Aapni Agri
पशुपालन

Goat Farming: अपनी भेड़-बकरी और छोटे मैमनों को ठंड से बचाएगा CIRG का खास घर, जानें कैसे करें इसे तैयार

Goat Farming:
Advertisement

Goat Farming:  चाहे मौसम कोई भी हो, जानवरों को अतिरिक्त देखभाल की बहुत ज़रूरत होती है। फिर चाहे जानवर छोटा हो या बड़ा. इसी प्रकार, भेड़ और बकरी के मेमनों को ठंड के मौसम में बहुत अधिक देखभाल की आवश्यकता होती है। पशु विशेषज्ञों के मुताबिक इस बिजनेस में सबसे ज्यादा मुनाफा भेड़-बकरियों के बच्चों से होता है। यदि मैमथ की मृत्यु दर को नियंत्रित कर लिया जाए तो बकरी पालन में भारी मुनाफा होने से कोई नहीं रोक सकता। क्योंकि अगर आप बाजार में बकरी का बच्चा खरीदने जाते हैं तो शुरुआती दिनों में इसकी कीमत 1500 रुपये से लेकर 2,000 रुपये तक होती है।

Also Read: Disease Of Onion: प्याज की फसल में थ्रिप्स ने ढाया कहर, जानें इसका समाधान

Goat
Goat
Goat Farming:  सीआईआरजी ने शेड विकसित किया

लेकिन केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान (सीआईआरजी), मथुरा का नया शोध दिसंबर-जनवरी की कड़ाके की ठंड में भी मैमथ को निमोनिया जैसी घातक बीमारी से बचाएगा। सीआईआरजी ने एक विशेष शेड विकसित किया है। इसमें सोलर पैनल का उपयोग किया जाता है। इस तरह के विशेष शेड में एक साथ 40 बच्चे रह सकते हैं। यह 60 से 70 हजार रुपये में तैयार हो जाता है. लोहे की जाली की जगह लकड़ी का उपयोग करके इसकी लागत को और भी कम किया जा सकता है।

Advertisement
Goat
Goat
Goat Farming:  जानें इन खास शेड्स को खुद से तैयार करने का तरीका

सीआईआरजी के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. भुवनेश राय ने किसान तक को बताया कि बकरी पालन में बच्चों की मृत्यु दर को कम करने और उन्हें ठंड से बचाने के लिए सोलर ड्रायर शीतकालीन सुरक्षा प्रणाली विकसित की गई है। यह दोहरा काम करता है. सबसे पहले बात करते हैं बच्चों को निमोनिया से बचाने की, सिर्फ ठंड के मौसम में ही नहीं बल्कि गर्मियों में भी बच्चों को निमोनिया हो जाता है। इसलिए, ठंड के मौसम में बच्चों की सुरक्षा विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

Goat
Goat
Goat Farming: उच्च वाट क्षमता वाली लाइटें

परीक्षण के तौर पर हमने सीआईआरजी में इस प्रणाली को लोहे की जाली के ऊपर बनाया है। जाली के पीछे प्लास्टिक की शीटें लगी होती हैं। इसके पीछे कुशन पैनल हैं। इस तरह बाहर की ठंडी हवा शेड के अंदर नहीं जा पाती। अंदर अधिक गर्मी पैदा करने के लिए कुछ उच्च वाट क्षमता वाली लाइटें लगाई जाती हैं। शेड के अंदर दम घुटने से बचाने के लिए एग्जॉस्ट फैन लगाया गया है। शेड में समान बिजली आपूर्ति बनाए रखने के लिए सौर पैनलों का उपयोग किया गया है। यह बच्चों को बाहर के ठंडे मौसम से बचाता है।

Also Read: Business Ideas: अभी शुरू करें ये बिजनेस, न दुकान की जरूरत न मशीन की, फिर भी बिक्री होगी धड़ाधड़

Advertisement
Goat
Goat
Goat Farming:  सोलर शेड से सर्दी और बरसात के मौसम में हरे चारे की कमी दूर होगी

डॉ। बीएससी राय ने कहा कि शेड सर्दियों के लिए चारा भी उपलब्ध कराता है। जैसे बरसात के दिनों में हरा चारा प्रचुर मात्रा में होता है। लेकिन इसमें साइलेज या घास बनाने के लिए बहुत अधिक नमी होती है। और सूखने की बात करें तो बरसात के मौसम में हरे चारे को सुखाना बहुत मुश्किल हो जाता है। अतः इस विशेष सौर दराज का उपयोग बरसात के दिनों में हरे चारे को सुखाने के लिए भी किया जा सकता है। और जैसे ही सर्दी शुरू होती है, बकरियों को सूखा चारा खिलाया जा सकता है और साथ ही बच्चों को रखने के लिए सूखी घास की तरह जमीन पर लिटाया जा सकता है।

Advertisement

Disclaimer : इस खबर में जो भी जानकारी दी गई है उसकी पुष्टि Aapniagri.com द्वारा नहीं की गई है। यह सारी जानकारी हमें सोशल और इंटरनेट मीडिया के जरिए मिली है। खबर पढ़कर कोई भी कदम उठाने से पहले अपनी तरफ से लाभ-हानि का अच्छी तरह से आंकलन कर लें और किसी भी तरह के कानून का उल्लंघन न करें। Aapniagri.com पोस्ट में दिखाए गए विज्ञापनों के बारे में कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Related posts

Animal Husbandry: सर्दी के मौसम में बढ़ाना चाहते हैं गाय-भैंस का दूध तो उन्हें खिलाएं ये आहार

Aapni Agri Desk

Berseem farming: पशुओं के लिए पोषक भरा ओर रसीला चारा है बरसीम, जानें पशुओं के लिए कितना फायदेमंद

Rampal Manda

आत्मा योजना में प्रगतिशील किसानों और पशुपालकों को किया सम्मानित, जानें क्या है योजना और लाभ

Bansilal Balan

Leave a Comment