Aapni Agri
कृषि विशेषज्ञ सलाहफसलें

Leaf Miner Disease in Mustard: सरसों की फसल में फैल रहा लीफ माइनर रोग, जानें रोकथाम व उपचार के तरीके

Leaf Miner Disease in Mustard
Advertisement

Leaf Miner Disease in Mustard: सरसों की फसल में लीफ माइनर रोग के प्रकोप ने किसानों को परेशान कर रखा है, लेकिन इस समस्या का सही समाधान और बचाव के उपाय जानकर किसान इससे निजात पा सकते हैं। इस लेख में हम देखेंगे कि यह बीमारी कैसे होती है, इसकी पहचान कैसे की जा सकती है और किसान इसे कैसे रोक सकते हैं।

लीफ माइनर रोग की पहचान:

Also Read: Subsidy: खेत में तालाब बनाने के लिए सरकार दे रही 80 फिसदी सब्सिडी, यहां करें आवेदन

Leaf Miner Disease in Mustard: यह रोग सरसों की पत्तियों पर सुरंग बनाकर फैलता है।
पत्तियों पर सफेद रेखाएं बन जाती हैं जिससे क्लोरोफिल की कमी हो जाती है।
छोटे-छोटे मक्खी जैसे कीड़े अपने अंडे पत्तियों की सतह पर छोड़ देते हैं और सुरंग बना देते हैं।

Advertisement
प्रकोप का प्रबंधन:

Leaf Miner Disease in Mustard: कृषि विभाग के सुझाव के मुताबिक डाइमेथोएट, लैम्बडासेलोथ्रिन और साइबरमेथ्रिन के घोल का छिड़काव किया जा सकता है.
फेनवेलरेट पाउडर का भी उपयोग किया जा सकता है।
बिगहा भुरकाव के लिए उचित मात्रा सावधानीपूर्वक तैयार करें।

किसानों को अपनी सुरक्षा के लिए सुझाव:

Leaf Miner Disease in Mustard: समय पर फसल की जांच करें और बीमारियों की पहचान करें.
लाभकारी बैक्टीरिया का उपयोग करें जो कीटों को नष्ट करने में मदद कर सकते हैं।
ऊर्जा संतुलन बनाए रखने के लिए पौष्टिक भोजन का सही और समय पर सेवन करें।

रोग से बचाव के तकनीकी उपाय:

Also Read: Haryana: फैमिली आईडी में सबकुछ ठीक करना हुआ आसान, सरकार ने शुरू किया ये पोर्टल

Advertisement

Leaf Miner Disease in Mustard: बुआई के समय बीज की पूर्व जांच कर लें तथा स्वस्थ बीज का चयन करें।
प्रबंधित चरणों में फसल की जाँच करें और रोग के लक्षणों की पहचान करें।

उपयुक्त कृषि पद्धतियाँ:

Leaf Miner Disease in Mustard: संगत फसल प्रणालियों का अधिकतम उपयोग करें।
आचार्य कृषि पद्धतियों का पालन करते हैं जो कीट प्रबंधन का समर्थन करती हैं।

चिंता और घबराहट से कैसे बचें:

Leaf Miner Disease in Mustard: स्थानीय कृषि विज्ञान केंद्रों से सहायता प्राप्त करें।
समुदाय के साथ सहयोग और जागरूकता बढ़ाएँ।

Advertisement

Also Read: Tractor Distribution Scheme: किसानों को ट्रैक्टर खरीदने पर मिल रही 50 फीसदी सब्सिडी, ऐसे उठाएं लाभ

इस रोग से बचाव के सही तकनीकी उपाय अपनाकर किसान अपनी सरसों की फसल को सुरक्षित रख सकता है।
समझदारी भरी कृषि तकनीकों का पालन करने से उन्हें अधिक उत्पादक बनने में मदद मिल सकती है।
किसानों के लिए सरसों की फसल में लीफ माइनर रोग को पहचानना और उसकी रोकथाम करना जरूरी है। उचित उपायों और तकनीकों का उपयोग करके किसान इस समस्या पर काबू पा सकते हैं और स्वस्थ फसल प्राप्त कर सकते हैं।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Best fertilizer for chilli seedlings: मिर्च की रोपाई से पहले जान लें खेती करने के ये नियम, पैदावार होगी डबल

Rampal Manda

Gehu ki Kheti: काले गेहूं की खेती से किसान कर रहे खूब कमाई, जानें इसके लाभ भी

Aapni Agri Desk

Bonus on Wheat: किसानों को गेहूं पर मिलेगा 125 रुपये प्रति क्विंटल बोनस, रजिस्ट्रेशन शुरू

Aapni Agri Desk

Leave a Comment