Aapni Agri
फसलेंकृषि विशेषज्ञ सलाह

Increasing Wheat Stalks: गेहूं की बढ़वार (बूटा मारना) चाहते हैं तो अपनायें ये तरीका, होगा गजब का लाभ

Increasing Wheat Stalks
Advertisement

Increasing Wheat Stalks: बाजार में आपको गेहूं में कल्ले बढ़ाने के लिए बहुत सारे उत्पाद देखने को मिलते हैं। सबसे अधिक बिकने वाले माइकोराइजा, ह्यूमिक एसिड और सीवीड की हैं। यह सब प्रकृति का उत्पाद है. जो फसलों में कल्ले बढ़ाने में मदद करते हैं। इनमें से मैं आज बात करूंगा माइकोराइजा के बारे में। माइकोराइजा कोई तत्व नहीं है. यह एक प्राकृतिक कवक है. जो पौधों की जड़ों में फंगस की तरह काम करता है और जड़ों के विकास में मदद करता है।

Wheat
Wheat

Also Read: Rotavator Potato Sowing Machines: सरकार की तरफ से हरियाणा के किसानों के लिए बड़ा ऐलान, इन चीजों पर दी भारी सब्सिडी

Increasing Wheat Stalks: माइकोराइजा पौधों में क्या करता है

माइकोराइजा पौधे की जड़ों को बड़ा करने का काम करता है। यह मिट्टी में मौजूद पोषक तत्वों को पौधे तक पहुंचने में मदद करता है। जिन तत्वों को पौधा स्वयं ग्रहण करना नहीं जानता, उन्हें यह पौधे तक आसानी से पहुंचा देता है। यह मिट्टी और पौधे के बीच एक एजेंट की तरह काम करता है। माइकोराइजा मिट्टी के पीएच स्तर को सही बनाए रखने में भी मदद करता है।

Advertisement
Wheat
Wheat
Increasing Wheat Stalks: माइकोराइजा को खेत में कब डालें

कुछ कंपनियाँ माइकोराइजा का प्रयोग हर क्षेत्र में करने की बात कहती हैं। लेकिन अगर आपके अपने खेत में गोबर की खाद, वर्मी कम्पोस्ट, हरी खाद या फसल अवशेष मिला हुआ है। तो आपको माइक्रोजा लगाने की जरूरत नहीं है. क्योंकि आपके खेत में पहले से ही जैविक कार्बन काफी मात्रा में मौजूद है। जैविक कार्बन की कमी वाली मिट्टी। वहां आपको माइकोराइजा भी डालना होगा। क्योंकि पौधा इस मिट्टी में पड़े तत्वों को ग्रहण करने में असमर्थ होता है और माइकोराइजा उन्हें पौधे तक पहुंचाने का काम करता है। ख़राब मिट्टी में आप माइकोराइजा के अच्छे परिणाम देख सकते हैं।

READ MORE  Advisory for Farmers: इतने तापमान पर फैलता है पीला भूरा और काला रतुआ रोग, जानें कैसे बचाएं अपनी फसल को
Wheat
Wheat
Increasing Wheat Stalks: गेहूं में माइकोराइजा के प्रयोग की विधि

यदि आप अपनी गेहूं की फसल में माइकोराइजा का प्रयोग करना चाहते हैं। तो इसके लिए सबसे उपयुक्त समय गेहूं की बुआई का समय है। गेहूं बोने से पहले गोबर की खाद या वर्मी कम्पोस्ट में माइकोराइजा मिलाकर प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन अगर आप इसका इस्तेमाल खड़ी फसल में भी करना चाहते हैं तो कर सकते हैं. लेकिन आपको इसे किसी भी रासायनिक खाद जैसे यूरिया, पोटाश, डीएपी के साथ नहीं मिलाना चाहिए. माइकोराइजा लगाने से 10 दिन पहले और बाद तक किसी भी रासायनिक उर्वरक का प्रयोग नहीं करना चाहिए। वानस्पतिक अवस्था वाली फसल में इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए।

READ MORE  Seeds Treatment: अच्छी उपज के लिए बीजों का सही करें उपचार, बुवाई से पहले कर लें ये काम
Increasing Wheat Stalks: गेहूं में माइकोराइजा सामग्री

गेहूं में माइकोराइजा की मात्रा अलग-अलग मिट्टी में अलग-अलग हो सकती है। और यह अलग-अलग कंपनी की अलग-अलग राशि है। यदि आपकी मिट्टी में जैविक कार्बन पहले से ही बड़ी मात्रा में उपलब्ध है। इसलिए आप माइक्रोज़ैमाइकोरिज़ा का उपयोग कम मात्रा में कर सकते हैं। यदि आपकी गेहूं की फसल में जैविक कार्बन कम है। इसलिए आप माइक्रोजा का उपयोग अधिक मात्रा में भी कर सकते हैं।

Advertisement
Wheat
Wheat
Increasing Wheat Stalks: नोट

यदि आप गेहूं में माइकोराइजा का प्रयोग करना चाहते हैं तो अवश्य करें। लेकिन जब आप किसी कंपनी की बातों में आकर इसका इस्तेमाल न करें। माइकोराइजा आपकी मिट्टी के लिए एक अच्छा कवकनाशी उत्पाद है। लेकिन इसका उपयोग अपनी मिट्टी की स्थिति के अनुसार करें।

READ MORE  Wheat Crop: गेहूं में यह रोग बहुत घातक, जानें कैसे करें उपचार

Also Read: Rajasthan Weather Update: प्रदेश में ठंड बढ़ी, जानें 23 दिसंबर से मौसम में क्या होगा बदलाव

Increasing Wheat Stalks: माइकोराइजा को फसल पर कितनी बार लगाना चाहिए?

माइकोराइजा का प्रयोग फसल में एक से अधिक बार नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह आपको तुरंत अच्छे परिणाम देता है।

Advertisement
Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Best fertilizer for chilli seedlings: मिर्च की रोपाई से पहले जान लें खेती करने के ये नियम, पैदावार होगी डबल

Rampal Manda

भिंडी की खेती से किसान बदल सकते है अपनी किस्मत, कमाई होगी लाखों में

Aapni Agri Desk

Mustard Crop Acreage: सरसों के तेल की महंगाई से मिलने वाली है राहत, सरसों के रकबे पर आया बड़ा बयान

Rampal Manda

Leave a Comment