्वरकों और पोषक तत्वों का पर्याप्त मात्रा में उपयोग किया होगा। लेकिन जब बालियां उतर जाएंगी तो आपको एक से दो काम करने होंगे। इससे आप अपनी उपज प्रति एकड़ दो से तीन क्विंटल तक बढ़ा सकते हैं। इस समय गर्मी थोड़ी अधिक होती है और पौधे में गर्मी का तनाव अक्सर देखा जाता है। इस समय हमें क्या करना चाहिए

समय से पहले गेहूं में बालियां, उत्पादन पर पड़ेगा असर

Also Read: Pea cultivation: इन विधियों से बढ़ा सकते हैं मटर की पैदावार, जल्द आजमाएं किसान

Advertisement
Main spray for earing in wheat:  गेहूं में बालियां निकलते समय ध्यान रखने योग्य बातें

गेहूं में बालियां निकलते समय हमें कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि यह हमारी फसल के लिए सबसे महत्वपूर्ण समय है। बालियां निकलने पर हमें खेत में पर्याप्त नमी बनाए रखनी चाहिए। क्योंकि इस समय पानी की अधिक आवश्यकता होती है। दूसरे, किसान साथी को तेज हवा न होने पर पानी देना चाहिए। क्योंकि इस समय तेज हवा चलने से गेहूं गिर जाता है।

Main spray for earing in wheat:  देखभाल करनी

यदि आपका खेत पूरी तरह से बालियों से भरा हुआ है, तो आपको इस समय किसी भी कीट रोग या फंगल रोगों से बचने के लिए इसकी देखभाल करनी होगी। इसके लिए समय-समय पर छिड़काव करते रहें। आप गेहूं की फसल को गर्म रखने के लिए पोटाश का छिड़काव कर सकते हैं।

गेहूं के जवारे के फायदे और नुकसान - Gehu ke jaware ke fayde aur nuksan -  Wheatgrass Benefits and Side effects in Hindi

Advertisement
Main spray for earing in wheat:  गेहूँ मेंबाली पर मुख्य छिड़काव

गेहूं में बालियां निकलने पर हमें सबसे महत्वपूर्ण पोटाश का छिड़काव करना चाहिए। पोटाश अनाज में चमक लाने के साथ-साथ पौधे को गर्मी से भी बचाता है। ताकि दाने सिकुड़े नहीं और अच्छी पैदावार हो. इस समय हमें पोटाश, कीटनाशकों एवं फफूंदनाशकों का छिड़काव करना चाहिए।

Also Read: UP Budget 2024: योगी सरकार के बजट में किसानों को बड़ा तोहफा

Main spray for earing in wheat:  कौन से स्प्रे करें

एनपीके में पोटाश 00-00-50 1 किलोग्राम प्रति एकड़, एफएमसी (लीजेंड) 48 ग्राम + थियामेंथोक्साम में कीटनाशक 25% डब्लूजी 100 ग्राम प्रति एकड़, इमिडाक्लोप्रिड 17.8% एसएल 100 मिली प्रति एकड़ + कवकनाशी प्रोपिकोनाज़ोल 25% ई.सी 250 मिली प्रति एकड़, एज़ोक्सीस्ट्रोबिन 11% तथा टेबुकोनाजोल 18.3% w/w SC 200ml प्रति एकड़, तीनों में से किसी एक को लेकर आपस में घोल बनाकर छिड़काव किया जा सकता है।

Advertisement

 

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

चेहरे पर आ जाएगी चांदी जैसी चमक, करें एलोवेरा को इन 6 तरीकों से लगाना शुरू

Aapni Agri Desk

Business Idea: घर बैठे दूध से स्वदेशी उत्पाद बनाएं और कमाएं लाखों रूपये, जानें बनाने की का तरीका भी

Aapni Agri Desk

Haryana government: खेती को आगे बढ़ाने के ल‍िए किसानों को विदेश भेजेगी खट्टर सरकार, अफ्रीकी देशों में दी जाएगी ट्रेनिंग

Rampal Manda

Leave a Comment